ताज़ा ख़बर
CORONA BREAKING : प्रदेश में कोरोना की रिकवरी रेट ने पकड़ी रफ्तार, आज 1365 मरीज़ हुए स्वस्थ, देखें मेडिकल बुलेटिनBREAKING : RBI गवर्नर शक्तिकांत दास कोरोना पॉजिटिव, बोले- आइसोलेशन से भी जारी रखूंगा काम करनाBREAKING : एक साथ 32 माओवादियों ने खड़े किए हाथ, नक्सली हिंसा का रास्ता छोड़ अब मुख्यधारा से जुड़ेबड़ी खबर: संसदीय समिति के सामने पेश होने से अमेज़न के इनकार को CAIT ने बताया दुस्साहसBREAKING: राजधानी में रावण दहन पर देर रात विवाद,SDM के निर्देश पर BTI ग्राउंड पर बने रावण को पुलिस ने उखाड़ा, भारी बल तैनातरक्षामंत्री राजनाथ ने की शस्त्र पूजा, कहा- चीन हमारी जमीन का एक हिस्सा भी नहीं ले सकताराज्योत्सव के मौके पर 1 नवंबर को रायपुर आएंगे राहुल गांधी, CM भूपेश का न्योता स्वीकाराचैम्बर चुनाव : RADA के पदाधिकारी पारवानी के समर्थन में हुए एकजुट, कदम से कदम मिलाने का दिया नाराHappy Dussehra : आज और कल भी दशहरा, 26 को दशमी तो दशहरा 25 को कैसे.. जानें वजहBIG BREAKING: राजधानी में प्रेमी जोड़े ने बंटी-बबली बन विज्ञापन देने वालों को बनाया निशाना, खरीदार और वकील बन करते थे ठगी

पीएम मोदी ने जिस गांव में की थी गरीब कल्याण रोजगार अभियान की शुरुआत, उस गांव में योजना का एक भी लाभार्थी नहीं

Hitesh dewanganOctober 17, 20201min

पीएम मोदी ने जिस गांव में की थी गरीब कल्याण रोजगार अभियान की शुरुआत, उस गांव में योजना का एक भी लाभार्थी नहीं

WhatsApp Image 2020-10-17 at 7.31.34 AM

 

पटना: कोरोना संकट के कारण देशभर में लॉकडाउन लगाया था. इस लॉकडाउन में लाखों-करोड़ों लोग बेरोजगार हो गए थे. बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूरों ने अपने- अपने गृह राज्य पलायन किया था. जिसे देखते हुए मोदी सराकर ने लोगों को उनके घर के पास ही रोजगार मुहैया कराने के लिए ‘गरीब कल्याण रोजगार अभियान’ योजना की शुरुआत की थी.

 

 

अभियान के तहत केन्द्र सरकार ने 6 राज्यों के 116 जिलों में प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने की बात कही थी. जिसके लिए सरकार ने 50 हजार करोड़ रुपए का बजट भी तय किया था. लेकिन एक रिपोर्ट के अनुसार पीएम मोदी ने बिहार के खगड़िया जिले के जिस गांव तेलीहार में गरीब कल्याण रोजगार अभियान योजना की शुरुआत की थी. उस गांव में इस योजना का एक भी लाभार्थी नहीं है.

 

रिपोर्ट के अनुसार, योजना के शुरुआती दौर में जिन लोगों को काम मिला था, उन्होंने सिर्फ एक माह तक ही काम किया. दरअसल गांव में बाढ़ आने की वजह से प्रवासी मजदूर अन्य राज्य वापस लौट गए.

रिपोर्ट में बताया गया है कि बिहार के लिए गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत 17 हजार करोड़ रुपए आवंटित किए गए थे. जिनमें से बिहार सरकार ने अब तक सिर्फ 10 हजार करोड़ रुपए ही खर्च किए हैं. 7 हजार करोड़ रुपए अभी भी बचे हुए हैं.

Related Articles


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories