ताज़ा ख़बर
BREAKING : प्रसिद्ध भजन गायक नरेंद्र चंचल का निधन, 80 साल की उम्र में कहा दुनिया को अलविदासरकार का फैसला, पूर्व सीजेआई रंजन गोगोई को जेड प्लस की सुरक्षाबड़ी खबर : बम धमाका, 32 के उड़े चीथड़े, 110 से ज्यादा लोग घायल, देखें वीडियोबड़ी खबर : कांग्रेस को मई में मिल सकता है नया अध्यक्ष! सांगठनिक चुनाव को लेकर CWC में फैसलान्यायपालिका और आरबीआई, सीबीआई, ईडी जैसी एजेंसियों को स्वतंत्र रूप से कार्य करना चाहिए : बॉम्बे HCBIG BREAKING : 10वी 12वी के स्टूडेंट्स हो जाए तैयार, 3 फरवरी से शुरू होगी परीक्षाएंआम आदमी की बढ़ी मुश्किलें, आज फिर महंगा हो गया पेट्रोल-डीजल, जानिए आपके शहरों में क्या है इसका ताजा भावबड़ी खबर : जिला अस्पताल में बम मिलने की सूचना, मचा हड़कंप, जांच में जुटी पुलिस और अधिकारियों की टीमBREAKING : भाजपा के प्रदेश प्रभारी डी पुरेंदेश्वरी का छत्तीसगढ़ दौरा रद्द, सह प्रभारी नितिन नवीन करेंगे आंदोलन की अगुवाईबड़ा हादसा : शिवमोगा में भयंकर ब्‍लास्‍ट, 8 लोगों की मौत, और बढ़ सकती है मृतकों की संख्‍या

बेमेतरा : सरकारी जमीन में रसूखदारों का कब्जा, स्कूल और पंचायत भवन के लिए तरस रहा गांव

Mahendra Kumar SahuJanuary 10, 20211min

 


 

बेमेतरा, योगेश सिंह राजपूत : साजा विधानसभा के ग्राम रानो गांव के शासकीय जमीन में पूर्व प्रतिनिधियों और रसूखदारों द्वारा कई एकड़ जमीन पर अतिक्रमण का मामला पंचायत के लिए मुसीबत बना हुआ है. अतिक्रमण के चलते गांव में स्कूल भवन और पंचायत भवन बनाने के लिए शासकीय जमीन नहीं बचा है.

 

गांव वालों के लगातार शिकायत के बावजूद आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई. सक्षम अधिकारी अतिक्रमणकारियों को समय-समय पर नोटिस जरूर थमा रहे हैं लेकिन आज तक प्रशासन की टीम गांव नहीं पहुंच पाई है.

 

क्या है मामला?

पूरा मामला साजा विधानसभा के ग्राम रानो पंचायत का है जहां विगत वर्षों से लगातार गांव में रसूखदार शासकीय जमीन पर दबंगई पूर्वक कब जा कर रहे हैं. जिसमें पूर्व सरपंच, भी शामिल हैं. ग्रामीणों का कहना है कि अपने मूल जमीन को बेचकर शासकीय जमीन पर कब्जा कर रहे हैं और घर बना कर काबिज हैं.

 

 

 

READ MORE : अब तक 57 किसान हो चुके हैं शहीद, सरकार की हठधर्मिता के कारण आठ बार की चर्चा के सार्थक नतीजे नहीं निकले: चंद्रप्रभा

 

ग्रामीणों ने बताया कि क्षेत्र के नेता द्वारा कई बार हाई स्कूल भवन निर्माण के लिए भूमि पूजन तो हुआ है, लेकिन स्कूल नहीं बन पाया है क्योंकि प्रशासन अतिक्रमण हटाने में अभी तक नाकाम रही है. ग्रामीणों ने यह भी आरोप लगाया है कि सक्षम अधिकारी की मिलीभगत से कब्जा धारियों को नहीं हटाया गया. दिन-ब-दिन बढ़ते अतिक्रमण से गांव में आज की स्थिति गौठान चारागाह और इसको निर्माण के लिए जगह नहीं बचा है.

 

 

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories