ताज़ा ख़बर
CORONA BREAKING : प्रदेश में आज 2,491 नए मरीजों की पुष्टि, 6 की मौत, देखें मेडिकल बुलेटिनकांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी राज्योत्सव में हो सकते है शामिल, CM बघेल ने दिया न्यौताबड़ी खबर: लंबे समय बाद PCCF राकेश चतुर्वेदी का प्रमोशन, 5 IFS सीसीएफ से एडिशनल पीसीसीएफ के बदले पदभार, आदेश जारीबिहार के बाद अब तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने किया ऐलान कहा- प्रदेश के लोगो को मुफ्त में लगवाएंगें कोरोना वैक्सीनRAIPUR CRIME: INSTAGRAM पर युवती की फेक प्रोफाइल बना कपड़ा व्यापारी को मिलने बुलाया, फिर किडनैप कर ले गए आरोपी, 40 लाख की फिरौती मांगने वाले 3 आरोपियों को 8 घंटों के भीतर पुलिस ने धरदबोचाबिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी कोरोना की चपेट में, खुद ट्वीट कर दी जानकारीCRIME : हत्या मामले में बड़ा खुलासा, शराब पीने को लेकर हुए मामूली विवाद के चलते कर दी हत्या, दोस्त ही निकला हत्याराBIG BREAKING : राजधानी में देर रात युवक का अपहरण, 30 लाख कि मांगी फिरौती, चंद घंटों में 3 आरोपी गिरफ्तारछत्तीसगढ़ में प्याज की उपलब्धता और कालाबाजारी को रोकने सरकार सख्त, सभी जिला कलेक्टरों को दिए निर्देशBIG BREAKING: गुल्लू शराब लूटकांड में पुलिस को कड़ी मशक्कत के बाद मिली सफलता, 5 आरोपियों ने दी थी वारदात को अंजाम, 1 आरोपी ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच लड़ाई शुरू, 16 की मौत और 100 से अधिक घायल

Sanjay sahuSeptember 28, 20201min

आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच लड़ाई शुरू, 16 की मौत और 100 से अधिक घायल

WhatsApp Image 2020-09-28 at 8.20.22 AM

 

 


आर्मीनिया । आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच अलगाववादी नागोरनो-करबाख इलाके को लेकर लड़ाई शुरू हो गई। इस लड़ाई में 16 लोगों की मौत हो गई जबकि 100 से ज्यादा लोग घायल हो गए। इस बात की जानकारी नगोरनो-करबाख सेना के उप प्रमुख अरतुर सरकिसियान ने दी। हालांकि यह अभी स्पष्ट नहीं हो सका है कि इन लोगों में सैनिकों और आम नागरिकों की संख्या कितनी है।

आर्मीनिया ने अजरबैजान के दो हेलीकॉप्टोंर को मार गिराने और तीन टैंकों को तोप से निशाना बनाने का भी दावा किया है, लेकिन अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने इन दावों का खंडन किया है। दोनों देशों के बीच नागोरनो-करबाख पर कब्जे को लेकर विवाद है। हालांकि इस बार लड़ाई क्यों शुरू हुई है यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है। जुलाई में दोनों पक्षों के बीच संघर्ष के बाद यह सबसे बड़ी लड़ाई है। जुलाई में दोनों पक्षों के कुल 16 लोगों की मौत हुई थी।

 

 

नगोरनो-करबाख के अधिकारियों ने बताया कि अजरबैजान से की ओर से दागे गए गोले राजधानी स्टेपनाकेर्ट और मार्टकेर्ट एवं माटुर्नी कस्बों में गिरे। आर्मीनियाई रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता आर्टसरन होवहानिसियन ने कहा कि अजरबैजान की ओर से दागे गोले आर्मीनिया की सीमा में वर्डनिस कस्बे के पास गिरे। आर्मीनिया के मानाधिकार लोकपाल अरमान टटोयान ने कहा कि हमले में एक महिला और एक बच्चे की मौत हुई है, जबकि माटुर्नी क्षेत्र में दो नागरिक घायल हुए हैं।

अजरबैजान के हेलीकॉप्टर को मार गिराया
आर्मीनियाई रक्षा मंत्रालय के एक अन्य प्रवक्ता सुशान स्टेपनयन ने दावा किया कि आर्मीनिया की सेना ने अजरबैजान के दो हेलीकॉप्टरों को मार गिराया और तीन टैंकों को निशाना बनाया है।अजरबैजान के राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव ने टेलीविजन के जरिये राष्ट्र को दिए संदेश में कहा कि आर्मीनिया की बमबारी की वजह से अजरबैजान के सैनिकों और नागरिकों का नुकसान हुआ है। हालांकि उन्होंने इसकी विस्तृत जानकारी नहीं दी। राष्ट्रपति ने दुश्मन सेना के कई यूनिट के सैन्य उपकरणों को भी नष्ट करने का दावा किया।

तुर्की ने आर्मीनिया हमले की निंदा की

इस मामले में अजरबैजान के सहयोगी तुर्की में सत्तारूढ़ पार्टी के प्रवक्ता उमर सेलिक ने ट्वीट किया कि हम अजरबैजान पर आर्मीनिया के हमले की कड़ी निंदा करते हैं। उसने एक बार फिर उकसावे की कार्रवाई की है और कानूनों को नजरअंदाज किया है। उन्होंने कहा कि तुर्की अजरबैजान के साथ खड़ा रहेगा। उन्होंने कहा कि आर्मीनिया आग के साथ खेल रहा है और क्षेत्रीय शांति को खतरे में डाल रहा है।

आर्मीनिया ने तुर्की को चेतावनी दी

आर्मीनिया के प्रधानमंत्री निकोलस ने तुर्की को युद्ध में किसी भी तरह की भूमिका को लेकर चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि तुर्की इस संघर्ष में शामिल न हो। अगर वह इसमें शामिल पाया जाता है तो उसे इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।

क्या है मामला?

दोनों देश 4400 वर्ग किलोमीटर में फैले नागोरनो-करबाख नाम के हिस्से पर कब्जा करना चाहते हैं। नागोरनो-करबाख इलाका अंतरराष्?ट्रीय रूप से अजरबैजान का हिस्?सा है, लेकिन उस पर आर्मीनिया के जातीय गुटों का कब्?जा है। 1991 में इस इलाके के लोगों ने खुद को अजरबैजान से स्वतंत्र घोषित करते हुए आर्मीनिया का हिस्सा घोषित कर दिया। उनके इस हरकत को अजरबैजान ने सिरे से खारिज कर दिया। उल्लेखनीय है कि नगोरनो-करबाख अजरबैजान में आर्मीनियाइ जाति के लोगों का एन्क्लेव है और वर्ष 1994 में युद्ध समाप्त होने के बाद से ही अजरबैजान के नियंत्रण से बाहर है।

रूस ने युद्धविराम का आह्वान किया

रूस के रक्षा मंत्रालय ने आर्मीनिया और अजरबैजान के बीच जारी युद्ध को तुरंत रोकने की मांग की है। रूस ने कहा है कि वह मध्यस्थता कर सकता है, लेकिन इसके लिए युद्धविराम की तत्काल जरूरत है। रूसी विदेशमंत्री सर्जेई लावरोव दोनों पक्षों के बीच संघर्ष विराम कराने के लिए गहन संपर्क कर रहे हैं और हालात को स्थिर करने के लिए बातचीत शुरू की है।

पोप ने शांति के लिए प्रार्थना की: वेटिकन में कैथोलिक धर्म के शीर्ष नेता पोप ने रविवार को कहा कि वह दोनों देशों के बीच शांति के लिए प्रार्थना कर रहे हैं। उन्होंने दोनों देशों से आह्वान किया कि वे सद्भावना और बंधुत्व के ठोस आधार पर संवाद के जरिये शांतिपूर्ण समाधान की पहल करें।

Related Articles


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories