ताज़ा ख़बर
CG NEWS : नदी में बहकर आया महिला का शव, इलाके में फैली सनसनी, पुलिस ने जताई हत्या की आशंकाBIG BREAKING : छत्तीसगढ़ के इस जिले में भी बैंड व धूमाल बजाने की मिली अनुमति, कलेक्टर ने जारी किया आदेशEXCLUSIVE : कभी जार्ज पंचम फिर महात्मा गांधी और अब राजीव गांधी के नाम से जाना जाता है राजधानी का यह चौक, जाने इसके पीछे की पूरी कहानीBIG BREAKING: अब रविवार को इतने समय तक खुल सकेगा व्यापार, कलेक्टर ने ज़ारी किए आदेशEXCLUSIVE : अंतरराज्यीय बस स्टैंड बना नशेड़ियों का ठिकाना, खाली पड़े बस स्टैंड में युवा कर रहे नशा, अश्लील कामों को दे रहे अंजाम, पुलिस अधिकारियों भी नहीं ले रहे एक्शन… देखे VIDEOबढ़ती महंगाई को लेकर महिला कांग्रेस का मोदी सरकार पर हमला, सांसद ने कसा तंज कहा- पहला शाह तो दूसरा शहंशाह….CG BIG BREAKING : कोविड सेंटर से भागे पांच आरोपी गिरफ्तार, सभी के सभी संक्रमित, टीआई की कर दी धुनाई, वाहनों में तोड़फोड़RAIPUR: अनलॉक में बड़ी राहत दे सकता है जिला प्रशासन, दोपहर बाद जारी हो सकती है नई गाइडलाइन, रविवार को भी खुल सकती है दुकानेंBIG BREAKING : दर्दनाक सड़क हादसा: कार और ट्रक की जबरदस्त टक्कर, एक ही परिवार के 10 लोगों की मौतRAIPUR : बारवीं की आंसरशीट मूल्यांकन के लिए शिक्षकों को नहीं आना होगा केंद्र, घर में ही करेंगे कॉपी चेक, माशिमं ने की व्यवस्था.

Race To Zero : 18 देशों के स्वास्थ्य संस्थान संयुक्त राष्ट्र की नेट जीरो दौड़ में शामिल

Mahendra Kumar SahuMay 28, 20211min

नई दिल्ली। 18 देशों में 3,000 से अधिक सुविधाओं का प्रतिनिधित्व करने वाले स्वास्थ्य(Health) देखभाल संस्थान प्रतिबद्ध हो गये हैं। रेस टू जीरो(Race To Zero) अभियान में शामिल होने वाले इन अस्पतालों और स्वास्थ्य प्रणालियों के पहले समूह की घोषणा हेल्थ केयर विदाउट हार्म, रेस टू जीरो हेल्थ केयर पार्टनर(Health care partner), संयुक्त राष्ट्र उच्च स्तरीय जलवायु चैंपियन(Nation High Level Climate Champion), COP25, गोंजालो म्यूनोज ने की। रेस टू जीरो के कड़े प्रवेश मानदंडों द्वारा मान्यता प्राप्त, दुनिया भर से 40 स्वास्थ्य देखभाल संस्थानों के करीब, 18 देशों में 3,000 से अधिक स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं का प्रतिनिधित्व करते हुए, ने 2030 तक उत्सर्जन को आधा करने और 2050 से पहले नेट जीरो तक पहुंचने के लिए सार्वजनिक प्रतिबद्धताएं की हैं।

छह महाद्वीपों(Continents) में फैले यह स्वास्थ्य देखभाल संगठन, अलग-अलग अस्पतालों, निजी स्वास्थ्य प्रणालियों(Private health systems) और प्रांतीय स्वास्थ्य विभागों सहित विभिन्न संस्थानों का प्रतिनिधित्व करते हैं। ये स्वास्थ्य संस्थान अन्य रेस टू जीरो सदस्यों से जुड़े हैं, जो पहले से ही अभियान में हैं और लगभग 4,000 के करीब हैं। इनमें शहर, कंपनियां, शैक्षणिक संस्थान और निवेशक शामिल हैं, और वैश्विक अर्थव्यवस्था के 15% से अधिक का प्रतिनिधित्व करते हैं। संयुक्त राष्ट्र समर्थित रेस टू जीरो अभियान 2030 तक वैश्विक उत्सर्जन को आधा करने और पेरिस समझौते के अनुरूप एक शून्य कार्बन दुनिया प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध राष्ट्रीय सरकारों के बाहर अब तक का सबसे बड़ा गठबंधन है।

 

हम बेहद खुश हैं कि ये स्वास्थ्य संस्थान रेस टू जीरो में शामिल हो गए हैं। जलवायु आपातकाल के मोर्चे पर चिकित्सकों के रूप में, इनका नेतृत्व एक स्वस्थ, स्वच्छ, और अधिक लचीली शून्य-कार्बन अर्थव्यवस्था के संक्रमण को तेज करने के लिए महत्वपूर्ण है, UNFCCC (यूएनएफसीसीसी) जलवायु चैंपियन गोंजालो म्यूनोज ने कहा।

 

 

 

वैश्विक उत्सर्जन को कम करने के लिए स्वास्थ्य क्षेत्र का डीकार्बनाइजेशन महत्वपूर्ण है। हेल्थ केयर विदाउट हार्म रिपोर्ट के अनुसार, इस क्षेत्र का जलवायु पदचिह्न वैश्विक नेट उत्सर्जन के 4.4% के बराबर है, जिसमें से अधिकांश सुविधा संचालन, आपूर्ति श्रृंखला और व्यापक अर्थव्यवस्था में उपयोग किए जाने वाले जीवाश्म ईंधन से उत्पन्न होता है। स्वास्थ्य देखभाल के डीकार्बनाइजेशन को निर्देशित करने के लिए, हेल्थ केयर विदाउट हार्म ने एक रोड मैप (नक्शा) तैयार किया है जो दशार्ता है कि सात उच्च-प्रभाव वाली कार्रवाइयों को लागू करने से 36 वर्षों में क्षेत्र के उत्सर्जन को 44 गीगाटन तक कम किया जा सकता है, जो प्रत्येक साल जमीन में 2.7 बिलियन बैरल से अधिक तेल रखने के बराबर।

 

अंतत: मारिया नीएरा, WHO (डब्ल्यूएचओ) निदेशक, पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन और स्वास्थ्य ने कहा कि, “इसमें एक स्वस्थ स्वास्थ्य रिकवरी दिख सकती है।ह्व

हेल्थकेर विदाउट हार्म (Healthcare Without Harm)(बिना नुकसान के स्वास्थ्य देखभाल) के स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र के रोड मैप (नक्शे) से पता चलता है कि कैसे सात उच्च प्रभाव वाली कार्रवाइयों को लागू करने से 36 वर्षों में क्षेत्र के उत्सर्जन को 44 गीगाटन तक कम किया जा सकता है, जो हर साल 2.7 अरब बैरल से अधिक तेल जमीन में रखने के बराबर है।

 

 

 

 

 

 

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories