ताज़ा ख़बर
CG BIG BREAKING : छत्तीसगढ़ में कोरोना के बाद अब ब्लैक फंगस ने दी दस्तक, 15 मरीज एम्स में भर्ती, ज्यादातर मरीजों के आंखों में इंफैक्शनबड़ी खुशखबरी : इस अक्षय तृतीया आपके खाते में आएगा 2000 रुपये, जानें कैसे मिलेगा इसका लाभ, पीएम मोदी ने योजना को दी हरी झंडीशेयर बाजार : बैंकिंग, तेल एवं बिजली में दिख रहा उछाल, अधिकतर एशियाई बाजारों में गिरावट दर्ज, एनटीपीसी 4.40 फीसदी चढ़ासाइंटिस्ट की चेतावनी, भारत में नहीं थमेगा आसानी से कोरोना, जुलाई तक थमने की संभावनाSHARE MARKET : लाल निशान पर खुला आज बाजार, सेंसेक्स में भी आई गिरावटBREAKING : पुलिस अधीक्षक ने की बड़ी कार्यवाही : महामारी के बीच ड्यूटी से गैरहाजिर रहने वाले 15 अधिकारी-कर्मचारी निलंबितEXCLUSIVE : 25 सालों में पहली बार गर्मी ने मई में दिलायी राहत, बिहार में देखे जाते रहे हैं ऐसे मौसम, जानें क्या है वजह…BIG BREAKING : केमिकल फैक्टरी में लगी भीषण आग, लगातार हो रहे बड़े धमाके, मौके पर दमकल की 10 गाड़ियांBIG BREAKING : प्रदेश के इस जिले में कल से तीन दिनों का सख्त लॉकडाउन, कलेक्टर नम्रता गांधी ने दिया आदेशबड़ी खबर : कोरोना वैक्सीनेशन, भारत बायोटेक को 2 से 18 साल के बच्चों पर ट्रायल की मिली मंजूरी, तीसरी लहर से दिलाएगी राहत

Corona Study : रिसर्च में किया गया दावा, 94% कम होता है अस्पताल जाने का खतरा अगर समय पर किया है ये काम !

Som dewanganApril 30, 20211min


 

नई दिल्ली : पिछले एक साल से जिस वायरस ने देश दुनिया में हाहाकार मचा कर रहा है, उसे रोकने के लिए दुनिया भर के वैज्ञानिक तमाम तरह के सार्थक प्रयास कर रहे है. वैक्सीन को लेकर कई तरह की अफवाह भी बाजार में फ़ैल रही है मगर क्या आपको पता है की एक स्टडी में वैक्सीन से जुडी एक अहम बात सामने आई है. ऐसे में दुनियाभर में कोरोनावायरस से बचाव के लिए लोगों को वैक्सीन देने का काम तेजी से चल रहा है. देखा गया है कि वैक्सीन लगवाने के बाद कोविड-19 से संक्रमित लोगों में हॉस्पिटल में भर्ती होने और मौत का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है

आपको बता दे की बीते दिनों फेडरल स्टडी (Federal Study) ने इस बात पर मुहर लगते हुए दावा किया है, की कोरोना वायरस जैसी बड़ी महामारी से लड़ने के लिए Pfizer-BioNTech और Moderna वैक्सीन इन दोनों को सबसे ज़यादा प्रभावशाली माना गया है. स्टडी में ये भी सामने आया है कि वृद्ध वयस्क, जिनमें बीमारी होने और मौत का खतरा अधिक होता है, उनमें ये टीका लगवाने के बाद अस्पताल में भर्ती होने की संभावना भी काफी कम हो गई.

READ MORE BIG BREAKING : नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचने वाले पांच आरोपी गिरफ्तार, 96 रेमडेसिविर नकली इंजेक्शन बरामद

 

अब आपको एक और बात की जानकारी बता दे की सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन(Center for Disease Control and Prevention) ने कहा कि

ये आश्चर्य की बात नहीं है, कोरोना वैक्सीन के परिणाम इस बात का यकीन दिला रहे हैं, क्योंकि इनसे अमेरिका में वास्तविक सबूत मिले हैं कि दोनों टीके कोविड-19(Covid 19) की गंभीर बीमारी को रोकने में काफी मददगार साबित हुए हैं, जैसे वे अपने क्लिनिकल ट्रायल(trial) में हुए थे.

 

 

 

 

अक्सर से बात देखी गई है की बीमारी का जोखिम उम्र के साथ बढ़ता है और ज्यादा उम्र वाले लोगों में बीमारी का अधिक खतरा होता है, इसलिए सीडीसी ने उन्हें टीकाकरण के लिए प्राथमिकता दी. CDC और बाकी ग्रुपों द्वारा किए गए कोरोनोवायरस टीकों के एनालिसिस में वास्तविक जीवन की स्थितियों में कोरोनोवायरस टीकों के फायदे और उनके असर का आकलन किया गया है.

यूके (UK) में बुधवार को जारी एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि Pfizer-BioNTech या Oxford-AstraZeneca वैक्सीन की एक खुराक से कोरोनोवायरस का ट्रांसमिशन लगभग 50% तक कम हो सकता है.पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड के शोधकर्ताओं ने कहा कि टीकाकरण के लगभग दो सप्ताह बाद सुरक्षा देखी गई है.

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड के अध्ययन में पाया गया है कि वैक्सीन की एक खुराक लेने के तीन सप्ताह बाद कोरोनोवायरस से संक्रमित होने वाले लोग, वैक्सीन न लेने वाले लोगों की तुलना में अपने कॉन्टैक्ट में आए लोगों में 38 से 49% कोरोना के इंफेक्शन को कम ट्रांसफर कर रहे थे. यह अध्ययन 24,000 परिवारों के 57,000 लोगों पर किया गया, जिन्हें टीकाकरण वाले व्यक्ति के संपर्क में माना गया था.

 

READ MORE लिव-इन रिलेशन का भयानक अंत, सुसाइड से पहले मां को फोन कर कही यह बात, जानकर काँप उठेगी रूह


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories