ताज़ा ख़बर
CORONA BREAKING : प्रदेश में आज 2,046 नए कोरोना मरीजों की पहचान, 2,017 मरीज़ हुए स्वस्थ, देखें मेडिकल बुलेटिनRAIPUR CRIME: बैंक में बंधक भूमि भवन को कर दिया विक्रय, दो सगे भाइयों के खिलाफ 24 लाख की धोखाधड़ी का अपराध दर्जगोबर विक्रय से प्राप्त रूपये से किसान शिवनारायण ने खरीदे 2 और मवेशी, राज्य सरकार को इस योजना के लिए दिया धन्यवादबड़ी खबर : फेसबुक इंडिया की पब्लिक पॉलिसी हेड आंखी दास ने कंपनी छोड़ी, पक्षपात के लगे थे आरोपBREAKING : दीपिका पादुकोण की मैनेजर करिश्मा प्रकाश के ठीकानों में NCB की दबिश, ड्रग्स मिलने के बाद भेजा समनबड़ी खबर: राजधानी में चाकूबाजी में घायल युवक इलाज के दौरान मौत, परिजनों ने थाना पहुंच किया हंगामाबड़ी खबर : पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष के बेटे की गुंडागर्दी : सरेराह 11 लोगों को कुचला, एक मासूम की मौत, चक्काजामBREAKING : अब रायपुर और दुर्ग स्टेशन से किसान रेल की सुविधा, फल व सब्जी के भाड़े में मिलेगी 50 प्रतिशत की छूटBREAKING: पूर्व पार्षद ने भाजपा अध्यक्ष सुंदरानी के खिलाफ की टिप्पणी, आक्रोशित भाजपाई पहुंचे थानेCRIME : चाइल्ड पोर्नोग्राफी मामले में 2 और FIR, NCRB से मिली जांच रिपोर्ट के बाद रायपुर पुलिस ने दर्ज किया मामला

मिनटों में टूट गया डॉक्टर बनने का सपना : 700 किमी दूर था NEET का एग्जाम सेंटर, लेट हुआ तो नहीं मिली एंट्री

Hitesh dewanganSeptember 14, 20201min

मिनटों में टूट गया डॉक्टर बनने का सपना : 700 किमी दूर था NEET का एग्जाम सेंटर, लेट हुआ तो नहीं मिली एंट्री

 

 


 

कोलकाता : बिहार के दरभंगा जिले का रहने वाला युवक ने देखा था डॉक्टर बनने का सपना सालों का मेहनत हुआ बेकार। बिहार से कोलकाता के लिए 700 किलोमीटर दूरी तय करके आया युवक 24 घंटे से ज्यादा नॉन-स्टॉप यात्रा की, बसें बदलीं, कैब ली लेकिन फिर भी 10 मिनट परीक्षा में लेट होने से वो परीक्षा देने से चूक गया।

बता दे कि 19 साल के संतोष कुमार यादव सिर्फ दस मिनट लेट होने के चलते एग्जाम देने से चूक गए, वो सॉल्टलेक के निजी स्कूल में जहां उनका परीक्षा केंद्र था, वहां प्रवेश से वंचित रह गए, संतोष कुमार यादव ने बताया कि उन्होंने गार्ड से अनुरोध किया, प्रिंसिपल से मिलने गया, लेकिन किसी ने परीक्षा में शामिल होने की अनुमति नहीं दी।

 

सड़क जाम से हुई थी 6 घंटे की देर

युवक ने बताया कि उनकी बस शनिवार को भयंकर जाम में फंस गई थी, इसी के कारण वो परीक्षा देने से रह गए। वो शनिवार सुबह 8 बजे बिहार से एक बस में सवार हुए थे। इसके बाद मुजफ्फरपुर और पटना के बीच बड़े पैमाने पर जाम था जिसके कारण उन्हें 6 घंटे का नुकसान हुआ. उन्होंने बताया कि हम पटना से रात 9 बजे निकले और रविवार को दोपहर लगभग 1 बजे कोलकाता पहुंचे. फिर मैंने एक कैब ली और दोपहर 1:40 बजे के आसपास परीक्षा केंद्र पर पहुंच गया।

 

परीक्षा केंद्र में प्रवेश करने की समय सीमा दोपहर 1:30 बजे थी। एग्जाम दोपहर 2 बजे शुरू होने से आधा घंटा पहले पहुंचने का स्लॉट था। यादव का कहना है कि वह दो दिनों से बस का टिकट बुक करने की पूरी कोशिश कर रहा था और आखिरकार शनिवार को उसे टिकट मिल पाया। किसान के बेटे, संतोष ने अपनी कैब से परीक्षा केंद्र पहुंचने के लिए 300 रुपये का भुगतान भी किया। किशोर ने दुखी मन से कहा क‍ि मैंने एक महत्वपूर्ण वर्ष खो दिया है। अब देखेंगे कि क्या होता है, अब अगले साल की परीक्षा की तैयारी शुरू करनी होगी। इस तरह मायूसी के साथ वो फिर वापस अपने घर को लौट गए।

Related Articles


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories