ताज़ा ख़बर
छत्तीसगढ़ में प्याज की उपलब्धता और कालाबाजारी को रोकने सरकार सख्त, सभी जिला कलेक्टरों को दिए निर्देशBIG BREAKING: गुल्लू शराब लूटकांड में पुलिस को कड़ी मशक्कत के बाद मिली सफलता, 5 आरोपियों ने दी थी वारदात को अंजाम, 1 आरोपी ने फांसी लगाकर की आत्महत्याकॉलेजों में दाखिले की तारीख बढ़ी, राज्य शासन ने जारी किया आदेश, जानिए कब तक हो सकेंगे एडमिशनHBD Amit Shah : 56 साल के हुए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, PM मोदी, CM भूपेश समेत कई दिग्गजों ने दी बधाईMarwahi Upchunav : EVM में ऐसा कुछ होगा प्रत्याशियों का क्रम, तैयारियों में जुटा चुनाव आयोगअच्छी खबर : भारत खुद ही तय करेगा देश में सोने की कीमत, बुलियन एक्सचेंज शुरू करने की कवायद तेजबड़ी खबर : कोरोना वैक्सीन की टेस्टिंग में शामिल एक वॉलंटिअर की मौत, नहीं रोका जाएगा ट्रायलCM भूपेश आज से दो दिवसीय दौरे पर, दिल्ली में शीर्ष नेताओं से करेंगे मुलाकात, MP में चुनावी सभाBREAKING : पूर्व केबिनेट मंत्री और कांग्रेस नेता माधव सिंह का निधन, अस्पताल में ली आखिरी सांसINS Kavaratti : आज इंडियन नेवी के बेड़े में शामिल होगा INS “कवरत्ती”, रडार की पकड़ से होगा बाहर

चेन्नई में सफलतापूर्वक हुआ ब्रह्मोस मिसाइल का परीक्षण, ब्रह्मोस मिसाइल से बढ़ी भारत की ताकत

Sanjay sahuOctober 18, 20201min

चेन्नई में सफलतापूर्वक हुआ ब्रह्मोस मिसाइल का परीक्षण, ब्रह्मोस मिसाइल से बढ़ी भारत की ताकत

मिसाइल का परीक्षण

 

 

नई दिल्ली : चेन्नई में ब्रह्मोस मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है. परीक्षण के दौरान मिसाइल ने अरब सागर में एक लक्ष्य पर निशाना लगाया. मिसाइल ने सटीकता के साथ टारगेट को सफलतापूर्वक हिट किया. ब्रह्मोस प्राइम स्ट्राइक हथियार के रूप में नेवल सर्फेस लक्ष्यों को लंबी दूरी तक निशाना बनाकर युद्धपोतों की अजेयता सुनिश्चित करेगा.

चीन के साथ सीमा विवाद के बीच भारत अपनी शक्तियों को और मजबूत करने में जुटा हुआ है. जिसके तहत रविवार को देश ने एक बड़ी कामयाबी हासलि की है. इस ब्रह्मोस मिसाइल से भारत की ताकत और बढ़ेगी. इस मिसाइल हथियार के रुप में कार्य करेगा.

 

 

 

बता दें कि, ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल 400 किलोमीटर से ज्यादा दूरी तक टारगेट को ध्वस्त कर सकती है. यह एक रैमजेट सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है. जिसे पनडुब्बी, युद्धपोत, लड़ाकू विमानों और जमीन से भी लॉन्च किया जा सकता है. इस मिसाइल को भारत और रूस के संयुक्त उपक्रम के तहत विकसित किया गया है.
इसके साथ ही शुरुआत में इसकी रेंज 290 किलोमीटर थी. हालांकि इसकी क्षमता को बढ़ाया गया है. ब्रह्मोस मिसाइल भारतीय वायुसेना को दिन और रात, सभी मौसम की स्थिति में समुद्र या सतह पर किसी भी लक्ष्य पर पिनपॉइंट सटीकता के साथ लंबी दूरी से हमला करने की क्षमता प्रदान करती है.

Related Articles


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories