ताज़ा ख़बर
BIG BREAKING : JEE Mains का रिजल्ट जारी, केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने दी जानकारी, देखें रिजल्टRishabh Pant ने शिखर धवन के सिर पर मारी गेंद, तो रोहित शर्मा ने किया कुछ ऐसा, जानकर आप भी रह जाएंगे दंगRAIPUR BREAKING: स्टेडियम में चलते मैच पर सट्टा खिलाने की सूचना पर 6 युवकों को पुलिस ने पकड़ाबड़ी खबर : राज्य सरकार ने अजय अग्रवाल को दिया कैबिनेट मंत्री का दर्जा, सामान्य प्रशासन विभाग ने जारी किया आदेशविराट कोहली ने बेटी वामिका के साथ पत्नी को अनोखे अंदाज़ में दिया महिला दिवस पर ये खास मैसेज…करीना कपूर ने शेयर की बेटे की पहली तस्वीर, कैप्शन से जीत लिया दिलBREAKING: स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव और राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल मिले कोरोना पॉजिटिव, प्रदेश में कोरोना संदिग्धों की जांच का आंकड़ा 50 लाख के करीब पहुंचाबड़ी खबर : DPI ने DEO की रिपोर्ट पर प्राचार्य को सस्पेंड करने का दिया निर्देश, निरिक्षण के दौरान उजागर हुई थी कई खामियांगाड़ी से उतरते ही इस मशहूर एक्ट्रेस ने सड़क पर किया जोरदार डांस, Video हुआ वायरलशादी के बाद सुहागरात पर भारतीय कपल्स सबसे पहले करते है ये काम, जानकर आपको भी होगी हैरानी

तो क्या बिहार में कभी भी गिर सकती है नीतीश कुमार की सरकार, इस नेता ने किया बड़ा दावा

Som dewanganDecember 30, 20201min


 

पटना। इन दिनों बिहार में सियासत बयानबाजी का दौर तेज हो गई है। आरजेडी नेता श्याम रजक ने दावा किया है कि जेडीयू के 17 विधायक ’लालटेन’ में शामिल होने के लिए तैयार है। श्याम रजक का कहना है कि ये विधायक बीजेेपी के कामकाज से नाराज है और आरजेडी के संपर्क में हैं।

 

श्याम रजक का यह बयान ऐसे वक्त में आया है, जब जेडीयू के अंदर भाजपा के खिलाफ नाराजगी चल रही है। हाल ही में अरुणाचल प्रदेश में 6 जेडीयू विधायक भाजपा में शामिल हो गए थे। तभी से भाजपा और जेडीयू में खींचतान चल रही है।

 

श्याम रजक ने दावा किया है कि यह सभी विधायक भाजपा की कार्यशैली से काफी नाराज हैं। इसी नाराजगी के चलते वह आरजेडी में शामिल होना चाहते हैं, लेकिन उन्हें अभी रोका गया है। श्याम रजक ने बताया कि दल-बदल कानून के अंतर्गत इनकी सदस्यता रद्द हो सकती है, इसलिए विधायकों को अभी इंतजार करने के लिए कहा गया है।

 

जेडीयू के लिए जख्म की तरह है अरुणाचल की घटना


 

अरुणाचल प्रदेश में छह विधायकों के भाजपा में शामिल होने का दर्द जनता दल (युनाइटेड) के नेताओं को कम नहीं हो रहा है। बिहार में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ सरकार चला रही जदयू के नेताओं को अभी भी उस दर्द की टीस तकलीफ दे रही है। जदयू के बिहार प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने मंगलवार को कहा कि “अरुणाचल प्रदेश की घटना से हमलोगों को तकलीफ तो जरूर हुई है।”

 

वशिष्ठ नारायण सिंह ने अपनी तकलीफ बयां करते हुए कहा, “इस घटना से हमलोगों को तकलीफ तो जरूर हुई है। इसे करने की जरूरत नहीं थी। इसका सबसे बड़ा कारण है कि हमलोग साथ काम करने, सहयोग करने को तैयार थे। जब काम करने को तैयार थे तब मिलाने का तर्क समझ में नहीं आ रहा।” उन्होंने आगे कहा कि ऐसी घटनाओं का दिल और दिमाग पर तो असर पड़ता ही है।

 

आरजेडी ने दिया नीतीश को ऑफर


 

कुछ दिन पहले ही अरुणाचल प्रदेश के जदयू के सात विधायकों में से छह विधायक पार्टी छोड़कर भाजपा में चले गए हैं। इसके बाद बिहार में राजनीतिक सरगर्मी तेज है। राजद के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष उदय नारायण चैधरी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को राजद के साथ आने का खुला ऑफर तक दे दिया है। चैधरी ने कहा कि अगर नीतीश कुमार तेजस्वी यादव को बिहार का मुख्यमंत्री बना दें, तो उनको 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री पद के लिए विपक्षी पार्टियां समर्थन कर सकती हैं।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories