ताज़ा ख़बर
CORONA BREAKING : प्रदेश में कोरोना का कहर जारी, आज मिले में 10 हजार से ज्यादा नए मरीज, 82 लोगों ने तोड़ा दमBIG BREAKING : गरियाबंद में लगा 10 दिनों का लॉकडाउन, इन जिलों में भी कुछ देर में जारी होगा आदेशBIG BREAKING : बिलासपुर में 8 दिनों के लिए लॉकडाउन का ऐलान, आवश्क सेवाओं को छोड़कर बाकी सभी दुकानें रहेंगी बंदBIG BREAKING: RSS का पूर्व प्रचारक निकला हवस का पुजारी, 13 साल के बच्चे से कराता था ये कामCG BREAKING : अब इस जिले में लॉकडाउन लगाने की तैयारी, कुछ देर में जारी होगा आदेशBREAKING : प्रदेश में जल्द लग सकता है सम्पूर्ण लॉकडाउन, आज की बैठक में सीएम लेंगे फैसलाIPL 2021: ऋषभ पंत ने धोनी को भी छोड़ा पिछे, कप्तानी के सफर का किया आगाजCORONA BREAKING : प्रदेश में कोरोना ने तोड़े सभी रिकार्ड, आज मिले 14 हजार से ज्यादा नए मरीज, 97 लोगों ने तोड़ा दमइस कंपनी ने अपने ग्राहकों को दिया बड़ा तोहफा, 398 रुपये वाले प्लान में किया बदलाव, अब इतने दिनों तक उठा सकते है लाभछत्तीसगढ़ में कोरोना से निपटने अब तक 850 करोड़ आवंटित, सीएम बघेल ने कहा- नहीं होने देंगे संसाधनों की कमी

घर खरीदने वालों के लिए सुनहरा अवसर, यहां मिल रहा है मात्र 83 रुपए में घर, जल्द ही करें खरीदी वरना…

Deepak SahuMarch 3, 20211min


 

इटली : अपने घर का सपना हर किसी का होता है, लोगों को तिनका तिनका जोड़कर घर बनाते देखा जा सकता है, इससे ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि घर बनाना कितना महंगा है, लेकिन आपको बता दें कि एक देश ऐसा भी है जहां महज 83 रुपये में घर मिल रहा है, शायद आपको विश्वास नहीं हो रहा होगा। लेकिन इटली में सिर्फ 83 रुपये देकर हजारों विदेशियों ने वहां घर खरीद लिया है।

हालांकि स्थानीय लोग विरोध कर रहे हैं। उनका आरोप है कि स्थानीय प्रशासन उनका घर बेच रहा है। ये घर इटली के सिसली आइलैंड पर बिक रहे हैं।14 वीं शताब्दी में बसा ये गांव अब अर्बन जंगल में बदल चुका है जहां के ज्यादातर घर जर्जर स्थिति में हैं, इसी वजह से यहां के लोग गांव छोड़कर शहरों में बस गए और यहां के मकान खाली रह गए। अब स्थानीय प्रशासन इसे बेच रहा है।


स्थानीय लोगों के द्वारा मकान बेचे जाने का विरोध पर सिसली के मेयर ने कहा है कि उन्होंने इस गांव की आबादी बढ़ाने की ठानी है। इसलिए सिर्फ 83 रुपये में घर बेचना शुरू किया है। 100 रुपये से भी कम पैसे में घर बेचे जाने के कारण यहां घर खरीदने वालों की भीड़ लग गई है। हजारों विदेशी अब तक घर खरीद चुके हैं। हालांकि मेयर को अपने योजना को लेकर तब मुश्किलों का सामना करना पड़ा जब गांव छोड़ चुके लोगों ने इसका विरोध शुरू कर दिया और पूछा, गांव हमारा, घर हमारे तो फिर उसे बेचने वाला प्रशासन कौन होता है।

 

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories