ताज़ा ख़बर
BREAKING : प्रसिद्ध भजन गायक नरेंद्र चंचल का निधन, 80 साल की उम्र में कहा दुनिया को अलविदासरकार का फैसला, पूर्व सीजेआई रंजन गोगोई को जेड प्लस की सुरक्षाबड़ी खबर : बम धमाका, 32 के उड़े चीथड़े, 110 से ज्यादा लोग घायल, देखें वीडियोबड़ी खबर : कांग्रेस को मई में मिल सकता है नया अध्यक्ष! सांगठनिक चुनाव को लेकर CWC में फैसलान्यायपालिका और आरबीआई, सीबीआई, ईडी जैसी एजेंसियों को स्वतंत्र रूप से कार्य करना चाहिए : बॉम्बे HCBIG BREAKING : 10वी 12वी के स्टूडेंट्स हो जाए तैयार, 3 फरवरी से शुरू होगी परीक्षाएंआम आदमी की बढ़ी मुश्किलें, आज फिर महंगा हो गया पेट्रोल-डीजल, जानिए आपके शहरों में क्या है इसका ताजा भावबड़ी खबर : जिला अस्पताल में बम मिलने की सूचना, मचा हड़कंप, जांच में जुटी पुलिस और अधिकारियों की टीमBREAKING : भाजपा के प्रदेश प्रभारी डी पुरेंदेश्वरी का छत्तीसगढ़ दौरा रद्द, सह प्रभारी नितिन नवीन करेंगे आंदोलन की अगुवाईबड़ा हादसा : शिवमोगा में भयंकर ब्‍लास्‍ट, 8 लोगों की मौत, और बढ़ सकती है मृतकों की संख्‍या

सुप्रीम कोर्ट ने किसानों से कहा – हम कृषि कानून के अमल पर रोक लगाने जा रहे हैं, क्या किसान रास्ते से हटेंगे?

Mahendra Kumar SahuJanuary 11, 20211min

 

 


 

नई दिल्ली । कृषि कानून के विरोध में उपजे गतिरोध के बाद सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को आज सुनवाई के दौरान कड़ी फटकार लगाई है। साथ ही किसानों से कहा है कि हम कृषि कानून के अमल पर रोक लगा रहे हैं। क्या किसान सड़कों से हटेंगे?

 

मुख्य न्यायाधीश ने सरकार से कहा कि अगर आप में समझ है तो इन कानूनों पर अमल ना करें। यह पूरा मामला आज शाम तक साफ हो जाएगा। वर्तमान परिस्थितियों से लग रहा है कि सुप्रीम कोर्ट शाम तक तीनों कृषि कानूनों पर रोक लगा सकती है।

 

याचिकाकर्ता के वकील ने कहा कि सिर्फ विवादित हिस्सों पर ही रोक लगाई जाए लेकिन कोर्ट का कहना है कि नहीं हम पूरे कानून पर रोक लगाएंगे। सुप्रीम कोर्ट ने आगे कहा कि लोग मर रहे हैं और हम कानूनों पर रोक नहीं लगा रहे हैं। उच्चतम न्यायालय ने कहा कि नए कृषि कानूनों को लेकर जिस तरह से सरकार और किसानों के बीच बातचीत चल रही है, उससे हम बेहद निराश हैं। कोर्ट ने आगे कहा कि आपके राज्य कानूनों के खिलाफ विद्रोह कर रहे हैं। हम फिलहाल इन कानूनों को निरस्त करने की बात नहीं कर रहे हैं, यह काफी नाजुक स्थिति है।

 

 

 

 

इसके आगे सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा कि हम नहीं जानते कि आप समाधान का हिस्सा हैं या समस्या का हिस्सा हैं। इसके अलावा कोर्ट ने कहा कि हम कमेटी बनाने जा रहे हैं, अगर किसी को दिक्कत है तो वो बोल सकता है। सभी आदेश एक ही सुनवाई के दौरान नहीं दी जा सकती है। कोर्ट ने केंद्र सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि आपने इसे उचित ढंग से नहीं संभाला है, हमें इस पर एक्शन लेना ही होगा।

 

कोर्ट ने आगे कहा कि हमारे सामने एक भी ऐसी याचिका नहीं है, जो यह बताए कि ये कानून किसानों के हित में हैं। इसके अलावा कोर्ट ने आगे कहा कि ऐसी आशंका है कि एन दिन आंदोलन में हिंसा हो सकती है। कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि क्या किसान नागरिकों के लिए रास्ता छोड़ेंगे। कोर्ट ने कहा कि हम बीच का रास्ता निकालना चाहते हैं।

 

सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए कहा कि केंद्र सरकार को इन सब की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। केंद्र सरकार कानून ला रही है और इसे बेहतर तरीके से कर सकती थी। कोर्ट ने आगे कहा कि अगर कुछ गलत हो गया तो इसके जिम्मेदार हम सब होंगे। हम नहीं चाहते कि हमारे हाथ किसी के खून से रंगे हो।

 

READ MORE ; India vs Australia: भारत के चोटिल खिलाड़ियों ने ऑस्ट्रेलिया की जीत पर फेरा पानी, सिडनी टेस्ट हुआ ड्रॉ

 

कोर्ट ने किसानों से कहा कि हम कानूनों पर रोक लगा सकते हैं और आप अपना आंदोलन जारी कर सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने किसान संगठनों से कहा कि चाहे आप विश्वास करें या ना करें, लेकिन हम देश का सुप्रीम कोर्ट हैं और हम अपना काम करेंगे। कोर्ट ने आगे कहा कि हमें नहीं पता कि लोग सामाजिक दूरी के नियम का पालन कर रहे हैं कि नहीं लेकिन हमें उनके (किसानों) भोजन पानी की चिंता है।

 

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories