ताज़ा ख़बर
BREAKING : राज्यपाल ने वापस लौटाई विशेष सत्र की फाइल, ये है वजहBollywood : मजेदार कॉमेडी फिल्म “LUDO” लेकर आ रहे डायरेक्टर अनुराग बसु, यहां देखें ट्रेलरBREAKING : वापस आया Tik-Tok, यहां सरकार ने एप पर बैन हटायाBREAKING : रायपुर रेलवे स्टेशन में मर्डर, खून से लथपथ मिली युवक की लाश, जांच में जुटी पुलिसअब 5 साल के बच्चे को भी हेलमेट अनिवार्य, वरना चालान तो कटेगा ही.. लाइसेंस भी रद्द होगाFestival Special Trains : त्यौहारी मौसम में रेलवे का फैसला, आज से पटरी पर दौड़ेगी 392 ट्रेनें.. देखें रूटChhattisgarh Police : दागी अफसरों की होगी छुट्टी, पुलिस की छवि सुधारने DGP अवस्थी का बड़ा फैसलाजम्मू-कश्मीर : शोपियां में जवानों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक दहशतगर्द ढेरCORONA BREAKING : प्रदेश में आज 2,376 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज़ों की पहचान, 16 की मौत, देखें मेडिकल बुलेटिनकोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ी खबर : चीनी कोरोना वैक्सीन एकदम सुरक्षित, एंटीबॉडी बनाने में भी सक्षम

कोरोना के चलते सात महीनों से सिनेमाघर बंद, करोड़ों की लागत से बनी फिल्मों की रफ्तार धीमी, बड़ा बजट, बड़ी मुसीबत और धंधा आधा, पढ़िए ये रिपोर्ट

Sanjay sahuOctober 9, 20201min

कोरोना के चलते सात महीनों से सिनेमाघर बंद, करोड़ों की लागत से बनी फिल्मों की रफ्तार धीमी, बड़ा बजट, बड़ी मुसीबत और धंधा आधा, पढ़िए ये रिपोर्ट

WhatsApp Image 2020-10-09 at 11.50.15 AM

 


 

 

मुंबई। इस साल सात महीनों से कोरोना विषाणु संक्रमण के चलते सारे सिनेमाघर बंद हैं । सात महीने की पूर्णबंदी ने करोड़ों की लागत से बनी फिल्मों की रफ्तार धीमी कर दी, उनके निर्माण का समय बढ़ा दिया और कई फिल्मों को डिब्बे में बंद करवा दिया। पूर्णबंदी हटाने के पांचवें दौर तक आते -आते फिल्मों की शूटिंग करने और सिनेमाघरों को खोलने की घोषणा की जा चुकी है। फिल्मजगत बुरे दौर से उबर रहा है मगर निमार्ताओं की मुसीबत है कि उनके पास बड़े सितारे, बड़े बजट की फिल्में हैं और उन्हें आधी क्षमता, आधा धंधा के दम पर इन फिल्मों की लागत निकालनी है।

 

 

इस साल 54 हिंदी फिल्में निर्माण के अलग अलग चरणों में हैं, जिन पर 700 से 800 करोड़ रुपए लगे हैं। कुछ रिलीज हो चुकी हैं, कुछ होना बाकी है। कुछ कम बजट की हैं तो कुछ बड़े बजट की। शकुंतला देवी, दिल बेचारा, ह्यल्ूाटकेस, रात अकेली है, खुदा हाफिज, सड़क 2 ,द बिग बुल, आश्रम, गुंजन सक्सेना, खाली पीली जैसी फिल्में नुकसान से बचने के लिए ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज करनी पड़ी, क्योंकि सिनेमाघर बंद थे।

-बिग बजट फिल्में लड़खड़ाईं

2020 में सलमान खान की राधे से लेकर अक्षय कुमार की सूर्यवंशी जैसी फिल्में रिलीज होनी थीं। मगर शूटिंग बीच में ही रोकनी पड़ी। ऐसी फिल्मों में सूर्यवंशी का बजट लगभग 135 करोड़ है। अक्षय कुमार की पृथ्वीराज चौहान का बजट 300 करोड़ है। अक्षय कुमार की बेल बॉटम 70 करोड़ में बनी है। आमिर खान की फिल्म लाल सिंह चड्ढा का बजट 200 करोड़ है, जो अब 2021 दिसंबर तक रिलीज होने की खबर है। सलमान खान की राधे का बजट 100 करोड़ है।

आदित्य चोपड़ा की रणबीर कपूर और संजय दत्त अभिनीत फिल्म शमशेरा भी 2020 में रिलीज होने वाली थी। अब ये फिल्में पूर्णबंदी के चलते 2021 में रिलीज होगी। रणवीर सिंह की फिल्म क्लास आॅफ 83 का बजट 150 करोड़ है। अजय देवगन की फिल्म मैदान जो 2020 में रिलीज होने जा रही थी अब 2021 में रिलीज होगी। इसका बजट 125 करोड़ है।

जॉन अब्राहम की फिल्म मुंबई सागा का बजट 100 करोड़

जॉन अब्राहम की फिल्म मुंबई सागा का बजट 100 करोड़ है। अमिताभ बच्चन और रणबीर कपूर अभिनीत फिल्म ब्रहमास्त्र का बजट 150 करोड़ है, जो पूर्णबंदी के पहले से ही रिलीज के लिए तैयार है। जॉन अब्राहम की फिल्म सत्यमेव जयते 2 भी निमार्णाधीन है, जिसका बजट 45 करोड़ है।

इसके अलावा संजय लीला भंसाली की फिल्म ह्यगंगूबाई काठियावाड़ीह्ण का काम पूर्णबंदी के चलते बीच में ही रुक गया है। सूत्रों की माने तो इस फिल्म का एक सेट 15 करोड़ में तैयार किया गया। इसके अलावा शाहिद कपूर अभिनीत जर्सी का बजट 25 करोड़ है। वरुण धवन की फिल्म कुली नंबर वन का बजट 65 करोड़, कंगना रानौत की फिल्म थलाइवी का बजट 62 करोड़, विक्की कौशल की फिल्म सरदार उधम सिंह का बजट 25 करोड़ है।

प्रदर्शन में होगी देरी

इनके अलावा निमार्णाधीन बंटी बबली 2, भूल भुलैया 2, हंगामा 2, तापसी पन्नू की हसीन दिलरुबा, फरहान अख्तर की तूफान, राजकुमार राव की छलांग का काम भी पूर्णबंदी के चलते लड़खड़ा गया। अब ये सभी फिल्में 2021 और 2022 में रिलीज होंगी। इन फिल्मों की शूटिंग का काम तो ठप हुआ ही पोस्ट प्रोडक्शन का काम भी करीबन पांच महीनों से रुका था। अब धीरे धीरे फिर से इन करोड़ों की बजट वाली फिल्मों का काम शुरू हो रहा है। मगर निर्माण में लगे अधिक समय के कारण इनके निमार्ताओं को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

बढ़ गया बजट

पूर्णबंदी हटाने का सिलसिला शुरू हुआ तो फिल्मों की शूटिंग की इजाजत मिल गई। मगर निमार्ताओं की मुसीबतें खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं। सेट लगाया, समय पर शूटिंग नहीं हो पाने से तोड़ना पड़ा। अब वापस सेट लगाना है। इससे फिल्मों का बजट बढ़ गया। पूर्णबंदी के नियमों के तहत की जा रही शूटिंग में पूरे सेट को बार बार सैनेटाइज करना, स्टाफ को कोरोना से बचने के लिए सुरक्षा किट देना, मेडिकल प्रोटेक्श्न देना।

-बिना काम के कर्मचारियों की तनख्वाह देना

बिना काम के कर्मचारियों की तनख्वाह देना। काम के दौरान बीमार होने वाले कर्मचारी को मुआवजा देना। ऐसे कई कारणों ने निमार्ताओं का बजट बिगाड़ दिया। निमार्ताओं का मानना है कि बड़े पैमाने पर टैक्स देने वाले इस उद्योग को सरकार की तरफ से पूर्णबंदी के दौरान रियायत मिलनी चाहिए। निर्माता यह भी चाहते हैं कि नामीगिरामी सितारे भी अपने मेहनताने में कटौती करे, जिससे निमार्ताओं को राहत मिले।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories