ताज़ा ख़बर
बड़ी खबर : DPI ने DEO की रिपोर्ट पर प्राचार्य को सस्पेंड करने का दिया निर्देश, निरिक्षण के दौरान उजागर हुई थी कई खामियांगाड़ी से उतरते ही इस मशहूर एक्ट्रेस ने सड़क पर किया जोरदार डांस, Video हुआ वायरलशादी के बाद सुहागरात पर भारतीय कपल्स सबसे पहले करते है ये काम, जानकर आपको भी होगी हैरानीUAPA मामले में 122 लोग बरी, 20 साल पहले हुए थे गिरफ्तारBIG BREAKING : BJP में शामिल हुए मिथुन चक्रवर्ती, ब्रिगेड मैदान पर लहराया पार्टी का झंडाबड़ी खबर : चार जिलों में नाइट कर्फ्यू लागूू, तेजी से बढ़ते संक्रमण के बाद राज्य सरकार ने लिया फैसलाCG BREAKING : तेज रफ्तार पिकअप ने दो महिलाओं को कुचला, मौके पर मौत, एक युवक भी गंभीर रूप से घायलRAIPUR BREAKING : फाइनेंस कंपनियों ने वसूली के लिए अपनाया नया तरीका, कर्जदार को बुलाकर गुर्गों ने कार में तोड़फोड़ कर की बेदम पिटाई, FIR दर्जCG BREAKING : छोटी सी लापरवाही ने ले ली जान, खुला रह गया था स्कूटी का स्टैंड, हादसे में 8 साल के बेटे समेत मां की मौत2021 में NETFLIX पर रहेगी फिल्मों की भरमार, ये फिल्मों पर रहेगी लोगों की नजर, देखिए पूरी लिस्ट

औद्योगिक इकाइयों की अब मोबाइल पर ही होगी मॉनिटरिंग, सीएम बघेल ने लांच किया एप, विभाग के आवेदनों का भी होगा निराकरण

Som dewanganFebruary 22, 20211min


रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज विधानसभा परिसर स्थित अपने कार्यालय कक्ष में प्रदेश में प्रस्तावित बड़ी औद्योगिक इकाइयों की मॉनिटरिंग हेतु मोबाइल एप लांच किया। प्रदेश में हजारों करोड़ की लागत से स्थापित किये जाने वाली औद्योगिक परियोजनाओं की त्वरित स्थापना हेतु वाणिज्य एवं उद्योग विभाग द्वारा यह मोबाइल एप विकसित कराया गया है। उद्योग मंत्री कवासी लखमा भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

 

READ MORE : राष्ट्रीय राजमार्ग 343 तालाब में हुआ तब्दील, आवागमन की समस्या से जनता परेशान, मरम्मत जल्द नहीं हुई तो होगा आंदोलन

 

मोबाइल एप द्वारा उद्योगपति सीधे अपनी इकाई स्थापना के विभिन्न चरणों में विभिन्न विभागों एवं संस्थाओं से आवश्यक सम्मति, सहमति, पंजीयन, अनापत्ति हेतु लंबित आवेदनों की जानकारी उद्योग विभाग से साझा कर सकेंगे। उद्योग विभाग द्वारा एम.ओ.यू. करने वाली प्रत्येक इकाई हेतु वरिष्ठ अधिकारियों को रिलेशनशिप मैनेजर के रूप में नामांकित किया गया है | इन रिलेशनशिप अधिकारियों के माध्यम से इकाइयों के आवेदनों पर विभिन्न विभागों में त्वरित निष्पादन में मदद मिलेगी। यह मोबाइल एप एंड्रॉयड एवं एप्पल प्ले स्टोर पर भी उपलब्ध है।

उल्लेखनीय है कि प्रदेश में कुल 104 औद्योगिक इकाइयों द्वारा राज्य शासन के साथ एमओयू निष्पादित किया गया है। जिसमें लगभग 42 हजार 500 करोड़ रु का पूंजी निवेश किया जाना प्रस्तावित है तथा लगभग 65000 व्यक्तियों को रोजगार उपलब्ध होगा। इन एम.ओ.यू. में प्रदेश के अति पिछड़े क्षेत्र बस्तर संभाग में 16 इकाईयाँ प्रस्तावित है जिनमें से 09 इकाइयों द्वारा उद्योग स्थापना हेतु कार्रवाई प्रारंभ कर दी गई है।

 

संपादित 104 एम.ओ.यू. में से 40 इकाइयों द्वारा उद्योग स्थापना की कार्रवाई प्रारंभ कर दी गई है एवं 01 इकाई में उत्पादन भी प्रारंभ कर उनके द्वारा अपने उत्पादों का अन्य देशों को निर्यात भी प्रारंभ कर दिया गया है। सम्पादित 104 एम.ओ.यू. में स्टील क्षेत्र में 76, फार्मास्युटिकल क्षेत्र में 04, साइकिल निर्माण में 01, रक्षा क्षेत्र में 03 एवं इलेक्ट्रॉनिक क्षेत्र की 02 इकाइयां सम्मिलित हैं। उल्लेखनीय है कि प्रदेश के सरगुजा क्षेत्र में स्टील एवं एल्युमीनियम क्षेत्र में बड़े उद्योगों की स्थापना हेतु विभिन्न औद्योगिक निवेशकों द्वारा अभिरूचि प्रदर्शित की गई है।

जिससे स्पष्ट है कि आने वाले दिनों में प्रदेश के अति पिछड़े सरगुजा एवं बस्तर क्षेत्र में भी औद्योगिक गतिविधियों में तेजी आएगी एवं स्थानीय स्तर पर बड़ी संख्या में प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रोजगार उपलब्ध होगा। इसके अतिरिक्त प्रदेश में वनोपज पर आधारित 15 इकाईयों द्वारा एम.ओ.यू. सम्पादित किया जाना प्रस्तावित है जिनमें 75 करोड़ रूपये का पूँजी निवेश एवं 1000 से अधिक व्यक्तियों को प्रत्यक्ष रोजगार उपलब्ध होगा।

प्रदेश का त्वरित एवं समग्र औद्योगिक विकास मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की सर्वोच्च प्राथमिकता में शामिल है। राज्य सरकार की इस नीति की पूरे देश के उद्योग जगत में तारीफ हो रही है। जिसके अनुसरण में उद्योग विभाग एवं उद्योगों से संबंधित विभागों द्वारा सूचना तकनीकी क्षेत्र का उपयोग करते हुए कार्यवाही की जा रही है। इस हेतु प्रदेश के सिंगल विण्डो सिस्टम को और अधिक प्रभावी बनाया गया है एवं वरिष्ठअधिकारियों द्वारा परियोजनाओं के क्रियान्वयन की सतत् निगरानी की जा रही है। उद्योग स्थापना की प्रक्रिया को सुगम एवं सरल बनाने हेतु संबंधित विभागों द्वारा विभिन्न उद्योग संघों, व्यापारिक संगठनों एवं अन्य संबंधित संघों से लगातार संपर्क करते हुए प्रक्रियाओं को सरलीकृत करने का प्रयास किया जा रहा है।

इस अवसर पर सीएसआईडीसी के प्रबंध निदेशक अरूण प्रसाद, वाणिज्य एवं उद्योग विभाग के संयुक्त सचिव अनुराग पाण्डेय एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण के साथ टेकमेंट टेक्नालॉजी प्राइवेट लिमिटेड, भिलाई के डायरेक्टर मनीष अग्रवाल, रूपेश शर्मा, मनोज अग्रवाल, सुमीत अग्रवाल एवं रामभगत अग्रवाल उपस्थित थे।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories