ताज़ा ख़बर
ताजा रिपोर्ट : भारत की जीडीपी ग्रोथ में भारी कटौती, बढ़ सकता है सरकार पर कर्ज!CG BIG BREAKING : छत्तीसगढ़ में कोरोना के बाद अब ब्लैक फंगस ने दी दस्तक, 15 मरीज एम्स में भर्ती, ज्यादातर मरीजों के आंखों में इंफैक्शनबड़ी खुशखबरी : इस अक्षय तृतीया आपके खाते में आएगा 2000 रुपये, जानें कैसे मिलेगा इसका लाभ, पीएम मोदी ने योजना को दी हरी झंडीशेयर बाजार : बैंकिंग, तेल एवं बिजली में दिख रहा उछाल, अधिकतर एशियाई बाजारों में गिरावट दर्ज, एनटीपीसी 4.40 फीसदी चढ़ासाइंटिस्ट की चेतावनी, भारत में नहीं थमेगा आसानी से कोरोना, जुलाई तक थमने की संभावनाSHARE MARKET : लाल निशान पर खुला आज बाजार, सेंसेक्स में भी आई गिरावटBREAKING : पुलिस अधीक्षक ने की बड़ी कार्यवाही : महामारी के बीच ड्यूटी से गैरहाजिर रहने वाले 15 अधिकारी-कर्मचारी निलंबितEXCLUSIVE : 25 सालों में पहली बार गर्मी ने मई में दिलायी राहत, बिहार में देखे जाते रहे हैं ऐसे मौसम, जानें क्या है वजह…BIG BREAKING : केमिकल फैक्टरी में लगी भीषण आग, लगातार हो रहे बड़े धमाके, मौके पर दमकल की 10 गाड़ियांBIG BREAKING : प्रदेश के इस जिले में कल से तीन दिनों का सख्त लॉकडाउन, कलेक्टर नम्रता गांधी ने दिया आदेश

विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस 2021 : जानिए क्यों मनाया जाता है यह दिन और क्या है इसका महत्व

Priyansha LAZARUSMay 3, 20211min


 

 

नई दिल्ली । दुनियाभर में 3 मई को विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। यह दिन हर वर्ष प्रेस की स्वतंत्रता के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है। साथ ही यह दिन दुनियाभर की सरकारों को 1948 के मानव अधिकारों की सार्वभौम घोषणा के अनुच्छेद 19 के तहत अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार का सम्मान करने और उसे बनाए रखने के लिए अपने कर्तव्यों की याद दिलाता है।

आपको बता दे यूनेस्को महासम्मेलन की अनुशंसा के बाद दिसंबर 1993 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 3 मई को प्रेस स्वतंत्रता दिवस मनाने की घोषणा की थी। तभी से हर साल 3 मई को ये दिन मनाया जाता है। हर वर्ष यह दिन किसी थीम पर आधारित होता है। इस बार इसकी थीम है ‘पत्रकारिता बिना डर या एहसान के’।  इस दिवस का उद्देश्य प्रेस की आजादी के महत्व के प्रति जागरूकता फैलाना है। साथ ही ये दिन अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को बनाए रखने और उसका सम्मान करने की प्रतिबद्धता की बात करता है।

वही प्रेस की आजादी के महत्व के लिए दुनिया को आगाह करने वाला ये दिन बताता है कि लोकतंत्र के मूल्यों की सुरक्षा और उसे बहाल करने में मीडिया अहम भूमिका निभाता है। इस कारण सरकारों को पत्रकारों की सुरक्षा भी सुनिश्चित करनी चाहिए।  अफ्रीका के पत्रकारों ने प्रेस की आजादी के लिए साल 1991 में पहल की थी। उन पत्रकारों ने 3 मई को प्रेस की आजादी के सिद्धांतों से संबंधित एक बयान जारी किया था, जिसे डिक्लेरेशन ऑफ विंडहोक के नाम से जाना जाता है। जिसके बाद पहली बार 1993 को संयुक्त राष्ट्र ने ये दिवस मनाने की घोषणा की।

 

+इसके साथ ही बता दे दुनियाभर में पत्रकारों को तरह-तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। सऊदी पत्रकार जमाल खशोगी, भारतीय पत्रकार गौरी लंकेश और उत्तरी आयरलैंड की पत्रकार लायरा मक्की की हत्याओं ने एक बार फिर प्रेस की सुरक्षा पर बड़ा सवाल खड़ा कर दिया है। दुनियाभर में पत्रकारों और प्रेस को उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है। अगर कोई मीडिया संस्थान सरकार की मर्जी से नहीं चलता तो उसे तरह-तरह से प्रताड़ित किया जाता है। मीडिया संगठनों को बंद करने तक के लिए मजबूर किया जाता है।पत्रकारों के साथ मारपीट की जाती है और उन्हें धमकियां तक दी जाती हैं। यही ऐसी चीजें हैं जो अभिव्यक्ति की आजादी में बाधाएं हैं। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए इस दिन को मनाया जाता है।

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories