ताज़ा ख़बर
बड़ी खबर : अब ट्रेनों में भी मिलेगा शराब, राज्य सरकार ने किया नियमों में बदलाव, नई गाइडलाइन जारीअलीबाग जाते समय वरुण धवन की कार का हुआ ऐक्सिडेंट, बाल-बाल बचे दूल्हे राजाCG BREAKING : चलती कार में अचानक लगी भीषण आग, सवार लोग कूद कर बचाए जानRAIPUR BREAKING : सिरफिरे युवक ने 7 गाड़ियों को किया आग के हवाले, CCTV कैमरे में कैद हुई वारदातहैंड सैनिटाइजर से बच्चों को बड़ा खतरा, जा सकती है आंखों की रोशनी, और भी हो सकते है ये नुकसानBIG BREAKING : नगरीय निकायों में बड़े पैमाने पर फेरबदल, कई अधिकारी- कर्मचारी इधर से उधर, आदेश जारीराम मंदिर के निर्माण के लिए शहर के युवाओं में दिखा जोश, हजारों की संख्या में विहिप ने निकाली बाइक रैलीशासकीय पूर्व माध्यमिक शाला मड़ियाकटटा में कोरोना काल में भी हरा भरा है स्कूल परिसर, प्रधान पाठक दयालूराम पिकेश्वर खुद कर रहे देखभालअगर आप iPhone खरीदना चाहते है तो ये खबर जरूर पढ़ें, यहां 16 हजार का मिल रहा बंफर छूटबड़ी खबर: मार्च के बाद नहीं चलेंगे पुराने 100, 10 और 5 रुपए के नोट, जानिये क्या होगा अब, RBI ने दी जानकारी

मनरेगा में गड़बड़ी: गरीब ग्रामीणों को मिलना था रोजगार, लेकिन जिम्मेदारों ने करा दिया बड़ी गाड़ियों और मशीनों से काम

Sanjay sahuJanuary 9, 20211min

 

 

बीजापुर/गुप्तेश्वर जोशी। जहां सीएम के स्वागत के लिए मुख्यालय को जिला प्रशासन ने दुल्हन की तरह सजाया है। वही कांग्रेस की सरकार में जिले के विधायक और जनप्रतिनिधि भी मुख्यमंत्री को खुश करने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे।

 

लेकिन यह तैयारी सिर्फ जिला मुख्यालय तक सीमित हो चुकी है।हम ऐसा इसलिए कह रहे है क्योंकि जिला मुख्यालय से 30 किमी की दूरी पर उसूर तहसील के आवापल्ली ग्राम पंचायत के गुल्लावांगु गांव में मनरेगा योजना के तहत जनपद पंचायत विभाग द्वारा 20 लाख के तालाब का निर्माण किया जा रहा है।

 

 

योजना के तहत इस गांव के ग्रामीणों से तालाब खुदाई और तालाब के मेड़ बंधान का काम करवाया जाना था जिससे गांव बेरोजगारो को रोजगार मिलता लेकिन विडंबना ये है कि ग्रामीणों का रोजगार छीनते हुए जिम्मेदारों ने इस तालाब का काम बड़ी -बड़ी गाड़ियों और मशीनों से करवा दिया। जिससे कि गोल्लावांगु गांव के ग्रामीण अपने को ठगा महसूस कर रहे है और दूसरे राज्य में रोजगार तलाश की बात कह रहे है।

 

गुल्लावांगु के ग्रामीण कुंजाम भीमा, सोनू कुंजाम ने बताया कि हम तालाब खुदाई और मेड बधान का कार्य के लिए हम खुश थे हमे लगा कि इस तालाब के निर्माण से हमे रोजगार मिलेगा और इस कार्य जो मेहताना हमे मिलता तो हम अपने परिवार का भरण पोषण कर पाते लेकिन सरपंच -सचिव ने यह कार्य बड़ी बड़ी गाड़ियों से करवा दिया।

 

हमने इस तालाब में महज 6 दिन काम किया बाकी पूरा कार्य गाड़ियों से करा दिया जिससे कि हमारा रोजगार हमसे छीन गया और अब तक 6 दिन जो हमने कार्य किया उसका भी हमें भुगतान नहीं हो पाया है।

 

इनका ये है कहना

जब इस संबंध में कांग्रेस के नेता व जिला पंचायत उपाध्यक्ष कमलेश कारम व जनपद पंचायत उसूर के सीईओ एस बी गौतम से पत्रकारों ने चर्चा करनी चाही तो उन्होंने इस संबंध में कुछ भी कहने से बचते नजर आए और उन्होंने कहा कि सीएम प्रवास से पहले मैं कुछ भी नहीं कह पाऊंगा करके अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ दिया।

 

जांच के बाद होगी कार्रवाई

 

इसकी जानकारी मुझे मीडिया के माध्यम से पता चला है। मनरेगा के कार्य में अगर गड़बड़ी हुई है और नियम के विरुद्ध कार्य हुआ है तो मैं इसकी जांच करवाकर संबधित अधिकारियों एवं कर्मचारियों के ऊपर कार्यवाही करूंगा।
– रितेश अग्रवाल, कलेक्टर

 

 

कांग्रेस की सरकार में पंचायतों का छीना जा रहा हक

महेश गागड़ा ने कहा कि कांग्रेस की सरकार में भ्रष्टाचार अपनी चरम सीमा पर है। सीएम जिला मुख्यालय आ रहे है जिस वजह से छोटे दुकानदारों की दुकानों को हटा दिया गया और उनकी रोजी रोटी छीन ली गई और कांग्रेस की सरकार में पंचायतों का हक छीना जा रहा है और गरीब ग्रामीणों का हक भी छीना जा रहा है। 14वें वित्त की राशि का भी बंदरबांट किया जा रहा है। जिस वजह से मजबूर ग्रामीण रोजगार की तलाश में दूसरे प्रदेश जाने को मजबूर हो रहे है।
-महेश गागड़ा, पूर्व वनमंत्री



About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories