ताज़ा ख़बर
बड़ी खबर: मैत्री बाघ में बाघिन वसुंधरा का निधन, इलाज के दौरान थमी सांसेबड़ी खबर: अगर सरकार नहीं करेंगी WHATSAPP के खिलाफ कार्रवाई, तो CAIT करेगा कोर्ट का रुखशर्मसार : पहले लिंग परिवर्तन करवाया, फिर 6 दरिंदों ने की हवस पूरी, भीख मंगवाकर दूसरे से दूसरे भी करवाते थे रेपसुकमा पुलिस को मिली बड़ी सफलता, एक वारंटी नक्सली को दबोचासांसद शताब्दी रॉय के बीजेपी में शामिल होने की अटकले तेज, कही ये बात…देखें VIDEO : “मोदी तेरी तानाशाही नहीं चलेगी… नहीं चलेगी” के नारों से गूंजी राजधानी, केंद्र सरकार के खिलाफ फूटा कांग्रेस का गुस्साBREAKING NEWS : दर्दनाक सड़क हादसे में 11 लोगों की मौत, मची चीख पुकार… PM मोदी ने जताया दुखChhattisgarh Budget 2021-22 : बजट को लेकर मंत्रियों से चर्चा करेंगे CM बघेल, बारी-बारी लेंगे विभाग की जानकारीCG BREAKING : जवान ने की खुदकुशी, अपने ही सर्विस रायफल से खुद को मारी गोली, नक्सल ऑपरेशन के दौरान की आत्महत्याKisan Andolan : आज 9वीं बार सरकार और किसानों के बीच होगी बातचीत, क्या निकलेगा नतीजा?

BIG BREAKING : कृषि कानून पर सुप्रीम फैसला : मोदी सरकार को झटका, तीनों कानूनों के अमल पर लगी रोक, कमेटी भी गठित

Sanjay sahuJanuary 12, 20211min

 

Supreme Court to pronounce AGR verdict today at 11:30 am

 

नई दिल्ली : केंद्र सरकार के तीनों नए कृषि कानूनों के अमल पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी है. इसके साथ ही 4 सदस्यीय कमेटी का भी गठन किया है जो किसानों और सरकार के बीच सामंजस्य बैठाने का प्रयास करेगी.

 

 

कमेटी के अध्यक्ष पूर्व चीफ जस्टिस होंगे. वहीं कोर्ट के इस फैसले के बाद केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के आवास के बाहर धारा 144 लगा दी गई है. सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई अभी भी जारी है.

 

 

READ MORE: BREAKING: भारत की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, थाईलैंड में खेलना मुश्किल

 

सुनवाई के दौरान किसानों की ओर से जस्टिस एमएल शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों के सामने नहीं आए. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम उन्हें इसके लिए नहीं बोल सकते. इस मसले का हल निकालने के लिए कमेटी बनाई जाएगी.

 

वकील एमएल शर्मा ने कहा कि किसानों का कहना है कि वह कोर्ट की ओर से गठित किसी कमेटी के समक्ष उपस्थित नहीं होंगे. इस पर कोर्ट ने कहा कि यह कमेटी हमारे लिए होगी. इस मुद्दे से जुड़े लोग कमेटी के सामने पेश होंगे. कमेटी कोई आदेश नहीं देगी, न ही किसी को सजा देगी. यह सिर्फ हमें रिपोर्ट सौंपेगी.

 

कोर्ट ने कहा, हमें कृषि कानूनों की वैधता की चिंता है. साथ ही किसान आंदोलन से प्रभावित लोगों की जिंदगी और संपत्ति की भी फिक्र है. हम अपनी सीमाओं में रहकर मुद्दा सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं. हमारे पास कानून सस्पेंड करने और कमेटी बनाने का अधिकार है. इस मामले में जो कमेटी बनेगी, वह ज्यूडिशियल प्रोसेस का हिस्सा होगी. हम कानून सस्पेंड करने के बारे में सोच रहे हैं, लेकिन यह अनिश्चितकाल के लिए नहीं होगा. हम कानून के अमल पर रोक लगाना चाहते है, पर अनिश्चित काल के लिए नहीं. लोग अपनी शिकायत कमेटी के सामने रख सकते है.

 

 

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories