ताज़ा ख़बर
पुलिस मुख्यालय के पास महिला से रेप, दुष्कर्म से पहले आरोपी ने पीड़िता को पीटाCORONA BREAKING : छत्तीसगढ़ में कोरोना की रिकवरी रेट ने पकड़ी रफ्तार, आज 521 संक्रमितों की पुष्टि, 905 स्वस्थ्य होकर लौटे घरहड़ताल से वापस घर लौटी रोजगार सहायिका ने खाया जहर, जांच में जुटी पुलिसबड़ी खबर: मैत्री बाघ में बाघिन वसुंधरा का निधन, इलाज के दौरान थमी सांसेबड़ी खबर: अगर सरकार नहीं करेंगी WHATSAPP के खिलाफ कार्रवाई, तो CAIT करेगा कोर्ट का रुखशर्मसार : पहले लिंग परिवर्तन करवाया, फिर 6 दरिंदों ने की हवस पूरी, भीख मंगवाकर दूसरे से दूसरे भी करवाते थे रेपसुकमा पुलिस को मिली बड़ी सफलता, एक वारंटी नक्सली को दबोचासांसद शताब्दी रॉय के बीजेपी में शामिल होने की अटकले तेज, कही ये बात…देखें VIDEO : “मोदी तेरी तानाशाही नहीं चलेगी… नहीं चलेगी” के नारों से गूंजी राजधानी, केंद्र सरकार के खिलाफ फूटा कांग्रेस का गुस्साBREAKING NEWS : दर्दनाक सड़क हादसे में 11 लोगों की मौत, मची चीख पुकार… PM मोदी ने जताया दुख

सरकार और किसानों की नाकाम वार्ता पर राहुल गांधी का तंज, कहा- नीयत साफ नहीं है जिनकी…

Som dewanganJanuary 8, 20211min


 

नई दिल्ली: किसान संगठनों और सरकार के बीच आज हुई आठवें दौर की बैठक भी बेनतीजा रही. अब 15 जनवरी को किसान संगठन और सरकार बातचीत करेंगे. इसको लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर तंज कसा है. उन्होंने कहा कि नीयत साफ़ नहीं है जिनकी, तारीख़ पे तारीख़ देना स्ट्रैटेजी है उनकी!.

 

इससे पहले एक अन्य ट्वीट में राहुल गांधी ने कहा कि मोदी सरकार ने अपने पूँजीपति मित्रों के फ़ायदे के लिए देश के अन्नदाता के साथ विश्वासघात किया है. आंदोलन के माध्यम से किसान अपनी बात कह चुके हैं. अन्नदाताओं की आवाज़ उठाना और उनकी माँगों का समर्थन करना हम सब का कर्तव्य है.

 

बता दें कि किसान कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग करते हुए दिल्ली की सीमाओं पर पिछले 44 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं. इस गतिरोध को खत्म करने के लिए आज किसान संगठनों और सरकार के बीच आठवें दौर की बैठक हुई.

 

इस बैठक के बाद केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि किसान नेताओं के साथ वार्ता में कोई फैसला नहीं हुआ है. किसान संगठनों ने नये कृषि कानूनों को वापस लेने की अपनी मांग का कोई विकल्प नहीं दिया.

 

उन्होंने कहा कि सरकार तब तक कुछ नहीं कर सकती, जबतक कि किसान संगठन नये कानूनों को वापस लेने की अपनी मांग का विकल्प नहीं देते हैं.

 

तोमर ने कहा कि सरकार को उम्मीद है कि किसान संगठनों के नेता 15 जनवरी को अगले दौर की वार्ता में चर्चा के लिए विकल्पों के साथ आएंगे, कानूनों को निरस्त करने का सवाल ही नहीं उठता है.

 

वहीं किसान यूनियन के नेता जोगिन्दर सिंह उग्राहां ने कहा कि बैठक बेनतीजा रही, हम कानूनों को वापस लिए जाने से कम कुछ नहीं चाहते हैं. सरकार हमारी ताकत की परीक्षा ले रही है, हम झुकेंगे नहीं, ऐसा लगता है कि हम लोहड़ी, बैसाखी उत्सव यहीं मानएंगे.


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories