ताज़ा ख़बर
CHHATTISGARH: वॉटर ATM लगाने वाली कंपनी हुए ठगी का शिकार, पुराने कर्मचारियों ने 21 लाख रुपए की धोखाधड़ीEXCLUSIVE: कहीं विवाह योग्य युवक-युवतियां फिर न रह जाएं कुंवारे, दिसंबर में महज 5 ही शुभ मुहूर्तBIG BREAKING : एक साथ 4 स्टार्स कोरोना पॉजिटिव.. वरुण, कियारा, नीतू और अनील कपूर हुए संक्रमित, शूटिंग पर ब्रेकप्रदेश के इस जिले में बनेंगे 568 करोड़ के 64 रोड, CM बघेल आज 792 करोड़ के विकासकार्यों की देंगे सौगातकोरोना योद्धाओं पर लाठियां बरसाती CM शिवराज की पुलिस, जरूरत पूरी तो भूली सरकार! जानें पूरा मामलाकिसान आंदोलन का आज 9वां दिन, केंद्र बोला- MSP रहेगी, किसान बोले- मुद्दा कानूनों का हैराशिफल : मीन राशि वालों को मिलेगा जीवनसाथी का सहयोग, आत्मविश्वास में रहेगी कमीसावधान: रायपुर में अब ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों की खैर नहीं, इस तारीख से शुरू हो रही है चलानी कार्यवाई, जारी किया आदेशCORONA BREAKING : छत्तीसगढ़ में आज 1555 नए कोरोना संक्रमितों की पुष्टि, 17 लोगों ने तोड़ा दम, देखें मेडिकल बु​लेटिनBIG BREAKING : कलेक्टर की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव, प्रशासनिक अमले में मचा हड़कंप

गोधन न्याय योजना : सीएम बघेल ने गो पालकों किया 6.18 करोड़ रूपए भुगतान, कहा- ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मिल रही है मजबूती

Mahendra Kumar SahuNovember 20, 20201min


 

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज राजधानी स्थित अपने निवास कार्यालय से छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना के तहत 51 हजार 286 पशुपालक हितग्राहियों को गोबर खरीदी में छह करोड़ 18 लाख रूपए की राशि का ऑनलाइन भुगतान किया। राज्य में इसे मिलाकर अब तक एक लाख 32 हजार गोबर विक्रेताओं को 53 करोड़ 53 लाख रूपए की राशि का भुगतान हो चुका है।

मुख्यमंत्री बघेल ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश की ग्रामीण बहुल अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने में गोधन न्याय योजना महत्वपूर्ण साबित हो रही है। यही वजह है कि सभी वर्ग के लोग इस योजना के प्रति विशेष रूचि दिखा रहे हैं और वे इससे जुड़कर तेजी से आय अर्जित करने लगे हैं। मुख्यमंत्री बघेल ने राज्य के सभी गोठानों को सक्रिय कर शीघ्रता से स्वावलंबी बनाने के लिए विशेष जोर दिया। उन्होंने कहा कि इसके लिए गोठानों की समितियों सहित स्व-सहायता समूहों को कृषि महाविद्यालय और कृषि विज्ञान केन्द्रों से भी जोड़कर और अधिक सक्रिय तथा गतिशील बनाया जाए। गौठानों के स्वावलंबी होने पर उन्हें शासन से राशि की आवश्यकता नहीं होगी और वे अपनी गतिविधियों का समयबद्ध ढंग से संचालन कर अधिक से अधिक आय अर्जित कर पाएंगे।

मुख्यमंत्री बघेल ने इस दौरान गौठानों में मवेशियों के चारा की पर्याप्त उपलब्धता के लिए पशुपालक कृषकों से पैरादान करने की अपील भी की। उन्होंने गौठानों में गोबर की आवक और मवेशियों की संख्या के अनुपात में पर्याप्त मात्रा में वर्मी कम्पोस्ट टांके के निर्माण के लिए भी विशेष जोर दिया। उन्होंने कहा कि गोबर की आवक की हिसाब से बड़े-बड़े गांव के गौठानों और प्रत्येक नगर निगम क्षेत्र में गोबर गैस संयंत्र की स्थापना भी की जाए। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने राज्य में अब तक स्वावलंबी बन चुके 43 गौठानों की भी सराहना की और इसके लिए संबंधित गौठानों को बधाई और शुभकामनाएं दी। इनमें सरगुजा जिले में 28 गौठान, दक्षिण बस्तर (दंतेवाड़ा) जिले में 6 गौठान, बालोद जिले में 5 गौठान और सूरजपुर तथा कबीरधाम जिले में 2-2 गौठान शामिल है।

इस अवसर पर अपर मुख्य केबिनेट मंत्रियो सहित, सचिव सुब्रत साहू, प्रमुख सचिव गौरव द्विवेदी, कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ. एम.गीता, मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी, सचिव नगरीय प्रशासन अलरमेल मंगई डी. सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories