ताज़ा ख़बर
CORONA BREAKING : प्रदेश में कोरोना ने तोड़े सभी रिकार्ड, आज मिले 14 हजार से ज्यादा नए मरीज, 97 लोगों ने तोड़ा दमइस कंपनी ने अपने ग्राहकों को दिया बड़ा तोहफा, 398 रुपये वाले प्लान में किया बदलाव, अब इतने दिनों तक उठा सकते है लाभछत्तीसगढ़ में कोरोना से निपटने अब तक 850 करोड़ आवंटित, सीएम बघेल ने कहा- नहीं होने देंगे संसाधनों की कमीप्रदेश में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मरीज, छत्तीसगढ़ पहुंची केंद्र की 11 सदस्यीय टीम, अलग अलग जिलों का करेगी दौराBIG BREAKING : धमतरी के बाद अब इस जिले में लॉकडाउन का ऐलान, किराना और सब्जी की दुकानें भी रहेगी बंद, कलेक्टर ने जारी किया आदेशBIG BREAKING : धमतरी के बाद अब इस जिले में लॉकडाउन का ऐलान, किराना और सब्जी की दुकानें भी रहेगी बंद, कलेक्टर ने जारी किया आदेशBIG BREAKING : इस जिले में लगा सबसे लंबा लॉकडाउन, इतने दिनों तक बंद रहेंगे दुकानें, कलेक्टर ने जारी किया आदेशग्रामीण इलाकों में फिर शुरू होगा क्वारंटाइन सेंटर, राज्य सरकार ने सभी कलेक्टरों को जारी किया निर्देशसड़क पर उतरे महापौर ढेबर, कोरोना की दूसरी लहर से लड़ रहे लड़ाईकोरोना पर राजनीतिक बवाल! रमन ने उठाया रोड सेफ्टी पर सवाल, तो कांग्रेस ने बोला जमकर हमला

BIG BREAKING : देश के नए मुख्य न्यायधीश होंगे न्यायमूर्ति एनवी रमन्ना, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी

Mahendra Kumar SahuApril 6, 20211min

 


 

नई दिल्ली: देश के अगले मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति एनवी रमन्ना होंगे. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इनके नाम पर मंजूरी दे दी है। 24 अप्रैल को जस्टिस रमन्ना शपथ लेंगे. जस्टिस रमना वर्तमान चीफ जस्टिस एस ए बोबड़े के बाद सुप्रीम कोर्ट के दूसरे वरिष्ठतम जज हैं. 24 मार्च को वर्तमान चीफ जस्टिस एस ए बोबड़े ने उनके नाम की सिफारिश सरकार को भेजी थी.

 

 

बता दें कि सर्वोच्च न्यायालय में सीनियर जस्टिस एनवी रमना का पूरा नाम नथालपति वेंकट रमण हैं. उनका जन्म 27 अगस्त 1957 को आंध्र प्रदेश के कृष्ण जिले के पोन्नवरम गाँव में एक कृषि परिवार में हुआ था. पहले, वह दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश और आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश भी थे. उन्होंने आंध्र प्रदेश न्यायिक अकादमी के अध्यक्ष के रूप में भी काम किया है. वह 26 अगस्त 2022 को सेवानिवृत्त होंगे.

 

वह 10 फरवरी, 1983 को वकील बने थे. जस्टिस एन वी रमना ने आंध्र प्रदेश, मध्य और आंध्र प्रदेश प्रशासनिक न्यायाधिकरणों और भारत के सर्वोच्च न्यायालय में सिविल, आपराधिक, संवैधानिक, श्रम, सेवा और चुनाव मामलों में उच्च न्यायालय में प्रैक्टिस की है. उन्हें संवैधानिक, आपराधिक, सेवा और अंतर-राज्यीय नदी कानूनों में विशेषज्ञता हासिल है.

 

कई सरकारी संगठनों में पैनल काउंसिल के तौर पर किया काम


 

उन्होंने विभिन्न सरकारी संगठनों के लिए पैनल काउंसल के रूप में भी काम किया है. वह केंद्र सरकार के लिए अतिरिक्त स्थायी वकील और हैदराबाद में केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण में रेलवे के लिए स्थायी वकील के रूप में कार्य कर चुके हैं. उन्होंने आंध्र प्रदेश के एडिशनल एडवोकेट जनरल के रूप में भी कार्य किया है. उन्हें 27 जून 2000 को आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था.

 

2013 में दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश बने


 

जस्टिस एन वी रमना 10 मार्च 2013 से 20 मई 2013 तक आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के रूप में कार्यरत रहे. उन्होंने कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में भाग लिया और भारत और विदेशों में आयोजित और कानूनी महत्व के विभिन्न विषयों पर पेपर्स सबमिट किए. वह दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में साल 2013 को नियुक्त हुए थे.

 

पिछले कुछ सालों में जस्टिस रमना का सबसे चर्चित फैसला जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट की बहाली के रहा है. चीफ जस्टिस के कार्यालय को सूचना अधिकार कानून (RTI) के दायरे में लाने का फैसला देने वाली बेंच के भी जस्टिस रमना सदस्य रह चुके हैं.

 

XCheck Digital Badge


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories