ताज़ा ख़बर
BIG BREAKING : कलेक्टर की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव, प्रशासनिक अमले में मचा हड़कंपराज्य सरकार ने सरकारी कर्मचारियों को दिया बड़ा तोहफा, DA में तीन फीसदी बढ़ोतरी का ऐलानEXCLUSIVE: बैंक ऑफ बड़ौदा बैंक का बड़ा कारनामा, चेक जारी करने में की ये गलती, अब खाताधारक हो रहे परेशानBIG BREAKING : मातम में बदली शादी ​की खुशियां, बरातियों से भरा वाहन खाई में गिरा, दूल्हा समेत 8 की मौतBREAKING : जनसम्पर्क विभाग के चार अधिकारी बने सहायक संचालक, राज्य सरकार ने जारी किया आदेशलॉकडाउन के बाद पहली बार खुला रायपुर का ये टॉकीज, दोबारा रिलीज हुई छत्तीसगढ़ फिल्मBREAKING : जारी होने वाली है निगम मंडलों की तीसरी सूची! CM भूपेश दिल्ली रवानाभारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद की जयंती आज, CM भूपेश ने किया नमनRAIPUR : राजधानी में एक बार फिर ट्रक चोर गैंग सक्रििय, लोहे से भरी ट्रक को किया पार, FIR दर्जराजकीय सम्मान के साथ होगा वरिष्ठ पत्रकार ललित सुरजन का अंतिम संस्कार

20 महीने की उम्र में जिस बच्चे का हुआ था लिवर ट्रांसप्लांट, 23 साल की उम्र में बनने वाला है डॉक्टर

Sanjay sahuNovember 19, 20201min

 

 

नई दिल्ली। वर्ष 1998 की बात है। भारत में 20 महीने के एक बच्चे का लीवर का प्रत्यारोपण हुआ था। भारत के मेडिकल साइंस के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ था। बच्चे का लीवर ट्रांसप्लांट करते शायद ही किसी ने सोचा होगा कि यह बच्चा आगे चलकर डॉक्टर बनेगा।

 

लेकिन यह हकीकत बनने जा रही है। दिल्ली स्थित इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल के डॉक्टरों को अप्रैल का बेसब्री से इंतजार है, क्योंकि अब 23 साल का हो चुका वह बच्चा यानी संजय कंडास्वामी डॉक्टर की अपनी पढ़ाई पूरी करने जा रहा है।

 

संजय कंडास्वामी उस पेशे से जुड़ने के लिए पूरी तरह से तैयार है जिसके कारण उसकी जान बची थी। आपको बता दें कि कंडास्वामी तमिलनाडु के कांचीपुरम से ताल्लुक रखते हैं।

 

 

उन्होंने कहा, बचपन से मेरी यही ख्वाहिश रही है। मैं अपने डॉक्टरों के प्रयासों के कारण आज जीवित हूं। मैं जान बचाने के लिए इस नेक पेशे को अपनाना चाहता हूं।

 

शुरू में, मैं एक सर्जन बनना चाहता था, लेकिन बाद में मुझे एहसास हुआ कि मेरी रुचि पीडियाट्रिक्स में है। मेरे अंदर पीडियाट्रिक्स में विशेषज्ञ होने और नियोनेटोलॉजी (नवजात शिशुओं) पर ध्यान केंद्रित करने की संभावना है।

 

कंडास्वामी का जन्म एक दुर्लभ स्थिति के साथ हुआ था, जिसे पित्तजन्य विकार कहा जाता है। नवजात शिशुओं में लीवर की विफलता। लीवर की विफलता पित्त में रुकावट के कारण होती है जो पित्त को लीवर से पित्ताशय की थैली में ले जाती है। उनके पिता ने प्रत्यारोपण सर्जरी के लिए अपने लिवर का 20 प्रतिशत डोनेट किया था।

 

इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल में एक वरिष्ठ लिवर विशेषज्ञ डॉ. अनुपम सिब्बल ने कहा, वह भारत में पहला बच्चा था जिसका सफलतापूर्वक लीवर प्रत्यारोपण किया गया था। इसके अब 22 साल बीत गए हैं।

 

लीवर ट्रांसप्लांट सर्जरी के बाद लंबे समय तक जीवित रहने का यह एक उत्कृष्ट उदाहरण है।” डॉ. सिब्बल डॉक्टरों की टीम के प्रमुख सदस्यों में से एक थे, जिन्होंने 1998 में कंडास्वामी का इलाज किया था।

 

मेदांता अस्पताल के लीवर प्रत्यारोपण और पुनयोर्जी चिकित्सा संस्थान, गुरुग्राम के अध्यक्ष डॉ. एएस सोइन ने कहा, मुझे याद है कि वह लगभग दो महीने तक गहन चिकित्सा इकाई (आईसीयू) में था।

 

हम उन्हें आईसीयू से बाहर निकालने के लिए व्यावहारिक रूप से उन दो महीनों तक अस्पताल में रहे। वह दो साल से कम उम्र का था, जब उसका आॅपरेशन किया गया था। उनकी स्थिति गंभीर थी। डॉ. सोइन ने इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल में डॉ. एमआर राजशेखर के साथ महत्वपूर्ण सर्जरी की थी।

 

उन्होंने कहा, “यह एक प्रत्यारोपण सर्जन के रूप में मेरे 28 साल के करियर में सबसे शानदार क्षणों में से एक है। मेरा बच्चा रोगी डॉक्टर बनने के लिए पूरी तरह तैयार है।

 

सर्जिकल प्रक्रिया ने इस बात को रेखांकित किया है कि बच्चों के लंबे समय तक सुचारू रूप से जीवित रहने, जो लीवर प्रत्यारोपण से गुजरते हैं, एक वास्तविकता है। हम लगभग 40 बच्चों को जानते हैं, जो लिवर प्रत्यारोपण के 12 साल बाद भी सामान्य जीवन जी रहे हैं। विश्व स्तर पर बच्चों को उनके प्रत्यारोपण के बाद 40 साल से परे रहते हैं।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories