ताज़ा ख़बर
खाद्य विभाग की बड़ी कार्रवाई, बायोफ्यूल फर्म में दबिश देकर भारी मात्रा में जब्त किया संदिग्ध बायोडीजल, मिथाइल इस्टर नाम का रसायन बेच रहे थे संचालकनगर निगम भिलाई-चरोदा और नगर पालिका जामुल के वार्डों का हुआ आरक्षणबड़ी खबर : चेंबर ऑफ कॉमर्स चुनाव के लिए तारीखों का ऐलान, 5 चरणों में होगा मतदान, 21 मार्च को होगी मतगणनाBREAKING: पर्यावरण को लेकर राज्य सरकार सख्त, प्रदूषण फैलाने वाले 25 उद्योगों के खिलाफ हुई कार्रवाई, 42 को कारण बताओ नोटिस जारीRAIPUR : स्वास्थ्य विभाग ने मैट्स विश्वविद्यालय को किया सम्मानितBIG BREAKING : छत्तीसगढ़ में 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं की तारीखों का ऐलान, केंद्र में ही दिलाना होगा परीक्षाBREAKING : प्रसिद्ध भजन गायक नरेंद्र चंचल का निधन, 80 साल की उम्र में कहा दुनिया को अलविदासरकार का फैसला, पूर्व सीजेआई रंजन गोगोई को जेड प्लस की सुरक्षाबड़ी खबर : बम धमाका, 32 के उड़े चीथड़े, 110 से ज्यादा लोग घायल, देखें वीडियोबड़ी खबर : कांग्रेस को मई में मिल सकता है नया अध्यक्ष! सांगठनिक चुनाव को लेकर CWC में फैसला

लाखों केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनरों को डीए देने की तैयारी में सरकार, जानिए किसे कितना होगा फायदा

Som dewanganJanuary 14, 20211min


 

नईदिल्लीः केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए एक अच्छी खबर है. 2021 में उनके वेतन में वृद्धि होने की उम्मीद है क्योंकि सरकार द्वारा 28 प्रतिशत महंगाई भत्ता, डीएद्ध वृद्धि को बहाल करने की संभावना है जो देश में कोरोनोवायरस महामारी के प्रकोप के कारण पिछले साल जुलाई 2020 तक रुकी हुई थी. डीए में 28 फीसदी की बढ़ोतरी शुरू होने की संभावना है इससे केंद्र सरकार के 49.63 लाख कर्मचारियों और 65.26 लाख पेंशनरों को फायदा होगा.

दरअसल, कर्मचारियों की एसोसिएशन कॉन्फेडरेशन ऑफ सेंट्रल गवर्नमेंट एम्प्लाइज एंड वर्कर्स ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के सामने मौजूदा सरकारी खजाने की सच्चाई यानी लेखा-जोखा रख दिया है. साथ ही आग्रह किया है कि अब सभी सरकारी कर्मचारियों और पेंशनरों को वर्तमान महंगाई दर 28 फीसदी के हिसाब से महंगाई भत्ता दिया जाए.

देश में अब स्थिति बेहतर हो रही है. कोविड-19 के कारण कई महीनों से हालात ठीक नहीं थे लेकिन अब कोविड को लेकर स्थिति में सुधार हो रहा है. सितंबर 2020 में जहां संक्रमण के रोजाना 95 हजार नए मामले सामने आते थे, अब उनकी संख्‍या घटकर 15 हजार के आसपास आ गई है.

औद्योगिक उत्पादन की बात करें तो इसमें 3.6 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है. मार्च 2020 में 97,597 करोड़ रुपये जीएसटी कलेक्‍शन हुआ था, वहीं दिसंबर 2020 में यह आंकड़ा 1,15,000 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है. इन सुधारों का हवाला देते हुए ही कर्मचारियों की एसोसिएशन ने सरकार से कहा है कि वे महंगाई भत्ता और महंगाई राहत अभी दें ना कि इसके लिए जुलाई 2021 तक का इंतजार करें.

 

दरअसल, अप्रैल 2020 में सरकार ने इन कर्मचारियों और पेंशनरों को मिलने वाला महंगाई भत्ता और महंगाई राहत रोक दिया था. सरकार ने कोरोना संक्रमण के कारण बने मुश्किल हालातों को देखते हुए यह निर्णय लिया था. सरकार ने जुलाई 2021 तक के लिए इसपर रोक लगाई थी.

 

कॉन्फेडरेशन के महासचिव आरएन पराशर ने वित्त मंत्री को भेजे अपने ज्ञापन में कहा है कि अब कोविड संक्रमण के मामले और मौतों की संख्‍या घट रही है, टीकाकरण की प्रक्रिया भी शुरू होने वाली है. अर्थव्यवस्था भी अप्रैल-मई 2020 से बेहतर है और आगे बढ़ रही है. कोविड के दौरान जो औद्योगिक उत्पादन माइनस 57 फीसदी पर चल गया था, अक्टूबर में उसका स्तर 3.6 फीसदी ज्यादा रहा है. जीएसटी कलेक्शन में भी खासी बढ़ोतरी हुई है.

 

साथ ही कोविड के दौरान केंद्र सरकार के कर्मचारियों ने पूरे समर्पण और तन्‍मयता के साथ काम किया. यहां तक कि ड्यूटी निभाने के दौरान कई कर्मचारियों की जान भी चली गई. इन सबको ध्यान में रखते हुए वित्त मंत्री को सभी कर्मचारियों और पेंशनरों को उनका जनवरी 2020 से बकाया महंगाई भत्ता और महंगाई राहत 28 फीसदी की दर से दे दिया जाना चाहिए.


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories