ताज़ा ख़बर
Festival Special Trains : त्यौहारी मौसम में रेलवे का फैसला, आज से पटरी पर दौड़ेगी 392 ट्रेनें.. देखें रूटChhattisgarh Police : दागी अफसरों की होगी छुट्टी, पुलिस की छवि सुधारने DGP अवस्थी का बड़ा फैसलाजम्मू-कश्मीर : शोपियां में जवानों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक दहशतगर्द ढेरCORONA BREAKING : प्रदेश में आज 2,376 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज़ों की पहचान, 16 की मौत, देखें मेडिकल बुलेटिनकोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ी खबर : चीनी कोरोना वैक्सीन एकदम सुरक्षित, एंटीबॉडी बनाने में भी सक्षमBIG BREAKING : पुलिस को मिली बड़ी सफलता, मुकेश अंबानी और अमिताभ बच्चन बनकर लाखों ठगने वालें पाकिस्तानी को दबोचा, 42 लाख नगदी के साथ 5 आरोपी गिरफ्तारकोरोना मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने में कारिया जिले ने रचा इतिहास, पूरे प्रदेश दूसरा रैंक परराजधानी में 10 लाख की चोरी : टूटी खिड़की देख सकते में आया परिवार, सोने-चांदी के जेवर समेत नकदी लेकर चोर फरारकंकली मंदिर नवयुवक दुर्गोत्सव समिति का 35वां सालभाजपा प्रदेश कार्यसमिति की मीटिंग आज, वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़ेंगे सभी सदस्य

मंदिर में मिला साधू का शव, अवैध खनन वालों के खिलाफ भी उठाते रहते थे आवाज, हत्या की आशंका

Mahendra Kumar SahuOctober 18, 20201min

मंदिर में मिला साधू का शव, अवैध खनन वालों के खिलाफ भी उठाते रहते थे आवाज, हत्या की आशंका

The body of the monk found in the temple, used to raise voice against illegal miners, fear of murder

 

मुरादाबाद। उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में संदिग्ध परिस्थितियों में साधू की मौत हो गई. साधू का शव मंदिर में पड़ा हुआ था। जब सुबह श्रद्धालु मंदिर पहुंचे तो साधू का शव देख पुलिस को सूचना दी। शव पर किसी प्रकार की चोट के निशान नहीं मिले हैं। उधर, सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। फिलहाल, मामले की जांच की जा रही है।

 

जानकारी के मुताबिक मुरादाबाद के गलशहीद थाना इलाके में उस समय हड़कंप मच गया जब मंदिर में एक साधू का संदिग्ध हालत में शव पड़ा मिला। साधू नवरात्रों के मौके पर मंदिर में ही सोये थे। जब सुबह होने पर मंदिर में श्रद्धालु पहुंचे तो मंदिर के अंदर साधू का शव पड़ा हुआ था।

काफी सक्रिय थे साधू रामदास

 

लोगों ने बताया कि साधू रामदास मुरादाबाद में काफी सक्रिय रहते थे। वह रामगंगा नदी के सफाई अभियान से भी जुड़े हुए थे। साथ ही वह अवैध खनन वालों के खिलाफ भी आवाज उठाते रहते थे। संत रामदास के संदिग्ध परिस्थितियों में मंदिर में शव मिलने के बाद उनके परिजनों का कहना है कि उनकी मौत संदिग्ध लग रही है। वहीं, पुलिस अधिकारियों का कहना है कि पोस्टमॉर्टम की रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की वजह का पता चल पाएगा। मामले की जांच की जा रही है।

इस बार मंदिर में रुके थे साधू

 

एसएसपी मुरादाबाद प्रभाकर चौधरी ने जानकारी देते हुए बताया कि संत रामदास नवरात्रों के मौके पर मंदिर पहुंचे थे। उन्होंने नवरात्रों में गलशीद क्षेत्र के एक मंदिर में 9 दिन तक रुकने की बात लोगों को बताई थी। जिसके बाद उनका शव सुबह मंदिर में लोगों ने देखा।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories