ताज़ा ख़बर
भीषण हादसा: डंपर व टैंपो ट्रेवलर में भिड़ंत, लगी आग, तीन जिंदा जलेBREAKING : 7 थाना प्रभारी और 3 सब इंस्पेक्टर इधर से उधर, एसपी ने जारी किया आदेश, देखें सूचीRAIPUR BREAKING : पूर्व IAS बाबूलाल अग्रवाल की प्रॉपर्टी जब्त, 27 करोड़ 86 लाख की संपत्ति पर ED ने कसा शिकंजाEXCLUSIVE : रायपुर के ये हैं खूनी चौराहे, अगर गुजरते हैं आप तो हो जाएं सावधान, छोटी सी लापरवाही ले सकती है जानरोजगार सहायक ने PNB के खाते में दिया मेहनताना, हितग्राही बोले- इस बैंक में अकाउंट ही नहीं है, शिकायत के बावजूद कोई कार्रवाई नहींबड़ी खबर : परमाणु वैज्ञानिक की आतंकियों ने की हत्या, इजरायल पर लगा मर्डर का आरोपBIG BREAKING : मुख्यमंत्री के राजनीतिक सेक्रेटरी ने की खुदकुशी की कोशिश, अस्पताल में भर्तीआंदोलनकारी किसानों का दिल्ली प्रवेश, अब आगे क्या कदम उठाएंगे किसान? जानेंदेश की जनता से कितनी दूर है कोरोना वैक्सीन? आज PM मोदी वैज्ञानिकों के साथ करेंगे समीक्षाजुलाई-सितंबर तिमाही में कितनी गिरी GDP? केंद्र सरकार ने जारी किए आंकड़े, देखें

MBBS में एडमिशन के लिए फर्जी निवास प्रमाण पत्र दिखाया तो आपकी भी खैर नहीं, गिरेगी गाज

Sameer VermaNovember 21, 20201min


 

रायपुर : छत्तीसगढ़ में दूसरे राज्यों से आए छात्रों पर फर्जी निवास प्रमाण पत्र के माध्यम से एडमिशन लेने का आरोप लगा है. शासकीय और निजी मेडिकल कॉलेजों में MBBS और चिकित्सा कोर्स से जुड़े छात्रों पर ये आरोप लग रहा है. रायपुर उत्तर विधायक कुलदीप जुनेजा के साथ इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के प्रतिनिधिमंडल और नीट से चयनित छात्रों के परिजनों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मुलाकात कर इसकी शिकायत की है.

 

मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ के मूल निवासी के हितों की रक्षा की जाएगी. उन्होंने अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू और संबंधित अधिकारियों को MBBS के चयनित छात्रों के मूल दस्तावेजों की बारीकी से जांच करने के निर्देश दिए हैं. इसके अलावा जिन लोगों ने प्रमाण पत्र जमा करते समय धोखाधड़ी की कोशिश की है, उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई के भी निर्देश दिए हैं. इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव और गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू के साथ कृषि मंत्री रविंद्र चौबे भी उपस्थित थे.

 

 

 

नए नियम बनाए जाएंगे

मामले को गंभीरता से लेते हुए शनिवार को पदाधिकारियों की एक महत्वपूर्ण बैठक बुलाई गई है. इस मीटिंग में संचालक चिकित्सा शिक्षा, नीट काउंसलिंग टीम के सदस्य, स्थानीय छात्र के पालकों और इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के पदाधिकारियों मौजूद रहे. नए नियमों के साथ-साथ कुछ अलग तरह की रुपरेखा बनाई जाएगी. बैठक में अन्य राज्यों से एडमिशन लेने वाले छात्रों के मूल निवासी प्रमाण पत्र सहित अन्य दस्तावेजों की जांच किस तरीके से की जाए इस पर भी चर्चा होगी.


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories