ताज़ा ख़बर
BIG BREAKING : साउंड संचालकों को बड़ी राहत, DJ और धुमाल लगाने जिला प्रशासन ​ने दी अनुमतिBREAKING : IAS अमिताभ जैन होंगे छत्तीसगढ़ के नए मुख्य सचिव, आरपी मंडल की लेंगे जगहBREAKING: पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में DRG का एक जवान शहीद, जवानों ने नक्सलियों के कैंप को किया ध्वस्तबड़ी खबर: राज्य पुलिस सेवा संवर्ग के दो अधिकारियों का तबादला, आदेश जारीCORONA BREAKING : प्रदेश में आज 2,450 नए कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि, 2,440 मरीज़ हुए स्वस्थ, देखें मेडिकल बुलेटिनBREAKING : लंबे इंतजार के बाद 10वीं-12वीं पूरक परीक्षा की समय सारिणी जारी, जानें टाइम टेबलBREAKING : सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल DKS को मिला नया अधीक्षक, आदेश जारीBIG BREAKING : प्याज की कालाबाजारी रोकने जिला प्रशासन सख्त, थोक मार्केट के बाहर लगेगी सब्जियों की रेट लिस्ट, अधिक दामों में बेचने पर होगी कार्रवाईONLINE FRAUD : न ATM का किया इस्तेमाल, न ही ऑनलाइन ट्रांजेक्शन… फिर भी खाते से उड़े साढ़े चार लाख, आखिर कैसे ?BREAKING : वरिष्ठ नागरिकों की समस्याओं के निवारण के लिए समर्पण अभियान का शुभारंभ, सदस्य बनने निर्धारित प्रोफार्मा में करे आवेदन

अजरबैजान और आर्मेनिया में भीषण युद्ध जारी, अब तक 550 लोगों की मौत.. जानें आखिर किस बात की है लड़ाई

Mahendra Kumar SahuSeptember 30, 20201min

अजरबैजान और आर्मेनिया में भीषण युद्ध जारी, अब तक 550 लोगों की मौत.. जानें आखिर किस बात की है लड़ाई

A fierce war continues in Azerbaijan and Armenia, so far 550 people have died .. Know what the fight is about

 

नई दिल्ली : पूरा विश्व जहां एक ओर कोरोना वायरस से जूझ रहा है तो वहीं दूसरी ओर दो देश अजरबैजान और आर्मेनिया में जंग छिड़ी हुई है. दोनों देश भारत और चीन की तरह सीमा विवाद में उलझे हैं. 2018 में यह विवाद शुरू हुआ है जो अब तक नहीं सुधारी जा सकी है. नतीजा यह रहा कि दोनों देशों की बीच युद्ध शुरू हो गई है. बीते रविवार से दोनों देश एक दूसरे पर भीषण अटैक कर रहे हैं. खबरों की माने तो आपसी हमले से अब तक दोनों तरफ के सैनिकों और आम लोगों को मिलाकर साढ़े 500 लोगों की जानें जा चुकी है.

 

 

क्या है विवाद?

 

 

यह पुरा विवाद नागरनो-काराबख इलाके को लेकर है, यह अभी अजरबैजान में पड़ता है, लेकिन अभी आर्मेनिया की सेना का यहां पर कब्जा है. करीब चार हजार वर्ग किमी. का ये पूरा इलाका पहाड़ी है, जहां तनाव की स्थिति बनी रहती है. मौजूदा तनाव 2018 में शुरू हुआ था, जब दोनों सेना ने सीमा से सटे इलाके में अपनी सेनाओं को बढ़ा दिया था. अब ये तनाव युद्धक हो चुका है.

 

 

एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप

दोनों देश एक-दूसरे पर युद्ध थोपने का आरोप लगा रहे थे. आर्मेनिया ने दावा किया है कि उसने अजरबैजान के चार हेलिकॉप्टरों को मार गिराया और 33 टैंक एवं युद्धक वाहन को नेस्तानाबूद कर दिया. हालांकि, अजरबैजान ने आर्मेनिया के इसका खंडन किया था. रविवार को अजरबैजान के राष्ट्रपति ने कहा था कि उनकी सेना को नुकसान हुआ है, लेकिन उन्होंने कोई विवरण नहीं दिया है.

संघर्ष विराम की अपील, लेकिन नहीं आ रही है काम

 

 

हालांकि सकारात्मक पक्ष यह है कि विश्व भर से आ रही प्रतिक्रियाओं में युद्ध बंदी की आवाज उठाने वाली आवाजें तेज हैं. रूस ने आर्मेनिया और अजरबैजान से तत्काल संघर्षविराम करने, दोनों पक्षों को संयम बरतने और बातचीत से मसले को सुलझाने को कहा है. दूसरी ओर अमेरिका ने कहा कि उसने दोनों देशों से तुरंत लड़ाई बंद करने के साथ ही विवादित बयानों, कार्रवाइयों से बचने का आग्रह किया है. वहीं, फ़्रांस ने भी दोनों देशों से संघर्षविराम और बातचीत का आग्रह किया है.

Related Articles


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories