ताज़ा ख़बर
मौसम अलर्टः देश को अभी बारिश से नहीं मिलेगी राहत, छत्तीसगढ़ समेत इन राज्यों के लिए जारी हुआ अलर्ट, जानिए अन्य जगहों पर कैसा रहेगा मौसम का हालBIG BREAKING : 14500 शिक्षकों की भर्ती को लेकर राज्य सरकार ने नियुक्ति आदेश जारी करने के दिए निर्देश, शिक्षा विभाग ने DPI को लिखा पत्रBIG BREAKING : IPS विवेकानंद सिन्हा को राज्य सरकार ने दिया प्रमोशन, बनाए गए ADG, इधर 4 अफसरों का ट्रांसफर का आदेश जारीइस जगह पर चल रहा था जिस्मफरोशी का धंधा, ऑनलाइन होती थी बुकिंग, 7 महिला समेत 13 लोग आपत्तिजनक हालात में गिरफ्तारBIG BREAKING : IAS अधिकारी के प्रभार में बड़ा फेरबदल, उमेश अग्रवाल को बनाया गया राजस्व बोर्ड का सदस्य, राज्य सरकार ने जारी किया आदेशमहापौर एजाज ढेबर की अच्छी पहल, अर्बन लॉन्ज ‘ब्लू टायलेट’ का पोस्टर लॉच, शहर के मुख्य बाजारों में 8-10 स्थानों में बनाए जाएंगे ब्लू टायलेटऑनलाईन एफआईआर और विवेचना में अब ई-हस्ताक्षर होगा मान्य, CCTNS योजना के तहत NCRB ने ली बैठकRAIPUR : संविदा भर्ती को लेकर बवाल, अस्पताल के डॉक्टरों ने खोला मोर्चा, डीन पर लगाया ये गंभीर आरोप, उग्र आंदोलन की दी चेतावनी, देखें वीडियो…तहसील के बाद अब पटना को मिलेगा नगर पंचायत का दर्जा : सिंहदेवCG BREAKING: 12वीं ओपन परीक्षा का परिणाम हुआ जारी, 52304 स्टूडेंट फर्स्ट डिवीजन से हुए पास, यहां देखें रिजल्ट

भारत की एक और ‘डिजिटल’ स्ट्राइक, बंद होगी चीन की फेक न्यूज फैक्ट्री

Sanjay sahuOctober 17, 20201min
WhatsApp Image 2020-10-17 at 11.25.34 AM

 

 

नई दिल्ली: सरकार ने न्यूज एग्रीगेटर्स और न्यूज एजेंसीज को डिजिटल मीडिया में 26 परसेंट विदेशी निवेश (FDI) के नियमों का पालन करने का आदेश दिया है. जारी किए गए नियमों के मुताबिक कंपनी का CEO एक भारतीय होना चाहिए, और सभी विदेशी कर्मचारी जो 60 दिन से ज्यादा से काम कर रहे हैं, उन्हें सिक्योरिटी क्लीयरेंस लेना होगा.

26 परसेंट FDI के नियम से चीन और दूसरी विदेशी कंपनियों पर नकेल कसी जाएगी जो भारत के डिजिटल मीडिया में निवेश कर रहे हैं. Daily Hunt, Hello, US News, Opera News, Newsdog जैसी कई चीनी और विदेशी कंपनियां इस वक्त देश में काम कर रही हैं. वो भारत के हितों को चोट पहुंचा सकते हैं और 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों की तरह भारत में भी असर डाल सकते हैं.

 

 

 

अगस्त 2019 में कैबिनेट ने डिजिटल मीडिया में 26 परसेंट FDI को मंजूरी दी थी. Department for Promotion of Industry and Internal Trade (DPIIT) के नए आदेश के मुताबिक अब इन सभी कंपनियों को एक साल के भीतर केंद्र सरकार की मंजूरी लेकर 26 परसेंट विदेशी निवेश के कैप का पालन करना होगा. सभी डिजिटल मीडिया न्यूज संस्थानों को शेयरहोल्डिंग जरूरतों को पूरा करने के लिए एक साल का वक्त दिया गया है.

DPIIT का कहना है कि हमें स्टेकहोल्डर्स की तरफ इस फैसले पर कुछ सफाई मांगी गई थी. इन सवालों पर विचार विमर्श के बाद ये साफ किया गया है कि 26 परसेंट विदेशी निवेश का फैसला कुछ तय कंपनियों पर लागू होगा जो भारत में रजिस्टर्ड हैं और मौजूद हैं.

ये नियम आत्म निर्भर भारत और जिम्मेदार डिजिटल न्यूज मीडिया का एक इकोसिस्टम तैयार करने के मकसद से लाया गया है. कंपनियों को कुछ और शर्तों का भी पालन करना होगा, जैसे कंपनी के बोर्ड में ज्यादातर डायरेक्टर्स भारतीय होने चाहिए. कंपनी का CEO भी एक भारतीय ही होना चाहिए. इसके अलावा कंपनी में उन सभी विदेशी कर्मचारियों को सरकार से क्लीयरेंस लेना होगा जो साल में 60 दिन से ज्यादा काम कर रहे हैं. सरकार के इस कदम से डिजिटल मीडिया पर फेक न्यूज की बाढ़ पर लगाम लगेगी।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें