ताज़ा ख़बर
BIG BREAKING : साउंड संचालकों को बड़ी राहत, DJ और धुमाल लगाने जिला प्रशासन ​ने दी अनुमतिBREAKING : IAS अमिताभ जैन होंगे छत्तीसगढ़ के नए मुख्य सचिव, आरपी मंडल की लेंगे जगहBREAKING: पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में DRG का एक जवान शहीद, जवानों ने नक्सलियों के कैंप को किया ध्वस्तबड़ी खबर: राज्य पुलिस सेवा संवर्ग के दो अधिकारियों का तबादला, आदेश जारीCORONA BREAKING : प्रदेश में आज 2,450 नए कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि, 2,440 मरीज़ हुए स्वस्थ, देखें मेडिकल बुलेटिनBREAKING : लंबे इंतजार के बाद 10वीं-12वीं पूरक परीक्षा की समय सारिणी जारी, जानें टाइम टेबलBREAKING : सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल DKS को मिला नया अधीक्षक, आदेश जारीBIG BREAKING : प्याज की कालाबाजारी रोकने जिला प्रशासन सख्त, थोक मार्केट के बाहर लगेगी सब्जियों की रेट लिस्ट, अधिक दामों में बेचने पर होगी कार्रवाईONLINE FRAUD : न ATM का किया इस्तेमाल, न ही ऑनलाइन ट्रांजेक्शन… फिर भी खाते से उड़े साढ़े चार लाख, आखिर कैसे ?BREAKING : वरिष्ठ नागरिकों की समस्याओं के निवारण के लिए समर्पण अभियान का शुभारंभ, सदस्य बनने निर्धारित प्रोफार्मा में करे आवेदन

महिलाओं के खिलाफ अपराध के हर मामले में कार्रवाई अनिवार्य: गृह मंत्रालय

Hitesh dewanganOctober 10, 20201min

महिलाओं के खिलाफ अपराध के हर मामले में कार्रवाई अनिवार्य: गृह मंत्रालय

 

 


 

नई दिल्ली : महिलाओं के खिलाफ देश भर में बढते अपराध विशेष रूप से यौन हिंसा की घटनाओं को गंभीरता से लेते हुए केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को परामर्श जारी कर कहा है कि महिलाओं के खिलाफ अपराध के हर मामले में सभी नियमों का पालन करते हुए अनिवार्य कार्रवाई की जानी चाहिए। उत्तर प्रदेश के हाथरस में पिछले महीने एक युवती की मौत और उसके साथ कथित बलात्कार की घटना तथा देश के कुछ अन्य हिस्सों में भी महिलाओं के खिलाफ अपराधों के मामले में पुलिस की भूमिका को लेकर उठ रहे सवालों के बीच गृह मंत्रालय के महिला सुरक्षा विभाग ने सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को परामर्श जारी किया है।

परामर्श की प्रति सभी पुलिस महानिदेशकों तथा पुलिस आयुक्तों को भी भेजी गयी है। मंत्रालय ने कहा है कि वह इससे पहले भी समय समय पर इस तरह के परामर्श जारी कर चुका है और फिर से यह परामर्श दिया जाता है कि महिलाओं के खिलाफ अपराध और विशेष रूप से यौन हिंसा के मामलों में निर्धारित नियमों के अनुसार कार्रवाई किया जाना अनिवार्य है। यौन अपराध के मामलों में प्राथमिकी या जीरो प्राथमिकी दर्ज किया जाना अनिवार्य है । कानून में प्रावधान किया गया है कि यौन अपराध के मामलों की जांच दो महीने के भीतर पूरी की जानी चाहिए। मंत्रालय ने यह भी याद दिलाया है कि कानून में यह भी प्रावधान है कि इन नियमों का पालन नहीं करने वाले अधिकारियों के खिलाफ सजा तथा अन्य कार्रवाई का भी प्रावधान है।

 

 

 

यौन अपराधों के मामले में यह भी नियम है कि पुलिस को सूचना मिलने के बाद पीडि़ता की सहमति से पंजीकृत चिकित्सक से उसकी जांच करानी चाहिए। पीड़ित के मरने से पहले दिये गये लिखित या मौखिक बयान को भी तथ्य के रूप में माना जाना चाहिए। इन मामलों में फॉरेन्सिक सबूत भी दिशा निर्देशों के अनुरूप एकत्र किये जाने चाहिए और इसके लिए विशेष रूप से उपलब्ध किट का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। मंत्रालय ने कहा है कि यदि इन मामलों की जांच में निर्धारित नियम कानूनों का पालन नहीं किया जाता है तो यह न्याय में बाधा पहुंचाने के समान है। नियमों का पालन नहीं करने वाले अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का भी प्रावधान है। मंत्रालय ने सभी मुख्य सचिवों से कहा है कि वे अपने अपने राज्यों में इन नियमों का सख्ती से पालन सुनिश्चित करें और इस तरह के मामलों की निगरानी भी करें।

Related Articles


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories