ताज़ा ख़बर
BREAKING: नया रायपुर में पेड़ में लटकती मिली टेंट कारोबारी युवक की पैर बंधी लाश,इलाके में सनसनी,पुलिस जता रही हत्या की आशंकाBREAKING : रिया चक्रवती के भाई शोविक को मिली NDPS कोर्ट से जमानत, ड्रग्स मामले हुए थे गिरफ्तारBREAKING : पुलिस विभाग में तब्दीली, 6 आरक्षक समेत 11 पुलिसकर्मियों का तबादलाBREAKING : खाद्य विभाग में बड़े पैमाने पर तबादला, 54 अधिकारी हुए इधर से उधर, देखें सूचीIND vs AUS 2020: विराट के नाम एक और रिकॉर्ड, क्रिकेट के भगवान सचिन को भी पछाड़ाकिसान आंदोलन से छत्तीसगढ़ में रेल सेवा प्रभावित, देखें कौन-कौन सी ट्रेन हुई कैंसिल, किनके बदले रूटBIG ACCIDENT : भीषण हादसे ने एक ही परिवार के 4 लोगों की ली जान, शव को निकालने काटनी पड़ी कारवैक्सीन को लेकर मिलने वाली है खुशखबरी! स्पुतनिक-5 का ट्रायल शुरूराशिफल : कर्क राशि वालों के परिवार का मिलेगा सहयोग, सन्तान सुख में होगी वृद्धि, जानें अन्य राशियों के हालCORONA BREAKING : छत्तीसगढ़ में आज 1893 नए कोरोना संक्रमितों की पुष्टि, 1976 मरीजों ने इस वायरस जीता जंग

RAIPUR : कूटरचित दस्तावेज तैयार कर 72 लाख की धोखाधड़ी को दिया अंजाम, फ़र्ज़ी इकरारनामा बनाकर दूसरे की ज़मीन का सौदा करने वाले आरोपी के खिलाफ FIR दर्ज

Sanjay sahuOctober 24, 20201min

 


 

रायपुर,कुणाल राठी,24 अक्टूबर 2020। राजधानी रायपुर में एक बार फिर कूटरचित दस्तावेज तैयार कर दूसरे की जमीन को बेचकर लाखों रुपए की धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया है।

आपको बता दें कि मामला सिविल लाइन थाना का है जहां आरोपी अजमेर सिंह के खिलाफ प्रार्थी महेंद्र खुराना ने पुलिस थाना पहुंचने की शिकायत दर्ज करवाई जिसके बाद पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी सहित कूटरचित दस्तावेज तैयार करने की गंभीर धाराओं में अपराध दर्ज किया है। प्रार्थी महेंद्र खुराना ने बताया कि मामला वर्ष 2016 का है जब शंकर नगर स्थित राजकुमार सरावगी की जमीन का इकरारनामा पेश कर उसे विश्वास में रखकर आरोपी अजमेर सिंह ने सौदा करते हुए किस्तों में कुल 72,50,000 रुपए ऐंठ लिए।

 

 

 

वर्ष 2017 में एक दिन अचानक जब महेंद्र को इसके मूल स्वामी सरावगी द्वारा इसी जमीन को किसी अन्य व्यक्ति को बेचने की बात सामने आई तब महेंद्र ने राजकुमार सरावगी से संपर्क किया जिस पर उन्होंने अजमेर सिंह से किसी भी तरह का इकरारनामा होने से साफ इंकार कर दिया। जिसके बाद अजमेर ने अपनी गलती स्वीकारते हुए पुलिस में रिपोर्ट दर्ज नहीं कराने का निवेदन करते हुए पैसे लौटा देने की बात कही जिस पर महेंद्र, अजमेर व उसकी पत्नी के बीच अनुबंध पत्र बना।

 

अनुबंध याने की सहमति पत्र के अनुसार अजमेर को फरवरी 2018 तक पैसे लौटा देने थे परंतु महेंद्र के बार बार निवेदन करने पर भी अजमेर ने पैसे नहीं लौटाए और झांसा देता रहा। प्रार्थी महेंद्र खुराना ने इस पूरे मामले की शिकायत एसएसपी रायपुर से की जिसकी जांच के बाद अब पुलिस ने आरोपी के खिलाफ FIR दर्ज कर ली है।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories