ताज़ा ख़बर
RAIPUR CRIME : राजधानी में बड़ा खुलासा, भाजपा जिला अध्यक्ष के भतीजे की दुकान में चोरी करने वाले आरोपी ने स्पा पर भी धावा बोला, नकदी पार, देखें CCTV फुटेजBIG BREAKING : पटवारी निलंबित, तहसीलदार को शोकॉज नोटिस, किसान आत्महत्या मामले में बड़ी कार्रवाईबड़ी खबर : पुलिसकर्मियों से नाराज हुए स्पेशल DG आरके विज, IG और SP को पत्र लिख दिए निर्देशRAIPUR BREAKING : भाजपा जिलाध्यक्ष के भतीजे की दुकान में सेंधमारी, लाखों का सामान पारदाई-दीदी क्लीनिक से महिलाओं को मिल रही खास सुविधाएं, समय की भी हो रही बचतआज फिर सरकार और किसानों की मीटिंग, नहीं मानी बात तो 8 को बंद रहेगा पूरा देशआर्थिक तंगी से गुजर रहे भारतीय की दुबई में लगी लॉटरी, सोच में पड़ गए कहां खर्च करेंगे?RAIPUR CRIME : हथियारों के सौदागर से जखीरा बरामद, पुलिस ने आर्म्स एक्ट दर्ज कर आरोपी को किया गिरफ़्तारराशिफल : सिंह राशि वाले परिवार के स्वास्थ्य पर रखे ध्यान, नौकरी के स्थान पर बने रहेगी परिवर्तन की संभावनाअनूठी शादी : जौनपुर में दुल्हन, सऊदी में दूल्हा, ऑनलाइन हुआ निकाह, वीडियो कांफ्रेंसिंग से दोनों ने किया कबूल

ऑनलाइन पढ़ाई से पिछड़े आदिवासी अंचल के बच्चे, अब मोहल्ला क्लास जाकर जगा रहे शिक्षा का अलख

Sanjay sahuNovember 20, 20201min

 

 

पखांजुर, बिप्लब कुण्डू। आनलाईन पढ़ाई से पिछड़े आदिवासी अंचल के बच्चे अब मोहल्ला क्लास जाकर शिक्षा अर्जन कर रहे। कोयलीबेड़ा ब्लाक के गोटिनबेड़ा में पढ़ने वाले गांव के दो युवती कविता यादव और नीतू नरेटी देवपुर पीवी 2 हाईस्कूल में अध्ययन रत है। रोजाना 10 किमी की लंबी दूरी का सफर साईकिल से तय कर मोहल्ला क्लास अटेंड कर रही है।

बता दें कि अभाव में जीवन यापन करने वाले परिवार ने दोनों युवतियों को साइकिल खरीदकर दिया ताकि बच्चे मोहल्ला क्लास जाकर पढ़ाई पूरी कर पाए। दोनों युवती को मोहल्ला क्लास अटेंड करने के लिए जंगल से होते हुए पथरीली पगडंडी सड़क को पार करना पड़ता है।

कविता और नीतू का कहना है कि रोजाना मोहल्ला क्लास में जाकर विधाआर्जित कर रहे है उन्होंने कहा कि हमारे गांव में सुविधा का अभाव है। हम पढ़ लिखकर हमारे गांव के लिए कुछ करना चाहते है ।

सरकारी योजनाएं गांव में पहुंच नहीं पाती, ग्रामीणों को मुख्य सड़क मार्ग तक पहुंचने में आधा घंटा का समय लग जाता है । मोटरसाईकल बड़े मुश्किल से हमारे गांव पहुंच पाती है। साईकिल को धेकल कर मुख्य सड़क पर ले जाकर हम रोजाना मोहल्ला क्लास जाते है।

गांव में मोबाइल नेटवर्क नहीं पहुंच पाता

वनांचल क्षेत्र गोटिनबेड़ा गांव में 26 परिवार जीवन यापान कर रहा है। पूर्व में गांव में बिजली नहीं थी रात होते ही गांव अंधेरे में डूबा रहता लेकिन अब इस गांव में बिजली पहुंचने से लोगो कि परेशानी दूर हो गई। पहाड़ी क्षेत्र होने के कारण मोबाइल नेटवर्क गांव में ठीक ढंग से पहुंच नहीं पाती लोगो को मोबाइल पर बात करने के लिए सिग्नल ढूंढना पड़ता है । गांव में एंड्रायड मोबाइल इक्के दुक्के लोगो के पास है ।

कोरोना वायरस के संक्रमण को गंभीरता से लेते हुए सरकार ने सभी स्कूल कालेजों को बंद रखने का फैसला लिया था । बच्चो को पढ़ाई में कोई बाधा न आए बच्चे अपनी पढ़ाई घर बैठे ही पूरी कर ले इसके लिए आॅनलाइन क्लास ,आनलाईन एग्जाम की व्यवस्था भी की गई। छत्तीसगढ़ सरकार ने सोसल एप के माध्यम से ,पढ़ाई तुहर दुआर योजना का शुभारम्भ किया था लेकिन योजना का क्रियान्वन ग्रामीण अंचलों में फिसड्डी साबित हुई।

इसके लिए गांव में इंटरनेट सेवा का बुरा हाल होना सबसे प्रभावी उत्तरदायी कारण माना जा रहा। अभिभावकों का कहना था कि घर की माली हालत में एंड्रायड मोबाइल खरीद पाना हमारे बस की बात नहीं वहीं कईयो ने बच्चो के पास मोबाइल देने से बच्चे बिगड़ जाने वाली बात कही।

बता दें कि कोराना काल ने बच्चो को पढ़ाई पर विपरीत प्रभाव डाला आनलाईन क्लास के जरिए 25% फीसदी बच्चे ही योजना का लाभ ले पाए। बाकी बचे बच्चो की पढ़ाई मोहल्ला क्लास व कोचिंग के जरिए अपनी पढ़ाई को पूरी कर रहे है। वनांचल क्षेत्र मे कई ऐसे मामले सामने आए जिसमें गांव में मोबाइल नेटवर्क का न होना, मोबाइल की अनुपलब्धता के कारण आनलाईन पढ़ाई की योजना फेल होती दिखी।

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories