ताज़ा ख़बर
EXCLUSIVE: कहीं विवाह योग्य युवक-युवतियां फिर न रह जाएं कुंवारे, दिसंबर में महज 5 ही शुभ मुहूर्तBIG BREAKING : एक साथ 4 स्टार्स कोरोना पॉजिटिव.. वरुण, कियारा, नीतू और अनील कपूर हुए संक्रमित, शूटिंग पर ब्रेकप्रदेश के इस जिले में बनेंगे 568 करोड़ के 64 रोड, CM बघेल आज 792 करोड़ के विकासकार्यों की देंगे सौगातकोरोना योद्धाओं पर लाठियां बरसाती CM शिवराज की पुलिस, जरूरत पूरी तो भूली सरकार! जानें पूरा मामलाकिसान आंदोलन का आज 9वां दिन, केंद्र बोला- MSP रहेगी, किसान बोले- मुद्दा कानूनों का हैराशिफल : मीन राशि वालों को मिलेगा जीवनसाथी का सहयोग, आत्मविश्वास में रहेगी कमीसावधान: रायपुर में अब ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों की खैर नहीं, इस तारीख से शुरू हो रही है चलानी कार्यवाई, जारी किया आदेशCORONA BREAKING : छत्तीसगढ़ में आज 1555 नए कोरोना संक्रमितों की पुष्टि, 17 लोगों ने तोड़ा दम, देखें मेडिकल बु​लेटिनBIG BREAKING : कलेक्टर की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव, प्रशासनिक अमले में मचा हड़कंपराज्य सरकार ने सरकारी कर्मचारियों को दिया बड़ा तोहफा, DA में तीन फीसदी बढ़ोतरी का ऐलान

BREAKING : राज्यपाल ने वापस लौटाई विशेष सत्र की फाइल, ये है वजह

Sanjay sahuOctober 20, 20201min
rajyapal

 


 

रायपुर : राज्यपाल अनसुइया उइके ने विशेष सत्र बुलाने वाली फाइल वापस लौटा दी है। दो दिन पहले राज्य सरकार ने राजभवन को विशेष सत्र बुलाने की फाइल भेजी थी। जिसे राज्यपाल ने वापस लौटा दिया है। बता दें कि सोमवार को इस मामले में मंत्री रविंद्र चौबे ने मीडिया को बताया था कि विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाएगा, जिसके लिए फाइल राजभवन भेजी गई है।

हालांकि किसानों के लिए अलग कानून बनाने के लिए विशेष सत्र बुलाने का फैसला पिछले कैबिनेट की बैठक में ही हो चुका था। जिसके बाद अब राज्यपाल अनुसूईया उईके ने विशेष सत्र की फाइल वापस कर दी है। राज्यपाल ने सरकार से पूछा है कि 58 दिन पहले ही जब सत्र आहूत किया गया था, तो ऐसी कौन सी परिस्थिति आ गई है कि विशेष सत्र बुलाए जाने की जरूरत पड़ रही है? सत्र के दौरान क्या-क्या काम होंगे?

 

 

-ये है पूरा मामला

बीते 14 अक्टूबर को राजभवन में गृह विभाग की एक बैठक होने वाली थी। इस बैठक में गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू को शामिल होना था, लेकिन उन्होंने खुद को क्वारंटीन बताते हुए बैठक स्थगित करा दी। जिसके बाद उसी दिन दोपहर में मुख्यमंत्री की बुलायी गृह विभाग की बैठक में वो शामिल हुए। और शाम होते-होते राज्यपाल के सचिव सोनमणि बोरा को राज्य सरकार ने हटा दिया। जिसके बाद राज्यपाल ने पत्र लिखा है।

पूर्णकालिक सचिव के साथ-साथ उन्होंने नियुक्ति में राय नहीं लेने की बात तक कह डाली। विवाद के बीच 15 अक्टूबर को नये सचिव अमृत खलको जब ज्वाइनिंग के लिए राजभवन पहुंचे तो उन्हें ज्वाइनिंग से रोक दिया गया। विवाद के बीच 15 अक्टूबर को मुख्यमंत्री और गृहमंत्री का बयान भी आया और सभी ने टकराव की बात को सिरे से खारिज भी कर दिया।

15 अक्टूबर को ही मंत्री रविंद्र चौबे और मोहम्मद अकबर ने राज्यपाल से मुलाकात की और टकराव जैसी कोई भी बात से इंकार किया। लेकिन, इसी कड़ी अब नया विवाद ये सामने आया है कि राज्यपाल ने विशेष सत्र बुलाने की फाइल वापस कर दी है। ऐसी परंपरा अमूमन छत्तीसगढ़ में रही नहीं कि राज्यपाल कोई फाइल वापस लौटा दें, लेकिन जिस तरह से राजभवन का रूख सामने आया है, उससे साफ है कि आने वाले दिनों में ये टकराव और बढ़ने वाला है।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories