ताज़ा ख़बर
RAIPUR BREAKING: सूने मकान में लाखों की चोरी को अंजाम देने वाले 2 आरोपियों को पुलिस ने राजस्थान से किया गिरफ़्तारCRIME: नाबालिग से दुष्कर्म के बाद जिंदा दफनाया, इधर, छात्रा को रेप के बाद बोरे में बांधकर पटरियों पर फेंकाबड़ी खबर: मृत महिला की हुई पहचान,पेपर में फ़ोटो देख परिजन थाना पहुंचे, पति पर हत्या का शकबड़ी खबर: रायपुर स्टेशन में बम, यात्रियों में मचा हड़कंप, RPF बमरोधी दस्ता व जवान मौके परRAIPUR BREAKING: ऑटो से लटकी मिली युवक की लाश, हत्या की आशंका, ऑटो यूनियन के सदस्यों ने किया चक्काज़ाममुंगेली : सीएम भूपेश बघेल ने जिले में कृषि महाविद्यालय और कृषि विज्ञान केंद्र का किया शुभारंभRAIPUR CRIME : कैशियर से 31 लाख रुपये की लूट, पुलिस ने 9 आरोपियों को किया गिरफ्तार, महज 4 दिन में सुलझाया मामलाBREAKING : ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष तैयब हुसैन पर गिरी गाज, विधायक से किया था बदसलूकी, अब शहजादी कुरैशी हो सकते हैं नए अध्यक्षबड़ी खबर: मंत्रालय जाने पर प्रतिबंध हटा, अब पास लेकर भीतर जा सकेंगे आम लोगVIDEO : उरला लूटकांड के आरोपी गिरफ्तार, थाने में पूछताछ जारी, देर शाम रायपुर IG करेंगे खुलासा

Tulsi Vivah : सज गए गन्ना बाजार, आज है तुलसी विवाह और देवउठनी एकादशी व्रत, जानें पूजा का समय और विधि

Sameer VermaNovember 25, 20201min


 

रायपुर : आज तुलसी विवाह (Tulsi Vivah) और देवउठनी एकादशी है. कहते हैं कि कार्तिक मास शुक्ल पक्ष की एकादशी को श्रीहरि चतुर्मास की निद्रा से जागते हैं, इसीलिए इस एकादशी को देवउठनी एकादशी भी कहते हैं. इस दिन से ही हिन्दू धर्म में शुभ कार्य जैसे विवाह आदि शुरू हो जाते हैं.

 

देवउठनी एकादशी के दिन ही भगवान विष्णु के स्वरूप शालीग्राम का देवी तुलसी से विवाह होने की परंपरा भी है. माना जाता है कि जो भक्त देवउठनी एकादशी के दिन तुलसी विवाह का अनुष्ठान करता है उसे कन्यादान के बराबर पुण्य मिलता है. वहीं एकादशी व्रत को लेकर मान्यता है कि साल के सभी 24 एकादशी व्रत करने पर लोगों को मोक्ष की प्राप्ति होती है.

 

 

पौराणिक कथा के अनुसार, एक बार माता तुलसी ने भगवान विष्णु को नाराज होकर श्राम दे दिया था कि तुम काला पत्थर बन जाओगे. इसी श्राप की मुक्ति के लिए भगवान ने शालीग्राम पत्थर के रूप में अवतार लिया और तुलसी से विवाह कर लिया. वहीं तुलसी को माता लक्ष्मी का अवतार माना जाता है. हालांकि कई लोग तुलसी विवाह एकादशी को करते है तो कहीं द्वादशी के दिन तुलसी विवाह होता है. ऐसे में एकादशी और द्वादशी दोनों तिथियों का समय तुलसी विवाह के लिए तय किया गया है.

 

एकादशी तिथि और तुलसी विवाह का समय

एकादशी तिथि प्रारंभ- 25 नवंबर 2020, बुधवार को सुबह 2.42 बजे से
एकादशी तिथि समाप्त- 26 नवंबर 2020, गुरुवार को सुबह 5.10 बजे तक
द्वादशी तिथि प्रारंभ- 26 नवंबर 2020, गुरुवार को सुबह 5.10 बजे से
द्वादशी तिथि समाप्त- 27 नवंबर 2020, शुक्रवार को सुबह 7.46 बजे तक

 

एकादशी व्रत और पूजा विधि

-एकादशी व्रत के दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान आदि करें और व्रत का संकल्प लें.
-इसके बाद भगवान विष्णु की अराधना करें.
-भगवान विष्णु के सामने दीप-धूप जलाएं. फिर उन्हें फल, फूल और भोग अर्पित करें.
-मान्यता है कि एकादशी के दिन भगवान विष्णु को तुलसी जरूर अर्पित करनी चाहिए.
-शाम को विष्णु जी की अराधना करते हुए विष्णुसहस्त्रनाम का पाठ करें.
-एकादशी के दिन पूर्व संध्या को व्रती को सिर्फ सात्विक भोजन करना चाहिए.
-एकादशी के दिन व्रत के दौरान अन्न का सेवन नहीं किया जाता है.
-एकादशी के दिन चावल का सेवन वर्जित है.
-एकादशी का व्रत खोलने के बाद ब्राहम्णों को दान-दक्षिणा जरूर दें.

 

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories