ताज़ा ख़बर
CORONA BREAKING : प्रदेश में आज 2,376 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज़ों की पहचान, 16 की मौत, देखें मेडिकल बुलेटिनकोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ी खबर : चीनी कोरोना वैक्सीन एकदम सुरक्षित, एंटीबॉडी बनाने में भी सक्षमBIG BREAKING : पुलिस को मिली बड़ी सफलता, मुकेश अंबानी और अमिताभ बच्चन बनकर लाखों ठगने वालें पाकिस्तानी को दबोचा, 42 लाख नगदी के साथ 5 आरोपी गिरफ्तारकोरोना मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने में कारिया जिले ने रचा इतिहास, पूरे प्रदेश दूसरा रैंक परराजधानी में 10 लाख की चोरी : टूटी खिड़की देख सकते में आया परिवार, सोने-चांदी के जेवर समेत नकदी लेकर चोर फरारकंकली मंदिर नवयुवक दुर्गोत्सव समिति का 35वां सालभाजपा प्रदेश कार्यसमिति की मीटिंग आज, वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़ेंगे सभी सदस्यMP में राजनीतिक भूचाल : कमलनाथ ने मंत्री इमरती देवी को कह दिया ‘आइटम’, विरोध में BJP साधेगी मौनToday In History : 50 साल पहले इंडियन एयरफोर्स में हुई थी मिग-21 की एंट्रीBREAKING : वन मंत्री के निर्देश पर त्वरित अमल: राजनांदगांव के सात तहसीलदार तथा नायब तहसीलदारों का तबादला

भारत की एक और ‘डिजिटल’ स्ट्राइक, बंद होगी चीन की फेक न्यूज फैक्ट्री

Sanjay sahuOctober 17, 20201min

भारत की एक और ‘डिजिटल’ स्ट्राइक, बंद होगी चीन की फेक न्यूज फैक्ट्री

WhatsApp Image 2020-10-17 at 11.25.34 AM

 

 

नई दिल्ली: सरकार ने न्यूज एग्रीगेटर्स और न्यूज एजेंसीज को डिजिटल मीडिया में 26 परसेंट विदेशी निवेश (FDI) के नियमों का पालन करने का आदेश दिया है. जारी किए गए नियमों के मुताबिक कंपनी का CEO एक भारतीय होना चाहिए, और सभी विदेशी कर्मचारी जो 60 दिन से ज्यादा से काम कर रहे हैं, उन्हें सिक्योरिटी क्लीयरेंस लेना होगा.

26 परसेंट FDI के नियम से चीन और दूसरी विदेशी कंपनियों पर नकेल कसी जाएगी जो भारत के डिजिटल मीडिया में निवेश कर रहे हैं. Daily Hunt, Hello, US News, Opera News, Newsdog जैसी कई चीनी और विदेशी कंपनियां इस वक्त देश में काम कर रही हैं. वो भारत के हितों को चोट पहुंचा सकते हैं और 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों की तरह भारत में भी असर डाल सकते हैं.

 

 

 

अगस्त 2019 में कैबिनेट ने डिजिटल मीडिया में 26 परसेंट FDI को मंजूरी दी थी. Department for Promotion of Industry and Internal Trade (DPIIT) के नए आदेश के मुताबिक अब इन सभी कंपनियों को एक साल के भीतर केंद्र सरकार की मंजूरी लेकर 26 परसेंट विदेशी निवेश के कैप का पालन करना होगा. सभी डिजिटल मीडिया न्यूज संस्थानों को शेयरहोल्डिंग जरूरतों को पूरा करने के लिए एक साल का वक्त दिया गया है.

DPIIT का कहना है कि हमें स्टेकहोल्डर्स की तरफ इस फैसले पर कुछ सफाई मांगी गई थी. इन सवालों पर विचार विमर्श के बाद ये साफ किया गया है कि 26 परसेंट विदेशी निवेश का फैसला कुछ तय कंपनियों पर लागू होगा जो भारत में रजिस्टर्ड हैं और मौजूद हैं.

ये नियम आत्म निर्भर भारत और जिम्मेदार डिजिटल न्यूज मीडिया का एक इकोसिस्टम तैयार करने के मकसद से लाया गया है. कंपनियों को कुछ और शर्तों का भी पालन करना होगा, जैसे कंपनी के बोर्ड में ज्यादातर डायरेक्टर्स भारतीय होने चाहिए. कंपनी का CEO भी एक भारतीय ही होना चाहिए. इसके अलावा कंपनी में उन सभी विदेशी कर्मचारियों को सरकार से क्लीयरेंस लेना होगा जो साल में 60 दिन से ज्यादा काम कर रहे हैं. सरकार के इस कदम से डिजिटल मीडिया पर फेक न्यूज की बाढ़ पर लगाम लगेगी।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories