ताज़ा ख़बर
CORONA BREAKING : प्रदेश में आज 2,046 नए कोरोना मरीजों की पहचान, 2,017 मरीज़ हुए स्वस्थ, देखें मेडिकल बुलेटिनRAIPUR CRIME: बैंक में बंधक भूमि भवन को कर दिया विक्रय, दो सगे भाइयों के खिलाफ 24 लाख की धोखाधड़ी का अपराध दर्जगोबर विक्रय से प्राप्त रूपये से किसान शिवनारायण ने खरीदे 2 और मवेशी, राज्य सरकार को इस योजना के लिए दिया धन्यवादबड़ी खबर : फेसबुक इंडिया की पब्लिक पॉलिसी हेड आंखी दास ने कंपनी छोड़ी, पक्षपात के लगे थे आरोपBREAKING : दीपिका पादुकोण की मैनेजर करिश्मा प्रकाश के ठीकानों में NCB की दबिश, ड्रग्स मिलने के बाद भेजा समनबड़ी खबर: राजधानी में चाकूबाजी में घायल युवक इलाज के दौरान मौत, परिजनों ने थाना पहुंच किया हंगामाबड़ी खबर : पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष के बेटे की गुंडागर्दी : सरेराह 11 लोगों को कुचला, एक मासूम की मौत, चक्काजामBREAKING : अब रायपुर और दुर्ग स्टेशन से किसान रेल की सुविधा, फल व सब्जी के भाड़े में मिलेगी 50 प्रतिशत की छूटBREAKING: पूर्व पार्षद ने भाजपा अध्यक्ष सुंदरानी के खिलाफ की टिप्पणी, आक्रोशित भाजपाई पहुंचे थानेCRIME : चाइल्ड पोर्नोग्राफी मामले में 2 और FIR, NCRB से मिली जांच रिपोर्ट के बाद रायपुर पुलिस ने दर्ज किया मामला

सूरजपुर : स्कूल संचालक परिजन से ट्यूशन फीस के नाम पर वसुल रहे मोटी रकम, जिला शिक्षा अधिकारी नही दे रहे ध्यान

Hitesh dewanganSeptember 11, 20201min

सूरजपुर : स्कूल संचालक परिजन से ट्यूशन फीस के नाम पर वसुल रहे मोटी रकम, जिला शिक्षा अधिकारी नही दे रहे ध्यान

 

 


 

सुरजपुर,11 सितम्बर 2020 : प्रदेश के स्कूली शिक्षा मंत्री के गृह जिले में जिला शिक्षा अधिकारी के संरक्षण में निजी संकुल संचालकों द्वारा लॉक डाउन दौरान के साथ टिव्सन फीस के अलावा तमाम तरह के फीस बता कर मोटी रकम वसूलने का मामला सामने आया है। सामाजिक कार्यकर्ता दीपक कर, रिंकू राजपूत ने निजी स्कूलों की मनमानी को लेकर स्कूली शिक्षा मंत्री के नाम सुरजपुर जिला शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन सौपा है।

ज्ञापन के माध्यम से उन्होंने बताया कि जिस तरह पूरा विश्व महामारी के दौर से गुजर रहा है ऐसे में हमारे छत्तीसगढ़ प्रदेश की स्थिति भी सन्तुलित नही है। लगातार मरीजों की संख्या बढ़ोतरी हो रही है। लगभग 6 महीनों से सभी शिक्षण संस्था बन्द है। छात्रों की पढ़ाई बाधित है, लोगो को इस महामारी के दौर में अर्थिक समस्याओ से होकर जीवन गुजारना पड़ रहा है।

ऐसे में प्राइवेट विद्यालयों द्वारा बच्चो के माता पिता के पास माह अप्रेल से लेकर सितम्बर माह तक कि पूरी फीस ट्यूशन के फीस के रूप में मैसेज के माध्यम से मांगी जा रही है।

आगे बताया कि जब पूरे लॉक डाउन में बच्चे स्कूल ही नही गए,पूरे स्कूल बंद थे तो ऐसे में पूरा फीस लेना सही नही है इससे माता पिता पर अत्यधिक बोझ बढ़ेगा, स्कूल प्रशासन द्वारा बच्चो को ऑनलाइन ट्यूशन के नाम पर पूरी फीस बिना किसी रियायत दिए बगैर परिजनों को फीस जमा करने का दबाव बनाया जा रहा है।

स्कूलों द्वारा शोशल मीडिया के माध्यम से अप्रेल से लेकर सितम्बर तक कि फीस मांगी जा रही है, जबकि नॉर्मल समय में मई और जून महीने में स्कूलों की गर्मी छुटटी होता है। बावजूद पूरी फीस ट्यूशन के रूप में लिया जा रहा है। बच्चो के परिजनों की आर्थिक समस्याओं को देखते हुए फीस में रियायत के साथ ही जायज महीनों की फीस ही लेने हेतु स्कूल प्रशासन को आदेशित करने की मांग की है।

इस समद्ध में जिला शिक्षा अधिकारी विनोद राय से बात करने की कोसीस की गई। किंतु जिला शिक्षा अधिकारी मीडिया से दूर रहते है। किसी प्रकार से कोई भी जानकारी नही होना कह कर पल्ला झाड़ने का कार्य करते है।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories