ताज़ा ख़बर
CORONA BREAKING : प्रदेश में आज मिले 13 हजार 846 नए मरीज, 212 की मौत, देखिए जिलेवार आंकड़ेक्या देश में लगेगा सम्पूर्ण लॉकडाउन? एक तरफ दूसरी का कहर तो दूसरी ओर तीसरी लहर का भय…न्यू स्ट्रेन को बताया जा रहा 15 फीसदी ज्यादा खतरनाकRAIPUR : भाजयुमो ने लगातर तीन दिनों तक मुफ्त ऑक्सीजन सिलेंडर वितरण करने का लिया संकल्पCG BREAKING: नशे की लत, होम्योपैथिक दवा ने ली 8 की जान, 5 की हालत गंभीर, पूरी मोहल्ले की हो रही है जांचBREAKING: भारत के मशहूर क्रिकेटर का कोरोना से निधन, कुछ दिन पहले अस्पताल में कराया गया था भर्तीशर्मनाक: पिता की अस्थियां लेने आए बेटे श्मशान में ही लड़ पड़े, खूब चले लात-घूसे, इस वजह से हुआ विवाद, देखें VIDEORAIPUR BREAKING: शराब की तस्करी करते 2 युवकों को रेलवे पुलिस ने धरदबोचावन विभाग की जमीन पर किया जा रहा अवैध निर्माण, ग्रामीणों ने किया कड़ा विरोधRAIPUR : आज से लॉकडाउन-4 की शुरुआत, खुल गई गली-मोहल्ले की किराना दुकानें, इन सेवाओं को भी छूट, नियमों का उल्लंघन करने पर होगी सख्त कार्रवाईCG BREAKING : लॉकडाउन के दौरान शराब नहीं मिली तो पी ली अल्कोहल युक्त सिरप, 6 लोगों की मौत, 3 गंभीर, जांच में जुटी पुलिस

Vaccination : बड़े पैमाने पर हो रहा वैक्सीनेशन, देश के जिलों में 10 प्रतिशत आबादी को ही लगी वैक्सीन, कोरोना की लहर में तेजी

Mahendra Kumar SahuMay 5, 20211min


देश में संक्रमित के साथ मौत का आकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है वही देश में कोरोना की चेन तोड़ने की एक मात्र उम्मीद वेक्सीनेशन है
देश में कोरोना के बढ़ते कहर को रोकने के लिए बढ़े पैमाने पर वैक्सीनेशन हो रहा रह है, लेकिन तीन महीने से चल रहा वैक्सीनेशन कार्यक्रम काफी धीमा है. इंटीलिजेंस यूनिट (DIU) ने जब जिलेवार वैक्सीनेशन की पड़ताल की तो पता चला कि देश के 726 जिलों में से सिर्फ 37 जिले में ही आबादी के 20 फीसदी हिस्से को वैक्सीन की डोज दी गई है.

CoWin ऐप डेटा के मुताबिक, देश के दो जिले पुडुचेरी का माहे और गुजरात का जामनगर, उन जिलों में है, जहां वैक्सीनेशन कार्यक्रम सबसे तेजी से चला है. इन दोनों जिलों में करीब एक तिहाई लोगों को वैक्सीन की डोट लगाई जा चुकी है. देश के अधिकतर जिलों में टीकाकरण अभियान रेंग रहा है.

देश के करीब 58 फीसदी जिलों में 10 फीसदी से कम आबादी को ही वैक्सीन की डोज दी गई है, जबकि 37 फीसदी जिले ऐसे हैं, जहां 10 से 20 फीसदी आबादी को ही टीका लगाया जा सका है. कर्नाटक के बीजापुर और असम के दक्षिण सालमारा में सबसे कम आबादी को टीका लगाया है. यानी दोनों जिले सबसे बुरा प्रदर्शन करने वाले जिलों की लिस्ट में ऊपर हैं.

CoWIN के आंकड़ों के अनुसार, उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और पूर्वोत्तर राज्यों के कई जिलों में अभी तक 10 फीसदी आबादी को भी टीका नहीं लगाया जा सका है. हालांकि, राजस्थान, गुजरात, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और केरल के अधिकांश जिलों में 10 फीसदी से अधिक आबादी को टीका लगाया जा चुका है.

वैक्सीनेशन अभियान की ट्रैकिंग
DIU ने CoWIN डेटा की मदद से भारत का जिला-वार टीकाकरण कवरेज नक्शा तैयार किया है. यह नक्शा जिलों की आबादी और वहां लगे टीकों के आधार पर बनाया गया है. जिलों की आबादी का आकलन 2020 के लिए वर्ल्डपॉप डेटा पर आधारित है और हार्वर्ड विश्वविद्यालय में Geographic Insights Lab के वैज्ञानिकों द्वारा गणना की गई है.

‘आवर वर्ल्ड इन डेटा’ के अनुसार, भारत में अब तक कोरोना के दो करोड़ से अधिक मामले सामने आ चुके हैं. अमेरिका के बाद भारत कोरोना संक्रमण के मामले में दूसरे नंबर पर है. कोरोना ने देश में पिछले साल मार्च से अबतक 2.2 लाख से ज्यादा लोगों की जान ले ली है. कोरोना की दूसरी लहर लोगों की जिंदगी पर भारी पड़ रही है.

1 मई से केंद्र सरकार ने 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के सभी लोगों के लिए टीकाकरण अभियान शुरू किया है. हालांकि, वैक्सीन की कमी के कारण कई प्रदेशों में अभी टीकाकरण शुरू भी नहीं हो पाया है. सरकार निकट भविष्य में टीकाकरण अभियान को और तेज करने की कोशिश कर रही है


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories