ताज़ा ख़बर
EXCLUSIVE: कहीं विवाह योग्य युवक-युवतियां फिर न रह जाएं कुंवारे, दिसंबर में महज 5 ही शुभ मुहूर्तBIG BREAKING : एक साथ 4 स्टार्स कोरोना पॉजिटिव.. वरुण, कियारा, नीतू और अनील कपूर हुए संक्रमित, शूटिंग पर ब्रेकप्रदेश के इस जिले में बनेंगे 568 करोड़ के 64 रोड, CM बघेल आज 792 करोड़ के विकासकार्यों की देंगे सौगातकोरोना योद्धाओं पर लाठियां बरसाती CM शिवराज की पुलिस, जरूरत पूरी तो भूली सरकार! जानें पूरा मामलाकिसान आंदोलन का आज 9वां दिन, केंद्र बोला- MSP रहेगी, किसान बोले- मुद्दा कानूनों का हैराशिफल : मीन राशि वालों को मिलेगा जीवनसाथी का सहयोग, आत्मविश्वास में रहेगी कमीसावधान: रायपुर में अब ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों की खैर नहीं, इस तारीख से शुरू हो रही है चलानी कार्यवाई, जारी किया आदेशCORONA BREAKING : छत्तीसगढ़ में आज 1555 नए कोरोना संक्रमितों की पुष्टि, 17 लोगों ने तोड़ा दम, देखें मेडिकल बु​लेटिनBIG BREAKING : कलेक्टर की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव, प्रशासनिक अमले में मचा हड़कंपराज्य सरकार ने सरकारी कर्मचारियों को दिया बड़ा तोहफा, DA में तीन फीसदी बढ़ोतरी का ऐलान

प्रोबेशनरी IAS से बोले PM मोदी, “दिमाग में कभी बाबू मत आने दीजिए, रूल और रोल का संतुलन जरूरी”

Sameer VermaOctober 31, 20201min


 

केवाडिया | गुजरात : रूल और रोल का संतुलन जरूरी है, दिमाग में कभी बाबू मत आने दीजिए. ऐसा कहना है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का. दरअसल पीएम मोदी ने अपने दो दिवसीय गुजरात दौरे पर शनिवार को प्रोबेशनरी IAS को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने कहा, आज देश जिस मोड़ में काम कर रहा है. उसमें आप सभी ब्यूरोक्रेट्स की भूमिका मिनिमम गवर्नमेंट – मैक्सीमम गवर्नेंस की ही है.

 

पीएम मोदी ने कहा, आपको ये सुनिश्चित करना है कि नागरिकों के जीवन में आपका दखल कैसे कम हो, सामान्य मानवी का सशक्तिकरण कैसे हो. सरकार शीर्ष से नहीं चलती है. नीतियां जिस जनता के लिए हैं, उनका समावेश बहुत जरूरी है.

 

जनता जनार्दन ही असली ड्राइविंग फोर्स है

 

पीएम ने कहा कि जनता केवल सरकार की नीतियों की, प्रोग्राम्स की रिसीवर नहीं है, जनता जनार्दन ही असली ड्राइविंग फोर्स है. इसलिए हमें गवर्मेंट से गवर्नेंस की तरफ बढ़ने की जरूरत है.

 

पीएम ने कहा कि पहले के समय ट्रेनिंग में आधुनिक अप्रोच कैसे आए, इस बारे में बहुत सोचा नहीं गया. लेकिन अब देश में Human Resource की आधुनिक ट्रेनिंग पर जोर दिया जा रहा है. आपने खुद भी देखा है कि कैसे बीते 2-3 वर्षों में ही सिविल सर्वेन्ट्स की ट्रेनिंग का स्वरूप बहुत बदल गया है.

 

देश में नए परिवर्तन के लिए, नए लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए, नए मार्ग और नए तौर-तरीके अपनाने के लिए बहुत बड़ी भूमिका ट्रेनिंग की होती है, स्किल सेट के डेवल्पमेंट की होती है.


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories