ताज़ा ख़बर
RAIPUR BREAKING: खड़ी ट्रक से 4 लाख का माल चोरी,हिंदुस्तान यूनिलीवर के ट्रक ड्राइवर ने दर्ज करवाई रिपोर्टBIG BREAKING : बर्खास्त आरक्षक की निर्मम हत्या, घर पर सोते समय अज्ञात हमलावारों ने घटना को दिया अंजामअंकिता लोखंडे ने हाथों में लगाई मेहंदी, फोटोज ने सोशल मीडिया पर मचाई धूम, फैंस ने उठाये सवालBIG BREAKING : तेज रफ्तार ट्रेलर ने यात्रियों से भरी जीप को मारी जोरदार टक्कर, 8 लोगों की दर्दनाक मौत, चार अन्य गंभीर रूप से घायलबड़ी खबर : 50 करोड़ FB यूजर्स का फोन नंबर टेलीग्राम पर बेचे जा रहे हैं, जानिए क्या है पूरा मामलाबड़ी खबर : इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर का बड़ा दावा, ये खिलाड़ी तोड़ सकता है सचिन तेंदुलकर के सर्वाधिक टेस्ट रनों का रिकॉर्डसीएम भूपेश बघेल का कोंडागांव-कांकेर दौरा, करोड़ों के विकास कार्यों की देंगे सौगातबड़ी खबर : दो दर्जन नक्सलियों ने छोड़ा लाल आतंक का साथ, लौटे मुख्यधारा में, SP के सामने किया सरेंडरशादी के 5 साल बाद पति ने पत्नी से बोला, मुझे तुम्हारी सूरत पसंद नहीं है, बाइक और दो लाख रुपए लाओगी, तभी घर में रखूंगाRAIPUR: 258 करोड़ के GST चोरी में 2 गिरफ्तार, फेक बिल के रैकेट का का भी खुलासा, GST इंटेलीजेंस 3 माह से कर थे जांच

आसमान से अचानक गायब हुआ विशालकाय ब्लैकहोल, खोजने में छूटे नासा के वैज्ञानिकों के पसीने

Mahendra Kumar SahuJanuary 12, 20211min


नई दिल्ली : आकाश में मौजूद एक विशालकाय ब्लैकहोल अचानक गायब हो गया है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के वैज्ञानिकों को अब इस ब्लैकहोल को ढूंढ़ने में वैज्ञानिकों के पसीने छूट गए है। नासा के वैज्ञानिक अब इसकी खोज के लिए चंद्र एक्स-रे ऑब्जर्वेटरी और हबल स्पेस टेलिस्कोप की मदद ले रही है। जानकारी के मुताबिक गायब हुआ ब्लैक होल गैलेक्सी कल्टर Abell 2261 में होना चाहिए था लेकिन वह यहां नहीं है। गैलेक्सी कलस्टर Abell 2261 की दूरी धरती से करीब 2.7 अरब प्रकाश वर्ष है।

प्रत्येक गैलेक्सी के केंद्र में एक विशाल ब्लैक होल होता है जिसका वजन सूर्य के मुकाबले अरबों ज्यादा होता है। हमारी गैलेक्सी यानी मिल्की वे के केंद्र में जो ब्लैक होल है उसे सैगिटेरियस A* (Sagittarius A*) कहा जाता है। यह पृथ्वी से 26,000 प्रकाश वर्ष दूर है। वैज्ञानिक Abell galaxy के केंद्र के ब्लैक होल को खोजने के लिए 1999 से लेकर 2004 के डाटा को एनालाइज कर रहे हैं लेकिन अभी तक ब्लैक होल का कोई सबूत हाथ नहीं लगा है।

अमेरिका में मिशिगन यूनिवर्सिटी की एक टीम का कहना है कि Abell 2261 में ब्लैक होल नहीं होने के कारण इसका गैलैक्सी के सेंटर से बाहर चले जाना भी हो सकता है। नासा चंद्र ऑब्जर्वेटरी के 2018 के डाटा के मुताबिक दो छोटी आकाशगंगाओं के मिलने के कारण बड़ी गैलेक्सी बनी होगी जिस वजह से ब्लैक होल नजर नहीं आ रहा है।

रीकोइलिंग ब्लैक होल

जब दो ब्लैक होल आपस में मिलते हैं तो वे गुरुत्वाकर्षण लहरों को पैदा करते हैं जो कि प्रकाश की गति से आगे बढ़ते हैं और अपने रास्ते में आने वाली हर एक चीज को निचोड़कर उसमें खिंचाव पैदा कर सकते हैं। गुरुत्वाकर्षण तरंगों के सिद्धांत के अनुसार इस तरह के विलय के दौरान जब एक दिशा में उत्पन्न तरंगों की मात्रा दूसरी दिशा की तरंगों से अधिक होती है तो नए बड़े ब्लैक होल को आकाशगंगा के केंद्र से विपरीत दिशा में भेजा जा सकता है। इसे “रीकोइलिंग” ब्लैक होल के रूप में जाना जाता है।

हालांकि अभी तक वैज्ञानिकों को ब्लैक होल के रीकोइलिंग के लिए कोई सबूत नहीं मिले हैं। साथ ही इसका भी पता लगाना अभी बाकी है कि क्या विशालकाय ब्लैक होल आपस में मिलकर गुरुत्वाकर्षण तरंगों को छोड़ सकते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अभी तक केवल छोटे ब्लैक होल के आपस में मिलने की पुष्टि हुई है और यदि इस गायब हुए ब्लैक होल को लेकर मिशिगन यूनिवर्सिटी का अनुमान सच होता है तो इसे खगोल विज्ञान की एक बड़ी सफलता के रूप में देख जाएगा।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories