ताज़ा ख़बर
RAIPUR BREAKING : राजधानी में संपत्ति विवाद के चलते माँ-बेटी की घर में घुसकर हत्या, आरोपी ने किया सरेंडरमातम में बदली शादी की खुशियां, विदाई के वक्त इतनी रोई दुल्हन कि आया हार्ट अटैक, हो गई मौत, शोक में डुबा परिवारRAIPUR BREAKING : कोर्ट परिसर से पुलिसकर्मियों को चकमा देकर फरार हुआ गांजा तस्कर, FIR दर्जInd vs Eng : ऋषभ पंत ने छक्के के साथ पूरा किया शतक, सहवाग ने कहा- अरी दादा ! मजो आगौराशिफल : इन राशि वालों को आज मिलेगा भाग्य का साथ, जानें बाकीं राशियों का हालरोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज क्रिकेट टूर्नामेंट : सचिन-सहवाग की जोड़ी ने फिर बिखेरा अपना जलवा, इंडिया लीजेंड्स ने बांग्लादेश लीजेंड्स को 10 विकेट से हरायाबलरामपुर : स्वरोजगार के लिए मिला वाहन, कलेक्टर श्याम धावडे ने हितग्राहियों को सौंपी चाबी, खुशी से खिले चेहरे..सीएम भूपेश बघेल ने रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज क्रिकेट टूर्नामेंट का किया शुभारंभ, इंडिया लीजेंड्स और बांग्लादेश लीजेंड्स के खिलाड़ियों से मुलाकात कर दी शुभकामनाएंBIG BREAKING : CM भूपेश ने दी हरी झंडी, 6 IAS बने सचिव, सामान्य प्रशासन विभाग ने जारी किया आदेशBIG BREAKING : CBSE बोर्ड परीक्षा के डेटशीट में हुआ बदलाव, अब इस तारीख होगी इन विषयों की परीक्षा, देखिये नया शेड्यूल

VIDEO: PORN दिखाकर सांसदों-विधायकों से उगाही, इस तरह वीडियो बनाकर करते थे ब्लैकमेल

Som dewanganFebruary 22, 20211min


 

मुंबई। मुंबई पुलिस ने एक वसूली रैकेट का खुलासा किया है. जो सांसदों, विधायकों और नौकरशाहों जैसे वीआईपी को निशाना बनाता था। यह रैकेट जाने-माने लोगों को महिला के फेक प्रोफाइल और उन्हें पॉर्न दिखाकर अपने जाल में फंसाता था। मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रान्च ने गैंग के तीन लोगों को राजस्थान, हरियाणा और उत्तर प्रदेश से गिरफ्तार किया है।

रिपोर्ट के मुताबिक रैकेट के सदस्य पहले तय करते थे कि अब किस ‘बड़े आदमी’ को निशाना बनाया जाए। इसके बाद तय हुए टारगेट को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजा जाता था। कुछ समय तक चैट के बाद पीड़ित को वीकेंड्स पर वीडियो कॉल किया जाता था।

वॉट्सऐप वीडियो कॉल की शुरुआत पॉर्न से होती थी ताकि टारगेट इसे देखता रहे और इस दौरान आरोपी एक ऐप के जरिए उनके फेस एक्सप्रेशन को रिकॉर्ड कर लेते थे। इसके बाद वे दोनों वीडियो को एडिट करके ब्लैकमेल किया करते थे। वे पीड़ित को फोन करके पैसे की डिमांड करते थे और धमकी देते थे कि यदि पैसे नहीं दिए गए तो वीडियो को सोशल मीडिया पर पोस्ट करके बदनाम कर देंगे। शुरुआत में यह छोटी रकम मांगते थे और एक बार पैसे मिल जाने के बाद धीरे-धीरे बड़ी रकम की मांग करते थे।

अब तक की जांच में पता चला है कि गैंग ने पीड़ितों को जाल में फंसाने के लिए 171 फेक फेसबुक प्रोफाइल और 4 टेलिग्राम चैनल्स का इस्तेमाल किया। गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने 58 अकाउंट्स को भी सील किया है। आरोपियों ने उगाही के लिए 54 मोबाइल फोन्स का इस्तेमाल किया था।

 

XCheck Digital Badge


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories