ताज़ा ख़बर
15 साल की नाबालिग को बनाया हवस का शिकार, पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तारBREAKING : पुलिस विभाग में फेरबदल, 3 अधिकारियों को किया गया इधर से उधर, देखें सूचीBIG BREAKING : केंद्रीय मंत्री के काफिले की गाड़ियां आपस में टकराई, गनमैन समेत दो लोगों को आई चोटेंRAIPUR ACCIDENT : राजधानी में डस्टर व बाइक में जबरदस्त भिड़ंत, 2 युवक बुरी तरह जख्मीSamsung के वाइस प्रेसिडेंट को ढाई साल की जेल, पूर्व राष्ट्रपति को रिश्वत देने का आरोपBREAKING : 4 इनामी समेत 8 नक्सलियों ने किया सरेंडर, दंतेवाड़ा पुलिस को मिली बड़ी सफलताCG BREAKING : TI पर गिरी निलंबन की गाज, DGP डीएम अवस्थी ने की कार्रवाई, जानिए क्यों?किसान आंदोलन : छत्तीसगढ़ से अन्नदाताओं के लिए 60 टन अनाज और 68 हजार रूपए दिल्ली रवाना, CM भूपेश ने दिखाई हरी झंडीखुलासा : पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सामने आया सच, वैक्सीन लगाने के बाद इस वजह से गई स्वास्थ्यकर्मी की जानBREAKING : ट्रेन के दो डिब्बे पटरी से उतरे, चारबाग स्टेशन के पास हुआ हादसा

निराश्रित शिशुओं की देखभाल की जिम्मेदारी लेना जन सेवा का सबसे अच्छा साधन : कलेक्टर 

Sanjay sahuJanuary 8, 20211min

 

 

दुर्ग : पंकज ताम्रकार दुर्ग कलेक्टर डाॅ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे आज सेवा भारती मातृ छाया संस्था द्वारा बोरसी में चलाये जा रहे परिसर में पहुंचे। यहाँ एक बच्चे को गोद लेने अभिभावक पहुंचे थे। कलेक्टर ने अभिभावक एवं बच्चे के उज्ज्वल भविष्य की कामना की। उन्होंने कहा कि बच्चे के जीवन में और आपके जीवन में भी यह बहुत शुभ क्षण है।

 

आप बच्चे का ध्यान रखिये। खूब प्यार से रखिये, बच्चे का भविष्य बनाइये। इसमें ही आपका उज्ज्वल भविष्य भी छिपा है। बच्चे के अभिभावक दंपत्ति ने आभार व्यक्त किया। यहाँ उन्होंने संस्था की गतिविधियों की जानकारी ली। इस अवसर पर कलेक्टर ने कहा कि वे बिलासपुर में संस्था की गतिविधि देख चुके हैं।

 

शिशु का अभिभावकत्व सबसे अच्छा अनुभव होता है। इनके साथ रहकर, इनकी शरारतों के साथ समय भी बीत जाता है और हमेशा खुशी महसूस होती है। सेवा भारती का यह कार्यक्रम बहुत महत्वपूर्ण है। हम जानते हैं कि एक शिशु का माता-पिता कितना ध्यान रखते हैं।

 

उसे कितने केयर की जरूरत होती है। ऐसे में कोई शिशु यदि निराश्रित है तो उसकी परेशान कितनी होगी। सेवाभावी संस्थाएं इस संबंध में पहल करती हैं यह बहुत अच्छा है। किसी बच्चे को यदि योग्य अभिभावकत्व मिल जाए। अभिभावकों जैसा प्रेम, दुलार और रखरखाव मिल जाए तो उसके लिए जिंदगी की डगर आसान हो जाती है।

 

हमेशा ऐसे मामलों में बहुत देखरेख की जरूरत होती है। निराश्रित बच्चों की फीडिंग के साथ ही उनकी भावनात्मक जरूरतों का ध्यान रखना भी बेहद महत्वपूर्ण है। इस मौके पर आमंत्रित विशेष अतिथि डाॅ. रश्मि भुरे ने भी अपने विचार व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि छोटे बच्चों को सहेजना बहुत जिम्मेदारी का कार्य है।

 

इसके लिए समय भी समर्पित करना होता है और गहरी संवेदना भी आवश्यक है। जो सेवाभावी संस्थाएं ऐसा कार्य करती हैं उनका कार्य प्रशंसनीय है। छोटे बच्चों की बहुत सी इमोशनल जरूरतें होती हैं। इन्हें पूरा कर और बच्चे का अच्छे से ख्याल रख उसके सुखद भविष्य की नींव तैयार की जा सकती है। संस्था निराश्रित बच्चों की देखभाल करती है।

 

पहले संस्था के पास छह बच्चे थे। आज दंपत्ति एक बच्चे को अपने साथ ले गए। अब संस्था में पाँच बच्चे हैं। अधीक्षिका श्रीमती पूनम श्रीवास्तव ने बताया कि शासन की गाइडलाइन के मुताबिक बच्चों का हम लोग पूरा ध्यान रखते हैं। उनके स्वास्थ्य का और भावनात्मक जरूरतों का भी पूरा ध्यान रखते हैं।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories