ताज़ा ख़बर
बड़ी खबर : अब ट्रेनों में भी मिलेगा शराब, राज्य सरकार ने किया नियमों में बदलाव, नई गाइडलाइन जारीअलीबाग जाते समय वरुण धवन की कार का हुआ ऐक्सिडेंट, बाल-बाल बचे दूल्हे राजाCG BREAKING : चलती कार में अचानक लगी भीषण आग, सवार लोग कूद कर बचाए जानRAIPUR BREAKING : सिरफिरे युवक ने 7 गाड़ियों को किया आग के हवाले, CCTV कैमरे में कैद हुई वारदातहैंड सैनिटाइजर से बच्चों को बड़ा खतरा, जा सकती है आंखों की रोशनी, और भी हो सकते है ये नुकसानBIG BREAKING : नगरीय निकायों में बड़े पैमाने पर फेरबदल, कई अधिकारी- कर्मचारी इधर से उधर, आदेश जारीराम मंदिर के निर्माण के लिए शहर के युवाओं में दिखा जोश, हजारों की संख्या में विहिप ने निकाली बाइक रैलीशासकीय पूर्व माध्यमिक शाला मड़ियाकटटा में कोरोना काल में भी हरा भरा है स्कूल परिसर, प्रधान पाठक दयालूराम पिकेश्वर खुद कर रहे देखभालअगर आप iPhone खरीदना चाहते है तो ये खबर जरूर पढ़ें, यहां 16 हजार का मिल रहा बंफर छूटबड़ी खबर: मार्च के बाद नहीं चलेंगे पुराने 100, 10 और 5 रुपए के नोट, जानिये क्या होगा अब, RBI ने दी जानकारी

बिलासपुर हाईकोर्ट: किसानों के हित में लगी जनहित याचिका, केंद्र सरकार से मांगा जवाब, अधिवक्ता आयुष भाटिया ने ये दी थी दलिल

Sanjay sahuJanuary 8, 20211min

 

 

 

 

बिलासपुर। बिलासपुर हाईकोर्ट में किसानों की हितों के लिए अधिवक्ता आयुष भाटिया ने जनहित याचिका लगाई थी। जिसे लेकर कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकार से जवाब मांगा है। खरीफ विपणन सीजन 2020-21 जो कि 31 जनवरी, 2021 को समाप्त होगा।

 

 

न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान की खरीद का राज्य अनुमान 89 लाख मीट्रिक टन है, जिसमें से 60 एलएमटी की खरीद एफसीआई के केंद्रीय पूल के तहत किसानों से की जानी थी, लेकिन इस वक्त केवल 24 एलएमटी को केंद्रीय पूल में जमा करने के लिए उठाने की अनुमति है। जिससे धान खरीदी प्रभावित हो रही है।

 

 

याचिका के मुताबिक केंद्र ने छत्तीसगढ़ सरकार से 60 लाख मीट्रिक टन धान खरीदने का वादा किया था। लेकिन केंद्र सरकार ने ऐसा नहीं किया। जिससे मौजूदा समय में राज्य सरकार ने जो धान खरीदी की है उसके भंडारण की समस्या उत्पन्न हो रही है। कोर्ट से ये मांग की गई है कि वो एफसीआई को तय सीमा तक धान खरीदी करने के लिए निर्देश दें।

 

 

READ MORE:RAIPUR BREAKING: युवक की अधजली लाश की गुत्थी सुलझी, आपसी लेनदेन बना हत्या की वजह, 2 आरोपी गिरफ़्तार, चाकू गोद पत्थर से कुचला था सर फिर पहचान छुपाने लगाई आग

 

 

 

ताकि प्रदेश के 21 लाख किसानों को फायदा मिल सके। ऐसा आदेश होने पर लाखों किसानों को राहत मिलेगी। जिनका खाद्यान्न अभी तक न्यूनतम समर्थन मूल्य पर नहीं खरीदा जा सका है। आपको बता दें कि प्रतिबंध के कारणों का विवरण केंद्र ने स्पष्ट रूप से एक पत्र में दिया है। केंद्र के मुताबिक वो राज्य की संचालित एजेंसी माक्रफेड के खरीदे गए धान की खरीदी नहीं कर सकता है।

 

 

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories