ताज़ा ख़बर
RAIPUR BREAKING : सिरफिरे युवक ने 7 गाड़ियों को किया आग के हवाले, CCTV कैमरे में कैद हुई वारदातहैंड सैनिटाइजर से बच्चों को बड़ा खतरा, जा सकती है आंखों की रोशनी, और भी हो सकते है ये नुकसानBIG BREAKING : नगरीय निकायों में बड़े पैमाने पर फेरबदल, कई अधिकारी- कर्मचारी इधर से उधर, आदेश जारीराम मंदिर के निर्माण के लिए शहर के युवाओं में दिखा जोश, हजारों की संख्या में विहिप ने निकाली बाइक रैलीशासकीय पूर्व माध्यमिक शाला मड़ियाकटटा में कोरोना काल में भी हरा भरा है स्कूल परिसर, प्रधान पाठक दयालूराम पिकेश्वर खुद कर रहे देखभालअगर आप iPhone खरीदना चाहते है तो ये खबर जरूर पढ़ें, यहां 16 हजार का मिल रहा बंफर छूटबड़ी खबर: मार्च के बाद नहीं चलेंगे पुराने 100, 10 और 5 रुपए के नोट, जानिये क्या होगा अब, RBI ने दी जानकारीBREAKING: सीएम भूपेश का बड़ा ऐलान, छत्तीसगढ़ राज्य पुलिस अकादमी का नाम अब नेताजी सुभाष चंद्र बोससीएम भूपेश आज कृषि महाविद्यालय के बायोटेक इन्क्यूबेशन सेंटर का करेंगे शुभारंभ, युवाओं के लिए रोजगार के अवसर होंगे उपलब्धRAIPUR BREAKING: सिरफिरे प्रेमी ने प्रेमिका का गला रेतकर की हत्या, फिर 1 वर्षीय मासूम को पटरी पर फेंक उतारा मौत के घाट

दुनिया छोड़ने से पहले 20 माह की बच्ची ने संवार दी 5 लोगों की जिंदगी, जानिए कैसे?

Sanjay sahuJanuary 14, 20211min

 

 


दिल्ली। 20 साल की एक बच्ची ने दुनिया छोड़ने से पहले पांच लोगों को नई जिंदगी दी है. जी हां, आप सही पढ़ रहे हैं. महज 20 साल की बच्ची ने अपनी जान देने से पहले 5 लोगों की जिंदगी संवार दी है.ये सबसे कम उम्र की कैडेवर डोनर भी बन गई है. इसने अपने शरीर के पांच अंगों को दान किया.

 

 

दिल्ली के रोहिणी इलाके में 8 जनवरी को 20 महीने की धनिष्ठा खेलते समय अपने घर की पहली मंजिल से नीचे गिर गई थी. इसके बाद वह बेहोश हो गई. परिजन उसे तुरंत सर गंगाराम अस्पताल लेकर गए. डॉक्टरों ने उसे होश में लाने की बहुत कोशिश की लेकिन सब बेकार साबित हुआ.

 

11 जनवरी को धनिष्ठा को ब्रेन डेड घोषित कर दिया गया. दिमाग के अलावा धनिष्ठा के सारे अंग सही से काम कर रहे थे. तब उसके परिजनों पिता अशीष कुमार और मां बबिता ने उसके अंग दान करने का फैसला किया. धनिष्ठा का दिल, लिवर, दोनों किडनी और कॉर्निया सर गंगाराम अस्पताल ने निकाल कर पांच रोगियों में प्रत्यारोपित कर दिया.

 

 

 

 

धनिष्ठा ने मरने के बाद भी पांच लोगों अपने अंग देकर उन्हें नया जीवन दे गई. अपने चेहरे की मुस्कान उन पांच लोगों के चेहरे पर छोड़कर चली गई. धनिष्ठा के पिता और माता ने अंगदान को लेकर अस्पताल के अधिकारियों से बात की थी. दुखी होने के बावजूद ये फैसला लेना बेहद कठिन है.

 

धनिष्ठा के पिता आशीष ने बताया कि हमने अस्पताल में रहते हुए कई ऐसे मरीज देखे जिन्हे अंगों की सख्त आवश्यकता थी. हांलाकि हम अपनी धनिष्ठा को खो चुके थे लेकिन हमने सोचा की अंगदान से उसके अंग न ही सिर्फ मरीजों में जिन्दा रहेंगे, बल्कि उनकी जान बचाने में भी मददगार साबित होंगे.

 

 

READ MORE: कलेक्टर ने घोषित किया 3 दिन का स्थानीय अवकाश, देखें कब-कब रहेगी छुट्टी

 

 

 

कैडेवर डोनर उसे कहते हैं जो शरीर के पांच जरूरी अंगों का दान करता है. ये अंग हैं- दिल, लिवर, दोनों किडनी और आंखों की कॉर्निया. कैडेवर डोनर होने के लिए जरूरी है कि मरीज ब्रेन डेड हो.

 

इसके लिए परिजनों की अनुमति चाहिए होती है. आमतौर पर दानदाता और रिसीवर का नाम गोपनीय रखा जाता है लेकिन परिजन चाहे तो दानदाता का नाम उजागर कर सकता है.

 

भारत में पहले लोग इस तरह से अंगों को दान करने से हिचकते थे लेकिन अब पिछले कुछ सालों में अंगदान की परंपरा में तेजी आई है. लोग खुद आगे आकर अपने अंग दान करते हैं. इसके बावजूद लोकसभा में पूछे गए एक सवाल के मुताबिक 13 मार्च 2020 तक भारत में अंगदान की प्रतिक्षा में कुल 30,886 मरीज हैं.

 

 

READ MORE: राखी सावंत ने भरा अभिनव शुक्ला के नाम का सिंदूर, फिर पहुंची बैडरूम तक, जानें फिर क्या हुआ

About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories