ताज़ा ख़बर
RAIPUR: तलाकशुदा महिला को शादी का झांसा देकर 8 साल तक करता रहा दुष्कर्म, अब किया इंकार, FIR दर्जBREAKING: नया रायपुर में पेड़ में लटकती मिली टेंट कारोबारी युवक की पैर बंधी लाश,इलाके में सनसनी,पुलिस जता रही हत्या की आशंकाBREAKING : रिया चक्रवती के भाई शोविक को मिली NDPS कोर्ट से जमानत, ड्रग्स मामले हुए थे गिरफ्तारBREAKING : पुलिस विभाग में तब्दीली, 6 आरक्षक समेत 11 पुलिसकर्मियों का तबादलाBREAKING : खाद्य विभाग में बड़े पैमाने पर तबादला, 54 अधिकारी हुए इधर से उधर, देखें सूचीIND vs AUS 2020: विराट के नाम एक और रिकॉर्ड, क्रिकेट के भगवान सचिन को भी पछाड़ाकिसान आंदोलन से छत्तीसगढ़ में रेल सेवा प्रभावित, देखें कौन-कौन सी ट्रेन हुई कैंसिल, किनके बदले रूटBIG ACCIDENT : भीषण हादसे ने एक ही परिवार के 4 लोगों की ली जान, शव को निकालने काटनी पड़ी कारवैक्सीन को लेकर मिलने वाली है खुशखबरी! स्पुतनिक-5 का ट्रायल शुरूराशिफल : कर्क राशि वालों के परिवार का मिलेगा सहयोग, सन्तान सुख में होगी वृद्धि, जानें अन्य राशियों के हाल

जेल से छूटे कंप्यूटर बाबा, सलाखों के पीछे कटी 11 रातें, जानें क्या था आरोप

Sameer VermaNovember 20, 20201min


 

भोपाल : कंप्यूटर बाबा के नाम से प्रसिद्ध नामदेव दास त्यागी को 11 दिन बाद इंदौर की सेंट्रल जेल से आखिर रिहा कर दिए गए है. अवैध अतिक्रमण और अन्य आरोपों के चलते पिछले 11 दिनों से जेल में बंद रहने के बाद कंप्यूटर बाबा को गुरूवार को रिहा किया गया है. कंप्यूटर बाबा ने जेल से निकलते ही अपने वकील रविंद्र सिंह छाबड़ा और विभोर खंडेलवाल का शुक्रिया किया. वहीं, प्रशासन से डरने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मैं कुछ नहीं बोलूंगा.

 

कंप्यूटर बाबा पर 46 एकड़ गोशाला की जमीन पर कब्जा करने का आरोप है. बाबा के गोम्मट गिरी वाले आश्रम पर प्रशासन का बुलडोजर भी चला, जिसके बाद उन्हें हिरासत में लिया गया था. कंप्यूटर बाबा के आश्रम से हथियार, कई जमीनों के कागजात और कई सारे बैंक अकाउंट नंबर भी बरामद किए गए इसके साथ ही कंप्यूटर बाबा को 2018 में तत्कालीन शिवराज सरकार में राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया था. 2018 विधानसभा चुनाव से ठीक पहले उन्होंने कांग्रेस का साथ देने का मन बनाया और पद से इस्तीफा देने के बाद विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के लिए प्रचार किया.

 

 

वही मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने के बाद कंप्यूटर बाबा को इसका तोहफा भी मिला और तत्कालीन कमलनाथ सरकार में उन्हें नर्मदा-क्षिप्रा नदी न्यास का अध्यक्ष बनाया गया था. हाल में हुए उपचुनाव में भी कम्प्यूटर बाबा ने कांग्रेस के लिए प्रचार किया और शिवराज सरकार पर हमला बोला. इसके बाद उनके अवैध कब्जे पर प्रशासन ने करवाई कर गिरफ्तार किया था.


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories