ताज़ा ख़बर
बड़ी खबर : DPI ने DEO की रिपोर्ट पर प्राचार्य को सस्पेंड करने का दिया निर्देश, निरिक्षण के दौरान उजागर हुई थी कई खामियांगाड़ी से उतरते ही इस मशहूर एक्ट्रेस ने सड़क पर किया जोरदार डांस, Video हुआ वायरलशादी के बाद सुहागरात पर भारतीय कपल्स सबसे पहले करते है ये काम, जानकर आपको भी होगी हैरानीUAPA मामले में 122 लोग बरी, 20 साल पहले हुए थे गिरफ्तारBIG BREAKING : BJP में शामिल हुए मिथुन चक्रवर्ती, ब्रिगेड मैदान पर लहराया पार्टी का झंडाबड़ी खबर : चार जिलों में नाइट कर्फ्यू लागूू, तेजी से बढ़ते संक्रमण के बाद राज्य सरकार ने लिया फैसलाCG BREAKING : तेज रफ्तार पिकअप ने दो महिलाओं को कुचला, मौके पर मौत, एक युवक भी गंभीर रूप से घायलRAIPUR BREAKING : फाइनेंस कंपनियों ने वसूली के लिए अपनाया नया तरीका, कर्जदार को बुलाकर गुर्गों ने कार में तोड़फोड़ कर की बेदम पिटाई, FIR दर्जCG BREAKING : छोटी सी लापरवाही ने ले ली जान, खुला रह गया था स्कूटी का स्टैंड, हादसे में 8 साल के बेटे समेत मां की मौत2021 में NETFLIX पर रहेगी फिल्मों की भरमार, ये फिल्मों पर रहेगी लोगों की नजर, देखिए पूरी लिस्ट

समाज को जागरूक एवं संगठित करें तथा विघटनकारी तत्वों से रहें सावधान- राज्यपाल अनुसुईया उइके

Som dewanganFebruary 21, 20211min


 

रायपुर : राज्यपाल अनुसुईया उइके आज कांकेर जिले के अंतागढ़ विकासखण्ड अंतर्गत ग्राम टेमरूपानी में आदिवासी बुढ़ालपेन पोड़दगुमा गोंडवाना विकास समिति के वार्षिक सेसा पण्डुम कार्यक्रम में शामिल हुई। उन्होंने कार्यक्रम में आह्वान किया कि हमारे समाज के कुछ साथी भटक गए हैं, वे समाज की मुख्यधारा में लौटें। शासकीय योजनाओं का लाभ लें तथा आत्मनिर्भर बने।

 

उन्होंने कहा कि हमारे आदिवासी समाज के प्रमुख, समाज को जागरूक करें, संगठित करें और उन्हें शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगारमूलक योजनाओं से जोड़ें, साथ ही समाज को बांटने वाले तत्वों से सचेत रहें। राज्यपाल ने टेमरूपानी में पहुंचकर पूजा अर्चना की और धार्मिक जात्रा कार्यक्रम में शामिल हुई। उन्होंने आदिवासी बुढ़ालपेन पोड़दगुमा गोंडवाना विकास समिति को दो लाख रूपए की आर्थिक सहयोग देने की घोषणा भी किया ।

 

राज्यपाल अनुसुईया उइके ने कहा कि जनजातीय समाज हमेशा प्रकृति के साथ रहता है और कभी दुखी नही रहता। हम देव पोड़द-गुमा (सूर्य देव) से प्रार्थना करते हैं कि हम सबको सुख-समृद्धि प्रदान करें। उन्होंने कहा कि आदिवासी सदैव सम्मान से जीता है, वह किसी गलत कामों में न लिप्त रहता है न ही भिक्षा मांगने के लिए किसी के समक्ष हाथ फैलाता है। जीवन भर मान सम्मान से जीवन यापन करता है।

राज्यपाल ने कहा कि कोई भी व्यक्ति किसी भी जाति धर्म से छोटा या बड़ा नहीं होता है, बल्कि अपने कर्मों से बड़ा होता है। सुश्री उइके ने कहा कि आदिवासी समाज के बुढ़ादेव अर्थात महादेव हम सबके इष्टदेव हैं, जो पूरे संसार का संरक्षण करते हैं। देश का हर नागरिक अपने-अपने धर्म, संम्प्रदाय, देवी-देवता और अपने महापुरूषों को मानने और उनके आदर्शों पर चलने के लिए स्वतंत्र है, किन्तु जब देश हित की बात आए तब सभी एकजुट होकर कार्य करें।

 

READ MORE : CSK के राहत भरी खबर, फॉर्म में लौटे सुरेश रैना, IPL से पहले टी-20 मैच में जड़ा तूफानी शतक

 

राज्यपाल ने कहा कि आदिवासी समाज की संस्कृति बड़ी महान है। प्रकृति के प्रति आदिवासी समाज में अपार श्रद्धा होती है और इस श्रद्धा में प्रकृति संरक्षण का भाव होता है। हमारे आदिवासी संस्कृति में सामुदायिकता और प्रेम सद्भाव की भावना रहती है। इस पर्व पर आदिवासी समाज द्वारा सूर्य देव से अन्न भंडारण तथा उसकी सुरक्षा की अनुमति मांगी जाती है। यह कितनी महान परंपरा है कि प्रकृति से प्राप्त हुए उनके उत्पाद को उपयोग करने के लिए उनसे आज्ञा ली जा रही है।

 

इससे यह सिद्ध होता है कि आदिवासी समाज में प्रकृति के प्रति कितनी आस्था है। ऐसी परंपरा शायद ही और कहीं देखने को मिलती है। राज्यपाल ने कहा कि प्राचीनकाल से आज तक जंगल किसी न किसी रूप में जो सुरक्षित है, आदिवासी समाज के इसी भावना के कारण है। आज जब पूरा विश्व में आधुनिकीकरण के कारण आपस में दूरियां बढ़ती जा रही है, परिवार अलग-अलग हो रहे हैं, उस समय आदिवासी समाज पूरे विश्व के समक्ष सामाजिकता का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण प्रस्तुत करता है।

 

READ MORE : CSK के राहत भरी खबर, फॉर्म में लौटे सुरेश रैना, IPL से पहले टी-20 मैच में जड़ा तूफानी शतक

 

राज्यपाल ने कार्यक्रम में उइके गोत्र के मांझी, पेन पुजारी, मंड़ा के समस्त सात भाई-कोर्राम, कचलाम, जुर्री, जट्टी, कातो, वेड़दो, उयका का अभिवादन किया। राज्यपाल को आयोजकों ने प्रतीक चिन्ह भेंटकर उन्हें सम्मानित किया। कार्यक्रम में विधायक श्री अनुप नाग, राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग के सदस्य नितिन पोटाई, पूर्व विधायक भोजराज नाग, पूर्व विधायक विक्रम उसेण्डी, विश्राम सिंह गावड़े, जय लक्ष्मी ठाकुर, कमला नेताम, श्यामलाल उइके, मेतूराम उइके, शरद कोर्राम,चंदन सिंह उइके, सुरजूराम उइके, हरिसिंह उइके, सुशीला उइके, मनेश राम उइके, दशरथ उइके सहित मांझी, सिरहा एवं समाज के लोग बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories