ताज़ा ख़बर
बड़ी खबर: राज्य पुलिस सेवा संवर्ग के दो अधिकारियों का तबादला, आदेश जारीCORONA BREAKING : प्रदेश में आज 2,450 नए कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि, 2,440 मरीज़ हुए स्वस्थ, देखें मेडिकल बुलेटिनBREAKING : लंबे इंतजार के बाद 10वीं-12वीं पूरक परीक्षा की समय सारिणी जारी, जानें टाइम टेबलBREAKING : सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल DKS को मिला नया अधीक्षक, आदेश जारीBIG BREAKING : प्याज की कालाबाजारी रोकने जिला प्रशासन सख्त, थोक मार्केट के बाहर लगेगी सब्जियों की रेट लिस्ट, अधिक दामों में बेचने पर होगी कार्रवाईONLINE FRAUD : न ATM का किया इस्तेमाल, न ही ऑनलाइन ट्रांजेक्शन… फिर भी खाते से उड़े साढ़े चार लाख, आखिर कैसे ?BREAKING : वरिष्ठ नागरिकों की समस्याओं के निवारण के लिए समर्पण अभियान का शुभारंभ, सदस्य बनने निर्धारित प्रोफार्मा में करे आवेदनCSK vs MI : आज IPL की दो सबसे सफल टीमें आमने-सामने, कौन मारेगा बाजी?BREAKING : दिग्गज भारतीय क्रिकेटर कपिल देव को आया हार्ट अटैक, अस्पताल में हुए भर्तीRaipur Crime News : कारोबारी का अपहरण करने वाले चौथे आरोपी को पुलिस ने रेलवे स्टेशन से धरदबोचा, योजना असफल होने पर 3 और कारोबारी थे निशाने पर

मरवाही उपचुनाव : JCCJ को लगातार तीसरा झटका, ऋचा ​जोगी के बाद अब ये उम्मीदवार का नामांकन रद्द

Hitesh dewanganOctober 17, 20201min

मरवाही उपचुनाव : JCCJ को लगातार तीसरा झटका, ऋचा ​जोगी के बाद अब ये उम्मीदवार का नामांकन रद्द

download - 2020-10-17T183540.822

 

पेंड्रा:  उपचुनाव को लेकर जोगी परिवार की अब आखिरी उम्मीद भी टूट गई। जोगी परिवार को एक बार फिर तगड़ा झटका अमीत जोगी और ऋचाि जोगी के बाद अब जेसीसीजे की एक और उम्मीदवार की भी नामांकन रद्द कर दिया है। बता दें कि पुष्पेश्वरी ने अपने नामांकन के साथ जेसीसीजे का बीफार्म जमा नही किया था। जिसके चलते उनका नामांकन निरस्त कर दिया गया। बता दें कि आज ही ऋचा जोगी का भी नामांकन रद्द कर दिया गया है। नामांकन विधि सम्मत नहीं होने के कारण निरस्त किया गया है। इससे पहले ऋचा जोगी की जाति प्रमाण पत्र को सस्पेंड किया गया था।

 

गौरतलब है कि राज्य छानबीन समिति ने अमित जोगी का भी नामांकन रद्द किया है। समिति ने अजीत जोगी की जाति के आधार पर अमित जोगी का जाति प्रमाण पत्र और नामांकन रद्द किया है। समिति ने तर्क दिया है कि 23 अगस्त 2019 को हाई पावर कमेटी ने अजीत जोगी को कंवर नहीं माना था। बेटे की जाति पिता की जाति से निर्धारित होती है। ऐसे में अमित जोगी को कंवर नहीं माना जा सकता।

 

 

अमित जोगी ने इस फैसले को गलत बताते हुए कहा है कि पूरी कार्रवाई अंधेरे में रखकर की गई है। मीडिया को भी अंधेरे में रखा गया। अमित के मुताबिक राज्य स्तरीय छानबीन समिति के फैसले की कॉपी दोपहर 2:30 बजे ​प्राप्त हुई। जो मेरे सागौन बंगला रायपुर के पते पर मिली।

छत्तीसगढ़ के राजनीतिक इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब जोगी परिवार मरवाही चुनाव से बाहर हो गया है। जाति का विवाद छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस अध्यक्ष अमित जोगी और उनकी पत्नी ऋचा जोगी के लिए बड़ा झटका साबित हुआ। शनिवार को जाति प्रमाण पत्र खारिज होने के चलते चुनाव अधिकारी ने दोनों के नामांकन रद्द कर दिए। राज्य स्तरीय उच्च जांच कमेटी ने अमित का जाति प्रमाण पत्र रद्द कर दिया था।

जिला चुनाव ऑफिस में शनिवार को नामांकन पत्रों की जांच पूरी हो गई। हाईपावर कमेटी ने चुनाव ऑफिस को अमित जोगी का जाति प्रमाण पत्र रद्द किए जाने का लेटर भेजा और उन्हें कंवर जाति का नहीं माना। यह आदेश एक दिन पहले 16 अक्टूबर को ही जारी किया गया। कमेटी इससे पहले अमित जोगी के पिता और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का जाति प्रमाण पत्र भी रद्द कर चुकी है।

अमित की जाति को को लेकर एक घंटे बहस के बाद चुनाव अधिकारी ने उनका नामांकन खारिज कर दिया। इसके बाद ऋचा जोगी के नामांकन को लेकर भी विवाद होता रहा। आखिरकार चुनाव अधिकारी ने ऋचा के नामांकन को भी कानूनी तौर पर सही नहीं माना और उसे भी खारिज करने के आदेश जारी कर दिए। छत्तीसगढ़ बनने के बाद पहली बार ऐसा हुआ है, जब पूरा जोगी परिवार मरवाही चुनाव से बाहर है।

अमित जोगी ने दो दिन का समय मांगा था


 

अमित ने इस मामले में अपना पक्ष रखने के लिए दो दिन का समय मांगा, लेकिन चुनाव अधिकारी नहीं माने। 31 अक्टूबर 2013 को अमित जोगी को कंवर जाति का प्रमाण पत्र जारी किया गया था।

जांच कमेटी ने कहा- बेटे की जाति पिता से होती है


 

जांच कमेटी ने कहा कि 20 से 23 सितंबर को डाक के जरिए अमित जोगी को नोटिस भेजा गया था। यह भी तर्क दिया कि अजीत जोगी को कंवर नहीं माना था। अभी बेटे की जाति पिता की जाति से तय होती है। ऐसे में अमित जोगी को कंवर नहीं माना जा सकता है। अजीत जोगी के भी जाति प्रमाणपत्र को समिति ने निरस्त कर दिया था। मामला कोर्ट में लंबित था, उसी समय अजीत जोगी का निधन हो गया।

जोगी परिवार के जाति विवाद को लेकर पहले से सियासत गरम है। इस बीच मरवाही उपचुनाव में अमित जोगी के नामांकन में आपत्ति कांग्रेस के अलावा गोंडवाना गणतंत्र पार्टी की ओर से उर्मिला मार्को और निर्दलीय प्रताप सिंह भानू ने भी दर्ज करवाई थी। तीनों के पास राज्य स्तरीय जांच कमेटी के उस आदेश की कॉपी थी, जिसमें अमित जोगी का जाति प्रमाण पत्र निरस्त किया गया था।

कांग्रेस प्रत्याशी केके ध्रुव ने चुनाव अधिकारी को दिए गए पत्र में यह भी कहा कि कमेटी के इस आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई थी, लेकिन इस पर कोई स्टे नहीं दिया गया। इसके साथ ही एफआईआर दर्ज कर जांच पर रोक भी नहीं लगाई गई है। जब पिता को ही गैर आदिवासी वर्ग का माना गया है तो अमित जोगी आदिवासी नहीं हो सकते। इस आदेश की कॉपी अमित जोगी के पास नहीं थी।

जोगी समेत उनकी पार्टी के 4 उम्मीदवारों ने नामांकन किया था


मरवाही सीट से अजीत जोगी विधायक थे। उनके निधन के बाद यह सीट खाली हुई। यहां उपचुनाव में नामांकन के अंतिम दिन 19 प्रत्याशियों ने पर्चा दाखिल किया। खास बात यह है कि छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (जेसीसीजे) के अध्यक्ष अमित जोगी और उनकी पत्नी ऋचा जोगी के अलावा उनकी पार्टी के दो और उम्मीदवारों ने नामांकन भरा था।

जोगी परिवार को पहले से आशंका थी


 

जोगी परिवार को पहले से आशंका थी कि उनके जाति प्रमाणपत्र का विवाद मरवाही उपचुनाव में खलल डाल सकता है। इसे देखते हुए पुष्पेश्वरी तंवर और मूलचंद सिंह का भी नामांकन कराया गया। अब अमित और ऋचा का पर्चा निरस्त होने के बाद पार्टी तंवर और मूलचंद में से किसी एक को चुनाव लड़ने की हरी झंडी देगी।

Related Articles


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories