ताज़ा ख़बर
RAIPUR BREAKING: ऑटो से लटकी मिली युवक की लाश, हत्या की आशंका, ऑटो यूनियन के सदस्यों ने किया चक्काज़ाममुंगेली : सीएम भूपेश बघेल ने जिले में कृषि महाविद्यालय और कृषि विज्ञान केंद्र का किया शुभारंभRAIPUR CRIME : कैशियर से 31 लाख रुपये की लूट, पुलिस ने 9 आरोपियों को किया गिरफ्तार, महज 4 दिन में सुलझाया मामलाBREAKING : ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष तैयब हुसैन पर गिरी गाज, विधायक से किया था बदसलूकी, अब शहजादी कुरैशी हो सकते हैं नए अध्यक्षबड़ी खबर: मंत्रालय जाने पर प्रतिबंध हटा, अब पास लेकर भीतर जा सकेंगे आम लोगVIDEO : उरला लूटकांड के आरोपी गिरफ्तार, थाने में पूछताछ जारी, देर शाम रायपुर IG करेंगे खुलासाEXCLUSIVE VIDEO : रायपुर ट्रैफिक पुलिस की करतूत, घूस लेता ट्रैफिक जवान TCP24 के कैमरे में हुआ कैद, पूछे जाने पर जोड़ने लगा हाथ-पैरकौन हैं नड्डा? PL पुनिया के सवाल पर कांग्रेस ने दिया मजेदार जवाब, छत्तीसगढ़वासियों को ही आएगा समझनया रायपुर में मिली महिला के शव की अब तक नहीं हो सकी पहचान, पड़ोसी जिलों में भी चल रही पूछताछEXCLUSIVE : राजधानी का जिला अस्पताल ही बीमार, कहीं थूक के पीक तो कहीं पड़े मिले बच्चों के डायपर, धूल खा रही शासन की महत्वकांक्षी योजना

आपकी सुरक्षा किसके हाथ? : यूजर्स लगातार हो रहे ठगी के शिकार, आपकी सरकार कितनी जिम्मेदार?

Sameer VermaJanuary 14, 20211min


 

महेंद्र साहू | सोशल मीडिया यूजर्स के लिए आने वाले दिनों में निजता सुरक्षा की बड़ी परेशानी खड़ी हो सकती है. इंफॉर्मेशन के इस दौर में निजता की सुरक्षा बहुत ही महत्व रखती है. इसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी सभी कंपनियों की है. साथ ही सरकार को भी इस पर दखल देने की जरूरत है, जिससे देशवासियों की निजता किसी गलत हाथों में न जाए. जब उपभोक्ता किसी कंपनी की सेवाओं का इस्तेमाल करते हैं और अपनी निजता सौंपते हैं तो कंपनी की भी जिम्मेदारी होती है कि वह उसकी सुरक्षा करे.

 

यह एक बड़ी जिम्मेदारी का काम है. साथ ही सभी सोशल प्लेटफार्म हमेशा यह दावा करते रहते हैं कि अपने उपभोक्ताओं की निजता भंग होने नहीं देंगे. इसके बावजूद समय-समय पर कई ऐसे मामले सामने आते रहे हैं. जिससे उपभोक्ताओं की निजता भंग होती रही है और उससे उपभोक्ता अपने आप को छला हुआ महसूस करने लगते हैं, जिसके बाद वह किसी भी जगह अपने छले जाने की शिकायत भी नहीं कर सकता है.

 

यह बड़ा दुर्भाग्य का समय होता है. जब कोई उपभोक्ता किसी एप से छला जाए और उसकी शिकायत भी न कर सके. दिन-रात एक करके जब किसी गंभीर विषय पर लिखा जाए और उसकी गंभीरता का बिना ध्यान रखे कंपनियां उसे गलत हाथों में जानें दें तो. सामान्य सी बात है, हर कोई घटना से छला हुआ ही महसूस करेगा.

 

कहीं न कहीं इसका एक कारण यह भी है कि यूजर को यह पता ही नहीं होती कि उनका डेटा चुराया जा चुका है. और तो और इसे किसी दूसरे फर्म या कंपनी को बेचा भी जा चुका है. इसकी जानकारी नहीं होने के चलते डेटा चोरी जैसे मामलों में आम जनता उतना इंट्रेस्ट नहीं लेती, अब जब सोशल एप में निजता एक महत्वपूर्ण मसला बना हुआ है तो उपभोक्ताओं के चेहरे पर चिंता की शिकन दिखाई दे रही है. कंपनी जानकारी के रूप में आपका नाम, पता, नंबर से लेकर आप कब कहां जा रहे हैं इसका भी पूरा ब्यौरा रखती है.

 

देश में इन दिनों 40 करोड़ से अधिक व्हाट्सअप के उपभोक्ता हैं. 6 जनवरी को मीडिया के माध्यम से सिक्यूरिटी गाईड लाइन जारी किया गया. जिसके बाद लगातार इनकी उपभोक्ता संख्या घटती जा रही है. साथ ही अन्य सोशल प्लेटफॉर्म की डिमांड बढ़ती जा रही है. जिससे व्हाट्सप का बिजनेस लगातार घटते ही जा रहा है. जिसको लेकर कई माध्यमों से व्हाट्सअप अपने ग्राहकों को साधने का प्रयास भी करते दिख रहा है, लेकिन ग्राहकों की शंकाएं खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही है.

 

व्हाट्सएप पर लोगों के डेटा सिक्योरिटी को लेकर पहले भी कई मामले सामने आते रहे हैं, जिससे व्हाट्सएप को अस्तित्व का डर भी सताता रहा है, लेकिन अब आने वाले दिनों में ऐसा हो भी सकता है. क्योंकि मार्केट में व्हाट्सएप का रिप्लेस ऑप्शन आ चुका है. धीरे-धीरे इसकी डिमांड भी बढ़ती जा रही है. यहां बात हो रही है नए नवेले सोशल एप “सिग्नल” की. लोगों में इसकी दिलचस्पी बढ़ती देख व्हाट्सएप भी खौफ के अंधेरे में जी रहा है. कुछ दो तीन दिनों से हिंदी और अंग्रेजी अखबारों में व्हाट्सएप अपने रूल पॉलिसी को लेकर सफाई पेश कर रहा है और यूजर्स के बीच उनकी विश्वसनियता बनी रहे इसका प्रयास कर रहा है.


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories