ताज़ा ख़बर
खाद्य विभाग की बड़ी कार्रवाई, बायोफ्यूल फर्म में दबिश देकर भारी मात्रा में जब्त किया संदिग्ध बायोडीजल, मिथाइल इस्टर नाम का रसायन बेच रहे थे संचालकनगर निगम भिलाई-चरोदा और नगर पालिका जामुल के वार्डों का हुआ आरक्षणबड़ी खबर : चेंबर ऑफ कॉमर्स चुनाव के लिए तारीखों का ऐलान, 5 चरणों में होगा मतदान, 21 मार्च को होगी मतगणनाBREAKING: पर्यावरण को लेकर राज्य सरकार सख्त, प्रदूषण फैलाने वाले 25 उद्योगों के खिलाफ हुई कार्रवाई, 42 को कारण बताओ नोटिस जारीRAIPUR : स्वास्थ्य विभाग ने मैट्स विश्वविद्यालय को किया सम्मानितBIG BREAKING : छत्तीसगढ़ में 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं की तारीखों का ऐलान, केंद्र में ही दिलाना होगा परीक्षाBREAKING : प्रसिद्ध भजन गायक नरेंद्र चंचल का निधन, 80 साल की उम्र में कहा दुनिया को अलविदासरकार का फैसला, पूर्व सीजेआई रंजन गोगोई को जेड प्लस की सुरक्षाबड़ी खबर : बम धमाका, 32 के उड़े चीथड़े, 110 से ज्यादा लोग घायल, देखें वीडियोबड़ी खबर : कांग्रेस को मई में मिल सकता है नया अध्यक्ष! सांगठनिक चुनाव को लेकर CWC में फैसला

भारत के नक़्शे से WHO को दुश्मनी, बार-बार दोहरा रहा एक ही गलती

Mahendra Kumar SahuJanuary 14, 20211min


नई दिल्ली : विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपनी वेबसाइट पर भारत की सीमाओं को बार बार गलत ढंग से पेश कर रहा है। भारत ने इस पर कड़ा ऐतराज जताते हुए एक बार फिर कड़ी चेतवानी दी है। भारत ने WHO को पत्र लिखकर सुधार करने की बात कही है।

 

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, भारत ने पत्र में बेहद सख्त लहजे में कहा है कि गलत नक्शे को फौरन सुधार लिया जाए। भारत की तरफ से इस मुद्दे पर पिछले एक महीने में डब्ल्यूएचओ को तीसरी बार यह पत्र लिखा गया है। इससे पहले, दिसंबर में दो बार डब्ल्यूएचओ चीफ को पत्र लिखा जा चुका है। पिछले हफ्ते संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत के परमानेंट प्रतिनिधि इंद्र मणि पांडेय ने डब्ल्यूएचओ चीफ को इस बारे में जानकारी दी।

भारत ने कहा कि डब्ल्यूएचओ के पोर्टल्स पर मौजूद वीडियो और मैप्स में उसकी सीमाओं को ठीक से नहीं दर्शाया जा रहा। आठ जनवरी को डब्ल्यूएचओ चीफ को लिखी चिट्ठी में ने लिखा, ”मैं डब्ल्यूएचओ के अलग-अलग वेब पोर्टल्स पर नक्शों में भारत की सीमाओं को गलत ढंग से दर्शाए जाने पर बेहद नाराजगी जाहिर करता हूं।

 

इस मामले में मैं डब्ल्यूएचओ को भेजे गए हमारे पिछले संदेशों की भी याद दिलाना चाहूंगा, जिनमें हमने इन्हीं गलतियों की बात की थी। मैं आपसे इस मामले में तुरंत दखल देखकर भारत की सीमाओं को गलत ढंग से प्रदर्शित करना बंद करवाने की गुजारिश करता हूं। कृपया सही मानचित्रों का प्रयोग करें।”

 

क्या गलत है डब्ल्यूएचओ के नक्शा में

डब्ल्यूएचओ के नक्शों में जम्मू और कश्मीर तथा लद्दाख को बाकी भारत से अलग शेड में दिखाया गया है। इसके अलावा 5,168 वर्ग किलोमीटर में फैली शक्सगाम घाटी, जिसे पाकिस्तान ने 1963 में अवैध रूप से चीन के हवाले कर दिया था, उसे चीन का हिस्सा दिखाया गया है। 1954 में चीन ने जिस अक्साई चिन क्षेत्र पर कब्जा किया, उसे नीली स्ट्रिप्स में दिखाया गया है। डब्ल्यूएचओ ऐसे ही रंग में चीनी क्षेत्र को दर्शाता है।

 

चीन से डब्ल्यूएचओ की सांठ-गांठ के लगते रहे हैं आरोप

भारतीय कानून के तहत देश का गलत नक्शा छापना अपराध है। इसके लिए छह महीने की जेल और जुर्माने का प्रावधान है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि डब्ल्यूएचओ के कोविड-19 ट्रैकर जिसे दुनियाभर में खूब इस्तेमाल किया जाता है, उसमें गलत नक्शे का इस्तेमाल करना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। डब्ल्यूएचओ और चीन के बीच सांठ-गांठ के आरोप लगते रहे हैं। ऐसे में उसकी तरफ से भारत के नक्शे को गलत दिखाना भी संदेह के घेरे में है।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories