ताज़ा ख़बर
चिंता न करें, पुराने सोने पर भी मिलेंगे अच्छे दाम, ज्वेलरी दुकान जाकर बस करना होगा ये कामBIG BREAKING : बदले गए कई जिलों के आबकारी अधिकारी, सहायक आयुक्त और उपायुक्त सहित 17 अधिकारियों का ट्रांसफर, देखे सूचीबड़ी खबर : पंडो जनजाति पर फूटा दबंगों का गुस्सा, लगाया मछली चोरी का आरोप, जनचौपाल लगाकर बेरहमी से की पिटाई, 35 हजार जुर्माने का जारी किया फरमानजब पीछे से बजा म्यूजिक तो जाग उठा पंजाबी, बीच मैदान में भांगड़ा करते दिखें कप्तान विराट कोहली, सोशल मीडिया में वायरल हुआ वीडियोRAIPUR: महंगाई को लेकर विरोध: बैलगाड़ी में सवार होकर निगम मुख्यालय निकले महापौर ढेबर, तेल के दामो में लगातार बढ़ोत्तरी को लेकर किया प्रदर्शन, मोदी सरकार को लेकर कही ये बड़ी बातCG CRIME: युवक और युवती ने एक ही फंदे में फांसी लगाकर की खुदकुशी, दोनों एक दिन पहले घर से निकले थे, जांच में जुटी पुलिसअब 60 रुपये में भरवा सकेंगे पेट्रोल! मोदी सरकार करने जा रही है ये बड़ा ऐलान, कंट्रोल होगा महंगाईInternational yoga Day : रायपुर में ट्रांसजेंडर के समुदाय ने मनाया Health अंतरराष्ट्रीय विश्व योग दिवस, कहा दवा हमारे शरीर के अंदर है..इस खिलाड़ी ने खेली तूफानी पारी, 52 चौकों और 5 छक्‍कों से जड़ दिया तिहरा शतकबड़ी खबर : पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 880 ग्राम गांजा के साथ 2 आरोपी गिरफ्तार

G 7 देशों ने किया ऐतिहासिक करार, गूगल, फेसबुक जैसी टेक्नोलॉजी कंपनियों पर 15 फीसदी टैक्स लगाने का फैसला

Mahendra Kumar SahuJune 6, 20211min

 

 

लंदन : दुनिया के सबसे अमीर सात देशों ने अब एक बड़ा ऐतिहासिक फैसला लिया है. बहुराष्ट्रीय (multinational) तकनीकी कंपनियों पर ज्यादा टैक्स लगाने का फैसला। संयुक्‍त राज्‍य अमेरिका, ब्रिटेन समेत G7 समूह के सभी देश एक ऐतिहासिक डील (Historical Agreement) करने जा रहे हैं. यह डील गूगल, एप्‍पल, फेसबुक जैसी मल्‍टीनेशनल कंपनियों पर ऊंचा वैश्विक कर लगाने को लेकर है. इसके तहत इन कंपनियों पर 15 फीसदी का कॉरपोरेट टैक्‍स (Corporate Tax) लगाया जाएगा. सभी देशों के बीच इस पर सहमति बन गई है और डील पर 11 से 13 जून के बीच होने वाले कोर्नवाल में हस्‍ताक्षर होंगे. जी-7 समूह में शामिल सात देश हैं- ब्रिटेन, अमेरिका, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली और जापान.

 

सालों पुरानी मांग पर अब लगी मुहर

 

गैजेट्स 360 डिग्री में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक लंदन में हुई बैठक की अध्‍यक्षता करने के बाद ब्रिटेन के वित्त मंत्री (Finance Minister) ऋषि सुनक (Rishi Sunak) ने कहा, ‘जी-7 समूह के देशों के वित्त मंत्रियों ने ग्‍लोबल टैक्‍स सिस्‍टम में सुधार करने के लिए ऐतिहासिक करार पर सहमति जता दी है. ब्रिटेन लंबे समय से टैक्‍स में इन सुधारों की मांग कर रहा था. इससे ब्रिटेन के करदाताओं को बड़ा इनाम मिलेगा. साथ ही यह सुनिश्चित होगा कि सभी कंपनियां सही स्थान पर सही कर का भुगतान करें.’

 

ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक ने कहा है कि जी-7 समूह के देशों के वित्त मंत्रियों ने लंदन में बैठकों के दूसरे और अंतिम दिन करार पर हस्ताक्षर किए. सुनक ने कहा,

“मुझे इस बात की खुशी है कि कई सालों के विचार-विमर्श के बाद जी-7 के वित्त मंत्रियों ने आज वैश्विक कराधान प्रणाली में सुधार के लिए ऐतिहासिक करार किया है. इससे यह सुनिश्चित होगा कि सही कंपनियां सही स्थान पर सही कर का भुगतान करें.”

 

अब इन कंपनियों को देना होगा पर्यावरण पर होने वाले असर का बेवरा

जी7 देशों के वित्त मंत्रियों के बीच इस पर सहमति बन गई है कि अब कंपनियों को उन पर्यावरणीय प्रभावों के बारे में भी बताना होगा, जिनके पीछे वे जिम्‍मेदार हैं. ताकि निवेशक आसानी से निर्णय ले सकें कि उन्हें उन कंपनियों को फंडिंग करनी है या नहीं. बता दें कि जी7 समूह में – ब्रिटेन, अमेरिका, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली और जापान हैं.

 

कोर्नवाल में लगेगी मुहर

वित्त मंत्रियों की यह बैठक जी-7 के नेताओं की सालाना शिखर बैठक से पहले हुई है. इस करार पर जी7 की शिखर बैठक में मुहर लगेगी. शिखर सम्मेलन ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बॉरिस जॉनसन की अध्यक्षता में 11-13 जून तक कोर्नवाल में आयोजित किया जाएगा.

 

 

 

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें