ताज़ा ख़बर
कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक सत्यनारायण शर्मा कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारीBREAKING : DGP अवस्थी एक्शन में, नप गए दो और पुलिसकर्मी, किए गए बर्खास्तBREAKING : नक्सलियों की एक और कायराना करतूत, IED ब्लास्ट कर दो ग्रामीणों को पहुंचाया नुकसानआज से बदल गए ये नियम, आम जीवन पर पड़ेगा सीधा असरधान खरीदी आज से शुरू, गड़बड़ियों पर राजधानी से होगी निगरानी, CM भूपेश ने अधिकारियों को दी चेतावनीबड़ी खबर : किसानों के सामने झुकी सरकार, कृषि कानून पर जल्द सुलह के आसार.. पढ़ेंराशिफल: मिथुन राशि वालों की कला-संगीत बढ़ सकती है रुचि, सन्तान सुख में भी होगी वृद्धि, जानें अन्य राशियों का हालCORONA BREAKING : स्वास्थ्य विभाग ने जारी किया मेडिकल बुलेटिन, छत्तीसगढ़ में आज 1,324 नए कोरोना संक्रमित की पुष्टि, 18 मरीजों की मौतBREAKING : स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया गाइडलाइन, कंटेनमेंट जोन में बंद रहेंगी दुकानेंBIG BREAKING : NRDA के चेयरमैन होंगे आर.पी.मंडल, आज ही मुख्य सचिव पद से हुए है सेवानिवृत्त

छठ महापर्व का तीसरा दिन आज, डूबते सूर्य को दिया जाएगा अर्घ्य, ये है मान्यता

Sanjay sahuNovember 20, 20201min

chhath

 

नई दिल्ली। महापर्व छठ का आज तीसरा दिन है। आज छठ पूजा का पहला अर्घ्य दिया जाएगा। छठ पूजा के दूसरे दिन व्रतियों ने खरना किया और रोटी-खीर का प्रसाद भी ग्रहण किया। परंपरा के अनुसार महापर्व छठ चार दिनों तक चतला है। आज शाम को डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा। इसे संध्या अर्घ्य भी कहते हैं।

 

उगते सूर्य को अर्घ्य देने की रीति तो कई व्रतों और त्योहारों में है लेकिन डूबते सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा केवल छठ में ही है। अर्घ्य देने से पहले बांस की टोकरी को फलों, ठेकुआ, चावल के लड्डू और पूजा के सामान से सजाया जाता है। सूर्यास्त से कुछ समय पहले सूर्य देव की पूजा होती है फिर डूबते हुए सूर्य देव को अर्घ्य देकर पांच बार परिक्रमा की जाती है।

 

क्यों दिया जाता है डूबते सूर्य को अर्घ्य

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, सायंकाल में सूर्य अपनी पत्नी प्रत्यूषा के साथ रहते हैं। इसलिए छठ पूजा में शाम के समय सूर्य की अंतिम किरण प्रत्यूषा को अर्घ्य देकर उनकी उपासना की जाती है। कहा जाता है कि इससे व्रत रखने वाली महिलाओं को दोहरा लाभ मिलता है। जो लोग डूबते सूर्य की उपासना करते हैं, उन्हें उगते सूर्य की भी उपासना जरूर करनी चाहिए।

ये है मान्यता

ज्योतिषियों का कहना है कि ढलते सूर्य को अर्घ्य देकर कई मुसीबतों से छुटकारा पाया जा सकता है। इसके अलावा इससे सेहत से जुड़ी भी कई समस्याएं दूर होती हैं। वैज्ञानिक दृष्टिकोण के मुताबिक ढलते सूर्य को अर्घ्य देने से आंखों की रोशनी बढ़ती है।

अर्घ्य देने के लिए तैयारियां जोरों पर

छठ पूजा में अर्घ्य देने के लिए तैयारियां जोरों पर रहीं। प्रशासन ने अपने इलाके में घाटों पर साफ-सफाई के साथ-साथ लगभग सभी तरह की तैयारियां पूरी कर ली हैं।

पूजा सामग्री खरीदने वालों की लगी भीड़

देश की राजधानी दिल्ली में वैसे तो छठ पूजा पर रोक है लेकिन पूजा सामग्री खरीदने वालों की भीड़ बाजारों में देखी जा सकती है। कोरोना के मामलों में आ रही तेजी को देखते हुए दिल्ली सरकार ने आदेश जारी किया है कि इस बार छठ पूजा को लोग अपने घरों में ही मनाएं।

देश के कई हिस्सों में घाटों पर छठ मनाएंगे

नेम-निष्ठा और लोक आस्था का 4 दिवसीय महापर्व छठ बुधवार से नहाय खाय के साथ शुरू हुआ। दूसरे दिन गुरुवार शाम को छठ व्रतियों ने खरना का प्रसाद ग्रहण किया। इसके साथ ही छठ व्रतियों का 36 घंटे का निर्जला उपवास भी शुरू हो गया है।

 

आज शाम को डूबते सूर्य को छठ व्रती अर्घ्य देंगी। इसके लिए कोरोना संकट के बीच लोग अपने घरों और देश के कई हिस्सों में घाटों पर छठ मनाएंगे।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories