ताज़ा ख़बर
CORONA BREAKING : प्रदेश में कोरोना का कहर जारी, आज मिले में 10 हजार से ज्यादा नए मरीज, 82 लोगों ने तोड़ा दमBIG BREAKING : गरियाबंद में लगा 10 दिनों का लॉकडाउन, इन जिलों में भी कुछ देर में जारी होगा आदेशBIG BREAKING : बिलासपुर में 8 दिनों के लिए लॉकडाउन का ऐलान, आवश्क सेवाओं को छोड़कर बाकी सभी दुकानें रहेंगी बंदBIG BREAKING: RSS का पूर्व प्रचारक निकला हवस का पुजारी, 13 साल के बच्चे से कराता था ये कामCG BREAKING : अब इस जिले में लॉकडाउन लगाने की तैयारी, कुछ देर में जारी होगा आदेशBREAKING : प्रदेश में जल्द लग सकता है सम्पूर्ण लॉकडाउन, आज की बैठक में सीएम लेंगे फैसलाIPL 2021: ऋषभ पंत ने धोनी को भी छोड़ा पिछे, कप्तानी के सफर का किया आगाजCORONA BREAKING : प्रदेश में कोरोना ने तोड़े सभी रिकार्ड, आज मिले 14 हजार से ज्यादा नए मरीज, 97 लोगों ने तोड़ा दमइस कंपनी ने अपने ग्राहकों को दिया बड़ा तोहफा, 398 रुपये वाले प्लान में किया बदलाव, अब इतने दिनों तक उठा सकते है लाभछत्तीसगढ़ में कोरोना से निपटने अब तक 850 करोड़ आवंटित, सीएम बघेल ने कहा- नहीं होने देंगे संसाधनों की कमी

डॉक्टरों की बड़ी लापरवाही, इलाज के लिए घंटों तड़पती रही मजदूर की बेटी, जमीन पर तोड़ा दम

Ammar RazaMarch 4, 20211min


 

मुरैना। मध्यप्रदेश के मुरैना जिले में स्तिथ कैलारस अस्पताल में तैनात डॉक्टर की एक बड़ी लापरवाह सामने आई है। जहाँ इस लापरवाही का खामियाजा गरीब परिवार की बच्ची को अपनी जान देकर चुकाना पड़ा। अस्पताल में युवती इलाज के लिए एक घंटे तक जमीन में पड़ी रही लेकिन उसे इलाज नसीब नहीं हुआ और उसने वही दम तोड़ दी. इस तरह की घटना साफ़ दर्शाती है की कैलारस अस्पताल में तैनात डॉक्टर किस प्रकार से इलाज करने के दौरान लापरवाही बरत रहे है.

दरअसल कैलारस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में गुरुवार को किसी जहरीले जीव के द्वारा काटने पर युवती को इलाज के लिए लाया गया। लेकिन उसे 1 घंटे तक इलाज नहीं मिला और वह जमीन पर पड़ी रही लेकिन यहां पदस्थ डॉक्टरों ने इलाज करना मुनासिब नहीं समझा। युवती दर्द से जमीन पर पड़ी कराहती रही, लेकिन यहां न तो कोई नर्स मौजूद थी और ना ही डॉक्टर उनको ठीक से मॉनिटर कर रहे थे। यहां तक कि एंबुलेंस भी उपलब्ध नहीं थी, जिससे उपचार के लिए आई महिला को जिला अस्पताल रेफर किया जा सके। बाद में परिजनों ने 2 हज़ार रूपये देकर एंबुलेंस बुक कराई जो मरीज को जिला अस्पताल के लिए लेकर गए।

मरीज के पिता गोपाल चिमनी भट्टा हरलालपुरा आंतरी में बतौर मजदूर काम करते हैं। दतिया जिले के सेवड़ा के गोपाल ने बताया कि उनकी बेटी तबीयत संभवत किसी जीव-जंतु द्वारा काटे जाने के बाद सांस लेने की तकलीफ के चलते कैलारस अस्पताल में लेकर आए। महिला को अस्पताल में लाये भी एक घंटा हो गया लेकिन इलाज करने के लिए वहां डॉक्टर तो दूर लोई नर्स भी मौजूद नहीं थी, जब काफी देर महिला तड़पती रही और इस बात की जानकारी मीडिया को लगी। तब आनन-फानन में प्राइवेट एम्बुलेंस बुलाकर मरीज को मुरैना के लिए रेफर किया गया, लेकिन युवती ने दम तोड़ दिया।

 

XCheck Digital Badge


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories