ताज़ा ख़बर
ताजा रिपोर्ट : भारत की जीडीपी ग्रोथ में भारी कटौती, बढ़ सकता है सरकार पर कर्ज!CG BIG BREAKING : छत्तीसगढ़ में कोरोना के बाद अब ब्लैक फंगस ने दी दस्तक, 15 मरीज एम्स में भर्ती, ज्यादातर मरीजों के आंखों में इंफैक्शनबड़ी खुशखबरी : इस अक्षय तृतीया आपके खाते में आएगा 2000 रुपये, जानें कैसे मिलेगा इसका लाभ, पीएम मोदी ने योजना को दी हरी झंडीशेयर बाजार : बैंकिंग, तेल एवं बिजली में दिख रहा उछाल, अधिकतर एशियाई बाजारों में गिरावट दर्ज, एनटीपीसी 4.40 फीसदी चढ़ासाइंटिस्ट की चेतावनी, भारत में नहीं थमेगा आसानी से कोरोना, जुलाई तक थमने की संभावनाSHARE MARKET : लाल निशान पर खुला आज बाजार, सेंसेक्स में भी आई गिरावटBREAKING : पुलिस अधीक्षक ने की बड़ी कार्यवाही : महामारी के बीच ड्यूटी से गैरहाजिर रहने वाले 15 अधिकारी-कर्मचारी निलंबितEXCLUSIVE : 25 सालों में पहली बार गर्मी ने मई में दिलायी राहत, बिहार में देखे जाते रहे हैं ऐसे मौसम, जानें क्या है वजह…BIG BREAKING : केमिकल फैक्टरी में लगी भीषण आग, लगातार हो रहे बड़े धमाके, मौके पर दमकल की 10 गाड़ियांBIG BREAKING : प्रदेश के इस जिले में कल से तीन दिनों का सख्त लॉकडाउन, कलेक्टर नम्रता गांधी ने दिया आदेश

निजी अस्पताल बना लूट का अड्डा, लोगो की बढ़ी मुसीबत

Priyansha LAZARUSMay 4, 20211min

 


 

योगेश सिंह राजपूत, बेमेतरा। निजी अस्पताल बना लूट का अड्डा, जिले में इन दिनों निजी अस्पताल की मनमानी से आम लोग परेशान हैं। अधिकारी भी जांच का हवाला देकर अपना पल्ला झाड़ते नजर आ रहे हैं। पूरा मामला बेमेतरा जिला मुख्यालय में रायपुर रोड पर स्थित A k मल्टी स्पेशलिस्ट हॉस्पिटल का है जहां पर मामूली उपचार के लिए पिंटू साहू ग्राम भंसूली अपनी मां का उपचार कराने लाया था। जिसे अस्पताल के डॉक्टर द्वारा गंभीर बीमारी है कहा कर अस्पताल में भर्ती कर लिया गया। मरीज के परिजन को किसी भी चीज की जानकारी नहीं दे रहे थे छह-सात दिन बीत जाने के बाद मरीज का पुत्र पिंटू साहू छुट्टी की मांग करने लगा तो। A k मल्टी स्पेशलिस्ट हॉस्पिटल में डेढ़ लाख रुपए का बिल थमाया।

 

मरीज के परिजन द्वारा बिल अदा नहीं करने पर मरीज को बंधक बनाकर रख लिया गया। पिंटू साहू ने मदद के लिए मीडिया व जिला प्रशासन से गुहार लगाई। जिले के अधिकारी व मुख्य जिला चिकित्सा अधिकारी अपनी टीम के साथ A k मल्टी हॉस्पिटल पहुंचे। तब जाके अस्पताल के डक्टर ने 85 हजार रुपया नगदी लेकर मरीज को छुट्टी दी। अधिकारी भी अस्पताल प्रबंधक के ऊपर जांच का हवाला देकर अपना पल्ला झाड़ते नजर आएं। अस्पताल प्रबंधक द्वारा मरीज के परिजनों को इलाज में कितना खर्च क्या दवाई लग रहा है। कुछ भी नहीं बताया गया था, कुछ भी जानकारी नहीं देते थे। देखना यह होगा कि निजी अस्पताल के ऊपर क्या कार्यवाही होता है.


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories