ताज़ा ख़बर
15 साल की नाबालिग को बनाया हवस का शिकार, पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तारBREAKING : पुलिस विभाग में फेरबदल, 3 अधिकारियों को किया गया इधर से उधर, देखें सूचीBIG BREAKING : केंद्रीय मंत्री के काफिले की गाड़ियां आपस में टकराई, गनमैन समेत दो लोगों को आई चोटेंRAIPUR ACCIDENT : राजधानी में डस्टर व बाइक में जबरदस्त भिड़ंत, 2 युवक बुरी तरह जख्मीSamsung के वाइस प्रेसिडेंट को ढाई साल की जेल, पूर्व राष्ट्रपति को रिश्वत देने का आरोपBREAKING : 4 इनामी समेत 8 नक्सलियों ने किया सरेंडर, दंतेवाड़ा पुलिस को मिली बड़ी सफलताCG BREAKING : TI पर गिरी निलंबन की गाज, DGP डीएम अवस्थी ने की कार्रवाई, जानिए क्यों?किसान आंदोलन : छत्तीसगढ़ से अन्नदाताओं के लिए 60 टन अनाज और 68 हजार रूपए दिल्ली रवाना, CM भूपेश ने दिखाई हरी झंडीखुलासा : पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सामने आया सच, वैक्सीन लगाने के बाद इस वजह से गई स्वास्थ्यकर्मी की जानBREAKING : ट्रेन के दो डिब्बे पटरी से उतरे, चारबाग स्टेशन के पास हुआ हादसा

अन्नदाता के साथ फिर दगा, रास नहीं आ रही मोदी सरकार को किसानों की मांग, फिर बुलाई 15 को बैठक

Som dewanganJanuary 8, 20211min


 

नई दिल्ली: तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन आज लगातार 44वें दिन दिल्ली की सीमाओं पर जारी है. इस बीच आज केंद्र सरकार और किसान संगठनों के बीच आठवें दौर की बैठक हुई. यह बैठक भी बेनतीजा रही. अब अगली बैठक 15 जनवरी को होगी.

सूत्रों के मुताबिक, बैठक में आज एक बार फिर सरकार ने किसान नेताओं के सामने कानून में संशोधन का प्रस्ताव रखा. सरकार की ओर से कहा गया कि कानून वापस नहीं ले सकते क्योंकि काफी किसान इसके पक्ष में हैं. वहीं किसान नेता कानून रद्द करने की मांग दुहराते रहे.

सरकार के रुख से नाराज किसानों ने बैठक के बीच में लंगर खाने से मना कर दिया. तल्खी बढ़ने पर सरकार ने लंच ब्रेक का आग्रह किया तो किसान नेताओं ने कहा कि ना रोटी खाएंगे ना चाय पिएंगे.

 

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, वाणिज्य एवं खाद्य मंत्री पीयूष गोयल और वाणिज्य राज्य मंत्री और पंजाब से सांसद सोम प्रकाश करीब 40 किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ विज्ञान भवन में वार्ता की.

इससे पहले, चार जनवरी को हुई वार्ता बेनतीजा रही थी, क्योंकि किसान संगठन तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने की अपनी मांग पर अड़े रहे, वहीं सरकार ‘‘समस्या’’ वाले प्रावधानों या गतिरोध दूर करने के लिए अन्य विकल्पों पर ही बात करने पर जोर दिया.

किसान संगठनों और केंद्र के बीच 30 दिसंबर को छठे दौर की वार्ता में दो मांगों, पराली जलाने को अपराध की श्रेणी से बाहर करने और बिजली पर सब्सिडी जारी रखने को लेकर सहमति बनी थी.

क्या कहना है सरकार और किसानों का?


 

सरकार के साथ बातचीत से पहले गुरुवार को हजारों किसानों ने ट्रैक्टर रैली निकाली. पिछले साल सितम्बर में अमल में आए तीनों कानूनों को केंद्र सरकार ने कृषि क्षेत्र में बड़े सुधार के तौर पर पेश किया है. सरकार का कहना है कि इन कानूनों के आने से बिचौलियों की भूमिका खत्म हो जाएगी और किसान अपनी उपज देश में कहीं भी बेच सकेंगे.

दूसरी तरफ, प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों का कहना है कि इन कानूनों से एमएसपी का सुरक्षा कवच खत्म हो जाएगा और मंडियां भी खत्म हो जाएंगी और खेती बड़े कारपोरेट समूहों के हाथ में चली जाएगी.

विभिन्न विपक्षी दलों और अलग-अलग क्षेत्रों के लोगों ने भी किसानों का समर्थन किया है, वहीं पिछले कुछ हफ्ते में कुछ किसान संगठनों ने कृषि मंत्री से मुलाकात कर तीनों कानूनों को अपना समर्थन दिया है.

अमित शाह की बैठक


 

केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों के साथ बैठक से पहले गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की. सूत्रों ने कहा कि बैठक करीब एक घंटा चली.

हालांकि इस दौरान किन मुद्दों पर बातचीत हुई, यह पता नहीं चल पाया है. अमित शाह ने गुरुवार को भी पंजाब के बीजेपी नेताओं से मुलाकात की थी.


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories