ताज़ा ख़बर
शर्मसार : पहले लिंग परिवर्तन करवाया, फिर 6 दरिंदों ने की हवस पूरी, भीख मंगवाकर दूसरे से दूसरे भी करवाते थे रेपसुकमा पुलिस को मिली बड़ी सफलता, एक वारंटी नक्सली को दबोचासांसद शताब्दी रॉय के बीजेपी में शामिल होने की अटकले तेज, कही ये बात…देखें VIDEO : “मोदी तेरी तानाशाही नहीं चलेगी… नहीं चलेगी” के नारों से गूंजी राजधानी, केंद्र सरकार के खिलाफ फूटा कांग्रेस का गुस्साBREAKING NEWS : दर्दनाक सड़क हादसे में 11 लोगों की मौत, मची चीख पुकार… PM मोदी ने जताया दुखChhattisgarh Budget 2021-22 : बजट को लेकर मंत्रियों से चर्चा करेंगे CM बघेल, बारी-बारी लेंगे विभाग की जानकारीCG BREAKING : जवान ने की खुदकुशी, अपने ही सर्विस रायफल से खुद को मारी गोली, नक्सल ऑपरेशन के दौरान की आत्महत्याKisan Andolan : आज 9वीं बार सरकार और किसानों के बीच होगी बातचीत, क्या निकलेगा नतीजा?रायपुर में इस शख्स को लगेगा कोरोना का पहला टीका, कल से शुरू होगा वैक्सीनेशन प्रोसेसबड़ा हादसा : गोबर से भरे गड्ढे में गिरा 10 साल का बच्चा, दम घुटने से हुई मौत

तीसरी बार आत्महत्या के बाद भी एम्स प्रबंधन क्यों नहीं हुए सचेत, शिवसेना ने उठाया सवाल

Som dewanganJanuary 8, 20211min


 

रायपुरः कोरोना काल के दौरान एम्स हाॅस्पिटल में आत्महात्या का मामला कम होने का नाम नहीं ले रहा है। आए दिन कोरोना संक्रमित मरीज व अन्य मरीज छत से कूदकर जान दे रहे है। इस मामले को लेकर आज शिवसेना ने एम्स के डायरेक्टर से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंनें आत्महत्याओं की जांच कराने की मांग की।

मीडिया से बातचीत करते हुए शिवसेना के जिला प्रदेश सचिव संजय नाग ने कहा कि विगत दिनों लगातार एम्स अस्पताल परिसर से मरीजो द्वारा छत से कूदकर 3 मरीजों ने आत्महत्या कर इस पर सवाल उठाते हुये एम्स के डायरेक्टर डा. नितिन नागरकर को ज्ञापन सौपा। वहीं उन्होंने कहा कि आत्महत्या के बाद ही अस्पताल प्रबंधन सचेत क्यों नहीं हुए उसके बाद भी लापरवाही का ऐसा माजरा कि दूसरी और तीसरी आत्महत्या हुई है।

 

प्रबंधन ने सचेतक की भूमिका निभाई न ही सुरक्षा व्यवस्था को चाकचैबंद किया। इसके साथ ही कोरोना काल में जान जोखिम में डालकर काम किये गये वार्ड ब्वाय के वेतन कम कर दिये जबकि नये टेंडर और कोरोना काल में काम किये लोगों का वेतन बढना चाहिये लेकिन वार्डब्वाय को नौकरी से निकाल दिया गया, जिन्हें त्वरित रूप से लिया जाये, सफाई कर्मी, गार्ड, हाउसकीपिंग, टेक्निशियन की भर्ती के लिये घूस की मांग की जा रही है, केंटिन में महंगे दरों पर गरीब मजदूर बीमार और उनके परिजनों को खाना खिलाते है, जिसका दर सस्ती की जाये।

बाहरी लोगों की भर्ती से दर्व्यवहार की शिकायतें आ रही है, इसलिये स्थानीय को नौकरी मे 90 प्रतिशत प्राथमिकता दी जाये । इन सब मुद्दों पर एम्स डायरेक्टर एवं उनके साथ डी.डी.ए. डा. अंशुमन गुप्ता ने परे ध्यान से सुना और लगभग दो-ढाई घंटे के चर्चे पर एक एक शिकायतों का जवाब देते हुये जल्द से जल्द निदान की बातें की है, पैसों के बल पर भर्ती करने वाल लोगों के नाम देने की बात पर संजय नाग ने कहा कि यदि वे पकड़े जायेंगे तो रास्ते में उनका मुंह काला किया जायेगा, क्योकि शिवसेना के कार्यकर्ता इनकी टोह मे है । घोटालों की बात पर प्रबंधन ने उसे स्टाफ नहीं वरन बाहरी व्यक्ति बताया है।

 

शिवसेना के प्रदेश सचिव संजय नाग ने अपने कार्यकर्ताओं सूरज साहू, एच.एन.सिंह, सन्नी देशमुख, राहुल सोनवानी, प्रफुल्ल साहू, विजय नाग, गिरीश सोनी, आकीब खान, कैलाश साहू, त्रिलोकीनाथ यादव, बल्लू जांगडे, संतोष मारकंडेय, जैन यादव, इन्द्र साहू, यशवंत राजपुत, सुनील छूरा, प्रीति सागर, ज्योति द्विवेदी, अश्वनी साहू आदि थे ।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories