ताज़ा ख़बर
कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक सत्यनारायण शर्मा कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारीBREAKING : DGP अवस्थी एक्शन में, नप गए दो और पुलिसकर्मी, किए गए बर्खास्तBREAKING : नक्सलियों की एक और कायराना करतूत, IED ब्लास्ट कर दो ग्रामीणों को पहुंचाया नुकसानआज से बदल गए ये नियम, आम जीवन पर पड़ेगा सीधा असरधान खरीदी आज से शुरू, गड़बड़ियों पर राजधानी से होगी निगरानी, CM भूपेश ने अधिकारियों को दी चेतावनीबड़ी खबर : किसानों के सामने झुकी सरकार, कृषि कानून पर जल्द सुलह के आसार.. पढ़ेंराशिफल: मिथुन राशि वालों की कला-संगीत बढ़ सकती है रुचि, सन्तान सुख में भी होगी वृद्धि, जानें अन्य राशियों का हालCORONA BREAKING : स्वास्थ्य विभाग ने जारी किया मेडिकल बुलेटिन, छत्तीसगढ़ में आज 1,324 नए कोरोना संक्रमित की पुष्टि, 18 मरीजों की मौतBREAKING : स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया गाइडलाइन, कंटेनमेंट जोन में बंद रहेंगी दुकानेंBIG BREAKING : NRDA के चेयरमैन होंगे आर.पी.मंडल, आज ही मुख्य सचिव पद से हुए है सेवानिवृत्त

राहुल गांधी ने हाथरस में हुए बलात्कार को लेकर सरकार और पुलिस पर साधा निशाना, कहा-वर्दी की गुंडागर्दी का एक और उदाहरण

Sanjay sahuNovember 22, 20201min

 

 

नई दिल्ली। यूपी की कानून व्यवस्था पर राहुल गांधी ने एक बार फिर हमला बोला है।  उत्तर प्रदेश के हाथरस में दलित युवती के साथ हुए कथित बलात्कार को लेकर सरकार और पुलिस पर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने इसे गुंडाराज में वर्दी की गुंडागर्दी का एक और उदाहरण बताया।

राहुल गांधी ट्वीट किया, ”यूपी में सरकार के हाथों पीड़ितों का लगातार शोषण असहनीय है। हाथरस रेप-हत्या के मामले में पूरा देश सरकार से जवाब मांग रहा है और पीड़ित परिवार के साथ है।

 

गुंडाराज में वर्दी की गुंडागर्दी का एक और उदाहरण। राहुल गांधी ने अपने ट्वीट के साथ एक अखबार की खबर भी शेयर की। इस रिपोर्ट में बताया गया कि पीयूसीएल यानी पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टी की रिपोर्ट का जिक्र किया गया है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि सीआरपीएफ की तैनाती से फौरी तौर पर तो राहत है लेकिन वे सुरक्षित नहीं हैं।

 

पीयूसीएल की रिपोर्ट में और क्या बताया गया?

 

पीयूसीएल यानी पीपल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज ने हाथरस कांड पर 16 पन्नों की जांच रिपोर्ट जारी की है। अपनी रिपोर्ट में पीयूसीएल की जांच कमेटी ने आरोप लगाया कि पीड़िता को बेहतर इलाज के नाम पर अलीगढ़ से दिल्ली भेजना एक साजिश का हिस्सा था।

 

पीड़िता अलीगढ़ के सरकारी अस्पताल में रिकवर कर रही थी लेकिन अचानक से दिल्ली भेजना और वहां उसकी हालत बिगड़ने के बाद हुई मौत सवाल खड़े करती है।

मामले को भ्रमित करने की कोशिश

जांच कमेटी ने कहा कि पीएफआई का कनेक्शन मामले को भ्रमित करने की कोशिश है। जेल से आरोपियों की वायरल की गई चिट्ठी गांव में पुलिस, दबंग आरोपियों और स्थानीय प्रशासन की मिलीभगत से मामला प्रेम प्रसंग के तरफ डायवर्ट करने की कोशिश का हिस्सा थी।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories