ताज़ा ख़बर
इन दो जिलों के कलेक्टरों ने शादियों पर लगाई रोक, पहले से मिली अनुमति भी होंगे निरस्त, आदेश जारीBIG BREAKING : नए स्ट्रेन मिलने के बाद बस्तर में अलर्ट, इस जिले में 16 मई तक बढ़ाई गई लॉकडाउन, कलेक्टर ने जारी किया आदेशCORONA BREAKING : प्रदेश में आज मिले 13 हजार 628 नए मरीज, 208 की मौत, देखिए जिलेवार आंकड़ेबड़ी खबर : राजधानी में चश्मा दुकानों को खोलने की मिली अनुमति, जिला प्रशासन ने जारी किया आदेशबिना पासवर्ड लॉगिन होगा गूगल अकाउंट, जल्द आ रही नई फीचर, जानें कैसी होगी नई फीचरBIG BREAKING : भूपेश सरकार ने दी किसानों को बड़ी राहत, 21 मई को किसान न्याय योजना की पहली किस्त देने का किया ऐलानयुवा कांग्रेस ने जरूरतमंद परिवारों में राशन वितरण कर पेश की मानवता की मिसालजेल में तैनात अधिकारियों की लापरवाही, मुख्य प्रहरी और तीन प्रहरी पर गिरी निलंबन की गाज, कैदियों के फरार होने के बाद गृह मंत्री साहू ने दिए थे कार्रवाई के निर्देशBIG BREAKING : अंडरवर्ल्‍ड डॉन छोटा राजन की कोरोना से मौत! लक्षण मिलने के बाद 12 दिन पहले एम्‍स में किया गया था भर्तीबड़ी खबर : कहर बनकर टूट रही महामारी, एक ही गांव के 17 लोगों की मौत, मचा हड़कंप

शिक्षकों को कोरोना वारियर्स का दर्जा दे छत्तीसगढ़ सरकार: अंकुर जैन

Sanjay sahuMay 4, 20211min

 

 

एस के मिनोचा: मनेन्द्रगढ़ – पूरे प्रदेश में कोरोना महामारी का संक्रमण दिनों-दिन अपना पैर पसारता जा रहा हैं । मोहल्ला, गांव, नगर कोई भी अछूता नही रहा। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के जिलाध्यक्ष अंकुर जैन ने छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि इस कठिन दौर में हमारे प्रदेश के शिक्षकगण अपनी पूरी निष्ठा एव ईमानदारी से कोरोना रोकथाम, जन जागरूकता के लिए अपनी ड्यूटी निभा रहे है। डयूटी के दौरान अब तक छत्तीसगढ़ में सैकड़ों शिक्षकों ने निर्वहन करते हुए अपने प्राणों की आहुति दी हैं, फिर भी छत्तीसगढ़ भूपेश सरकार उन्हें कोरोना वारियर्स का दर्जा न देकर शिक्षकों के साथअन्याय कर रही हैं। जिससे पूरे प्रदेश में शिक्षक सहित उनके परिवार में सरकार के प्रति रोष ब्याप्त हैं।

 

भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा जिलाध्यक्ष अंकुर जैन ने आगे कहा और मांग की कि शिक्षकों का हमारे देश मे सर्वोच्च स्थान हैं शिक्षकों को कोरोना वारियर्स का दर्जा शीघ्र देकर उन्हें सरकार सम्मान दे व डयूटी के दौरान मृत हुए शिक्षकों को शहीद का दर्जा देकर उनके परिवार को 50 लाख की सम्मान राशि भी दे साथ ही शिक्षक वर्ग के लिए 50 लाख का बीमा कवर का भी प्रावधान करे। शिक्षक ही हैं जो शासन के आदेश का अक्षरश: पालन करते हुए कोई भी कार्य हो जनगणना, संपर्क अभियान, सर्वे, चुनाव और अभी कोरोना काल में शिक्षक वैक्सीनशन में, नाकों पर वाहन चेकिंग, कोविड कंट्रोल रूम, कोरोना सर्वे, क्वारंटाइन सेन्टर की चौकीदारी यहां तक कि कुछ जिलों में शवों को जलाने में सहयोग तक मे शासन के आदेश का पालन कर कार्य कर रहे हैं । शिक्षक सरकार की रीढ़ की हड्डी होती हैं। लेकिन दुर्भाग्य हैं इस भूपेश सरकार में शिक्षकों का सम्मान नही तो किसका सम्मान होगा।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories